अमेरिका में बसी भारतीय पत्रकार ने अकबर पर लगाया रेप का आरोप, पूर्व मंत्री ने माना, जो हुआ सहमति से हुआ

अमेरिका में रहने वाली एक महिला पत्रकार ने आरोप लगाया है कि भारत में एशियन एज अखबार में काम करने के दौरान एमजे अकबर ने उनके साथ एक होटल में रेप किया था। अकबर ने रेप के आरोपों को खारिज करते हुए कहा है कि वे दोनों रिलेशनशिप में थे और जो हुआ सहमति से हुआ।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

सोशल मीडिया पर #MeToo मुहिम के तहत 20 से ज्यादा महिलाओं द्वारा लगाए गए यौन उत्पीड़न के आरोपों के बाद अब मोदी सरकार के पूर्व मंत्री एम जे अकबर पर एक महिला पत्रकार ने रेप का आरोप लगाया है। अमेरिका में बसी भारतीय पत्रकार पल्लवी गोगोई ने एशियन एज में काम करने के दौरान अकबर द्वारा रेप करने का आरोप लगाया है। अमेरिका में नेशनल पब्लिक रेडिये की चीफ बिजनेस एडिटर पल्लवी गोगोई ने द वाशिंगटन पोस्ट में अपनी आपबीती में बताया है कि एशियन एज में काम करने के दौरान एमजे अकबर ने जयपुर के एक होटल में उनके साथ रेप किया था।

पल्लवी गोगोई के आरोपों पर अकबर ने सफाई देते हुए रेप के आरोपों को खारिज किया है। उन्होंने कहा है कि करीब 24 साल पहले वह और पल्लवी सहमति से रिलेशनशिप में थे, जो कई महीनों तक चला। उन्होंने कहा कि तब हमारे संबंधों को लेकर उनके घरेलू जीवन में भी कलह हुई थी। हालांकि बाद में ये संबंध खराब मोड़ पर खत्म हो गया। अकबर के बचाव में उनकी पत्नी ने भी बयान जारी किया है। उन्होंने भी वही बातेे कही हैं, जो अकबर ने कही हैं।

अपनी आपबीती में पल्लवी गोगोई ने लिखा है, “आज मैं जो शेयर कर रही हूं, वो मेरी जिंदगी की सबसे दुखद याद है।” उन्होंने आगे लिखा, एशियन एज अखबार के एडिटर इन चीफ रहे एमजे अकबर ने अपने पद का इस्तेमाल करते हुए मुझे अपना शिकार बनाया। इस तकलीफदेह याद को मैं पिछले 23 साल से भूलने की कोशिश कर रही हूं। दो दशक पहले मैंने अपने दो दोस्तों को यह कहानी बताई थी। उसी समय अपने पति से भी इसे शेयर किया था। एमजे अकबर ने मेरे साथ जयपुर में रेप किया था।”

वाशिंगटन पोस्ट में छपी पल्लवी की आपबीती के अनुसार 23 साल पहले जब वह एशियन एज में काम करती थीं, तब एक कार्यक्रम के लिए वे जयपुर गई थीं। वहां अकबर भी थे। अकबर ने खबर पर चर्चा के लिए पल्लवी को अपने होटल के कमरे में बुलाया, जहां उन्होंने उनका रेप किया। पल्लवी के अनुसार इस दौरान दोनों के बीच काफी हाथापई भी हुई, लेकिन अंत में अकबर अपने मकसद में कामयाब रहे। उन्होंने लिखा, “मैंने काफी संघर्ष किया, लेकिन वो शारीरिक तौर पर मुझसे ज्यादा ताकतवर थे। उन्होंने मेरे कपड़े फाड़ दिये और मेरा रेप किया।” पल्लवी ने लिखा है कि इस घटना के बाद वह इतनी शर्मिंदगी महसूस कर रही थीं कि उन्हें पुलिस में शिकायत करने या किसी को बताने की हिम्मत नहीं हुई। पल्लवी ने लिखा, “क्या मेरी बात पर कोई भरोसा करता? मैं खुद को ही दोषी मान रही थी कि मैं होटल के कमरे में गई ही क्यों?”

पल्लवी ने इससे पहले 1994 की एक और घटना का जिक्र करते हुए कहा, “मैं 23 साल की उम्र में ओपी-ईडी पेज की संपादक बन गई थी। मेरे लिए यह छोटी उम्र में एक बड़ी जिम्मेदारी थी। मैं उनके ऑफिस में अपना पेज दिखाने गई थी। मैंने उन्हें बताया कि किस तरह उसकी हेडलाइन्स और रोचक बनाई हैं। अकबर ने मेरे काम की तारीफ की और अचानक से मुझे किस करने लगे। मैं किसी तरह वहां से बाहर निकली। मेरा चेहरा शर्मिंदगी और गुस्से से लाल था। मेरी हालत देखकर एक सहयोगी ने जब मुझसे पूछा कि क्या हुआ तो मैंने तुरंत उससे पूरी बात बतायी।”

पल्लवी ने इसके बाद एक औऱ घटना का जिक्र करते हुए लिखा, कुछ महीनों बाद मुझे मैगजीन के लॉन्च के लिए मुंबई बुलाया गया था। वहां अकबर ने मैगजीन के ले-आउट देखने के लिए ताज होटल के अपने कमरे में बुलाया। वहां उन्होंने फिर मुझे किस करने की कोशिश की तो मैंने उन्हें धक्का दे दिया। इस दौरान हाथापाई में मेरे चेहरे पर खरोंच भी आ गई। मैं वहां से रोते हुए दौड़कर बाहर निकली। इसके बाद जब दिल्ली आने पर अकबर ने मुझे धमकी दी कि अगर मैंने किसी तरह का विरोध किया तो वो मुझे नौकरी से निकाल देंगे। लेकिन मैंने अखबार नहीं छोड़ा। मैं सुबह आठ बजे आती थी। मेरे लक्ष्य 11 बजे तक ओपी-ईडी पेज को तैयार करना रहता था।”

पल्लवी ने आगे लिखा, “अपने ऊपर यौन शोषण के आरोप लगने के बाद अकबर विदेश राज्य मंत्री के पद से इस्तीफा दे चुके हैं। उन्होंने महिला पत्रकारों की ओर से लगाए गए सभी आरोपों को बेबुनियाद बताया और एक शिकायतकर्ता के खिलाफ कोर्ट पहुंच गए, इससे मुझे कोई हैरानी नहीं हुई। वो अपना 'सच' गढ़ने में लगे हैं। मुझे अपनी आपबीती आज सामने लाकर कुछ नहीं हासिल होने वाला है, लेकिन ये दिल दहला देने वाला अनुभव था, जिसे करीबी लोग समझेंगे।” उन्होंने कहा कि वह आज उन महिलाओं के समर्थन में लिख रही हैं जिन्होंने अपने साथ दर्दनाक घटना को बयान किया। साथ ही अपने जवान बेटे और बेटी के लिए भी, ताकि जब कोई उन्हें शिकार बनाने की कोशिश करे तो वे लड़े सकें। साथ ही वो जान सकें कि 23 साल पहले मेरे साथ क्या हुआ था, मैं कैसे बुरे वक्त से गुजरीं हूं और अब मैं उससे आगे बढ़ रही हूं।

बता दें कि मोदी सरकार में विदेश राज्यमंत्री रहे पूर्व पत्रकार एमजे अकबर पर बीते दिनों कई महिला पत्रकारों ने सोशल मीडिया पर चल रहे #MeToo मुहिम के तहत यौन शोषण के आरोप लगाए हैं। जिसके बाद अकबर ने सबसे पहले आरोप लगाने वाली प्रिया रमानी नाम की वरिष्ठ पत्रकार के खिलाफ मानहानि का मुकदमा ठोका है। लेकिन चौतरफा लग रहे आरोपों के बाद दबाव में आकर कुछ दिन पहले केंद्र सरकार को एम जे अकबर से इस्तीफा लेना पड़ा। फिलहाल अकबर के मामले की सुनवाई अदालत में चल रही है।

लोकप्रिय