उत्तराखंड: बेरोजगारी के मुद्दे पर उपवास रखेंगे पूर्व CM हरीश रावत, बोले- बेरोजगार नौजवानों की व्यथा लाऊंगा सामने

उत्तराखंड के पूर्व सीएम और कांग्रेस नेता हरीश रावत ने देवभूमि में बेरोजगारी के मुद्दे पर कहा कि मैं 1 सितंबर को बेरोजगार नौजवानों की व्यथा को समाज और राज्य के नीति नियंताओं के सामने लाने के लिए अपने आवास पर उपवास रखूंगा।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

देश में बढ़ रही बेरोजगारी को लेकर ना सिर्फ केंद्र की मोदी सरकार बल्कि राज्यों में बीजेपी की सरकारों को भी विपक्ष की ओर से लगातार घेरा जा रहा है। उत्तराखंड के पूर्व सीएम हरीश रावत ने भी अब त्रिवेंद्र सरकार पर बेरोजगारी के मुद्दे को लेकर घेरने का मन बना लिया है।

इसे भी पढ़ें- राहुल गांधी का PM मोदी पर निशाना, बोले- कोरोना से पहले ही था अर्थव्यवस्था का बुरा हाल, सुधार के लिए भी दिया सुझाव

न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक उत्तराखंड के पूर्व सीएम और कांग्रेस नेता हरीश रावत ने देवभूमि में बेरोजगारी के मुद्दे पर कहा है कि मैं 1 सितंबर को बेरोजगार नौजवानों की व्यथा को समाज और राज्य के नीति नियंताओं के सामने लाने के लिए अपने आवास पर उपवास रखूंगा। दरअसल, उत्तराखंड में फरवरी 2022 में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। ऐसे में अब राज्य सरकार के खिलाफ रावत बतौर मुखर विपक्ष की तरह सक्रिय हो गए हैं। वो लगातार राज्य में बेरोजगारी, पलायन जैसे मुद्दो पर सरकार को घेरते रहे हैं।

इधर, कांग्रेस नेता राहुल गांधी भी देश में बढ़ रही बेरोजगारी और गिरती अर्थव्यवस्था को लेकर सरकार को आड़े हाथों लेते रहे हैं। बुधवार को भी कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने एक समाचार पोर्ट की खबर का हवाला देते हुए केंद्र में बैठी मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा है कि पिछले 4 महीनों में क़रीब 2 करोड़ लोगों ने नौकरियां गंवायी हैं। राहुल गांधी ने कहा कि 2 करोड़ परिवारों का भविष्य अंधकार में है। राहुल गांधी ने तंज कसते हुए कहा कि फेसबुक पर झूठी खबरें और नफ़रत फैलाने से बेरोज़गारी और अर्थव्यवस्था के सर्वनाश का सत्य देश से नहीं छुप सकता है।

आपको बता दें, सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकॉनमी (सीएमआईई) के आंकड़ों में यह बात सामने आई है कि अप्रैल से अब तक 1.89 करोड़ लोगों को नौकरी से हाथ धोना पड़ा है। रिपोर्ट की माने तो पिछले महीने यानी जुलाई में लगभग 50 लाख लोगों ने नौकरी गंवाई है। आंकड़ों के अनुसार, अप्रैल में 1.77 करोड़ और मई में लगभग 1 लाख लोगों की नौकरी गई। जून में लगभग 39 लाख नौकरियां मिली लेकिन जुलाई में करीब 50 लाख लोगों की नौकरी चली गई।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia