एक करोड़ अफगान बच्चों को मानवीय सहायता की सख्त जरूरत, मदद के लिए 20 करोड़ डॉलर जुटाएगा यूनिसेफ

अफगानिस्तान में यूनिसेफ के प्रतिनिधि हर्वे डी लिस ने कहा कि अफगान संकट के लिए सबसे कम जिम्मेदार लोग सबसे अधिक कीमत चुका रहे हैं। उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान में अकेले इस साल 550 से अधिक बच्चे मारे गए हैं और 1,400 से अधिक घायल हुए हैं।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

अफगानिस्तान में तालिबान के कब्जे के बाद पैदा हुए मानवीय संकट में करीब एक करोड़ बच्चों को मानवीय सहायता की सख्त जरूरत है। संयुक्त राष्ट्र के एक अधिकारी ने ऐलान किया कि यूनिसेफ उनकी जरूरतों को पूरा करने के लिए करीब 20 करोड़ डॉलर की अपील कर रहा है। अफगानिस्तान में यूनिसेफ के प्रतिनिधि हर्वे डी लिस ने न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में कहा, "अपील में पानी और स्वच्छता, बाल संरक्षण, पोषण, स्वास्थ्य और शिक्षा सहित विभिन्न क्षेत्रों को शामिल किया गया है।"

डी लिस ने कहा कि इस संकट के लिए सबसे कम जिम्मेदार लोग सबसे अधिक कीमत चुका रहे हैं, जिसमें 26 अगस्त से काबुल में अत्याचारों की एक श्रृंखला में मारे गए और घायल हुए बच्चे भी शामिल हैं। उन्होंने कहा कि इस साल अकेले 550 से अधिक बच्चे मारे गए हैं और 1,400 से अधिक घायल हुए हैं। उन्होंने कहा कि यह स्पष्ट रूप से एक ऐसे देश में बाल-संरक्षण संकट है जो पहले से ही बच्चों के लिए पृथ्वी पर सबसे खराब जगहों में से एक है।


संघर्ष और असुरक्षा की पृष्ठभूमि में, बच्चे ऐसे समुदायों में रह रहे हैं, जो संकटग्रस्त हैं। उन्होंने कहा कि उनके पास पोलियो सहित जीवन रक्षक टीके नहीं हैं, यह एक ऐसी बीमारी है जो बच्चों को जीवन भर के लिए मुसीबत में डाल सकती है। डी लिस ने कहा, "कई लोग इतने कुपोषित हैं कि वे अस्पताल के बिस्तरों में इतने कमजोर हैं कि एक फैली हुई उंगली को पकड़ नहीं सकते। ये बच्चे स्वस्थ और संरक्षित बचपन के अपने अधिकार से वंचित हैं।"

यूनिसेफ उन रिपोर्टों को लेकर चिंतित है जिसमें कहा गया है कि अंतर्राष्ट्रीय दानदाता न केवल एजेंसी के लिए बल्कि अन्य सहायता समूहों के लिए भी इस कठिन समय में देश की सहायता में कटौती कर रहे हैं या रोक रहे हैं। उन्होंने कहा कि एजेंसी देश भर में कार्यक्रमों को वितरित करने के लिए आवश्यक सुरक्षा सुनिश्चित करने के बारे में भी चिंतित है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia