दुनिया की 5 बड़ी खबरें: तालिबान शासन में दोहरी मार झेल रहे अफगान और सऊदी अरब ने कोरोना के एहतियाती उपायों में दी ढील

युद्ध से परेशान और नकदी की तंगी से जूझ रहे देश में अफगान लोग आगामी सर्दियों के मौसम से निपटने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। सऊदी अरब ने कोरोना के खिलाफ एहतियाती उपायों में ढील देना शुरू कर दिया क्योंकि देश में कोरोना के ताजा मामलों में कमी देखी गई है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

सऊदी अरब ने कोरोना के एहतियाती उपायों में ढील दी

फोटो: IANS
फोटो: IANS

सऊदी अरब ने कोरोना के खिलाफ एहतियाती उपायों में ढील देना शुरू कर दिया क्योंकि देश में कोरोना के ताजा मामलों में कमी देखी गई है। सऊदी प्रेस एजेंसी ने बताया कि नागरिक उड्डयन के सामान्य प्राधिकरण (जीएसीए) ने सभी हवाई अड्डों के संचालन की पूरी क्षमता से घोषणा की। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, इस बीच, राज्य यात्रियों के टीकाकरण की स्थिति की निगरानी करना जारी रखेगा।

पिछले हफ्ते, सऊदी के आंतरिक मंत्री ने 100 से कम दैनिक नए संक्रमणों की रिपोटिर्ंग के साथ, कोरोना वायरस प्रसार को आसान बनाने के आधार पर निवारक उपायों को आसान बनाने के लिए नए निर्णयों की घोषणा की। रविवार से अब कई जगहों पर मास्क पहनना अनिवार्य नहीं है।

फिलिस्तीन ने यूएनएससी से इजराइल में बसने वालों के मामले पर आपात बैठक बुलाने का आग्रह किया

फोटो: IANS
फोटो: IANS

फिलिस्तीनी विदेश मंत्री रियाद अल-मलिकी ने कहा कि फिलिस्तीन ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद से इजरायली समझौते के मुद्दे पर एक आपातकालीन बैठक आयोजित करने का आग्रह किया।समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, अल-मलिकी ने वेस्ट बैंक शहर रामल्लाह में संवाददाताओं से कहा कि फिलिस्तीन संयुक्त राष्ट्र महासभा को बुलाने और संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के एक आपातकालीन सत्र का आयोजन करने की उम्मीद रखता है।

उन्होंने कहा कि वेस्ट बैंक और पूर्वी यरुशलम में अपनी निपटान योजनाओं को रोकने के लिए इजरायल सरकार पर दबाव डालने के उद्देश्य से अमेरिका के साथ संपर्क और परामर्श हो रहा है। इससे पहले, इजराइल ने घोषणा की कि वह वेस्ट बैंक और पूर्वी यरुशलम में और अधिक नई निपटान परियोजनाओं का निर्माण करने का इरादा रखता है।


श्रीलंका ने अक्टूबर में 7,000 से ज्यादा पर्यटकों के आगमन का रिकॉर्ड बनाया

फोटो: IANS
फोटो: IANS

श्रीलंका में इस महीने अब तक 7,000 से ज्यादा पर्यटक आने से देश के पर्यटन उद्योग को बढ़ावा मिला है, जिसे कोरोना महामारी के कारण झटका लगा था। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के मुताबिक, आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, 1 से 13 अक्टूबर के बीच 7,096 पर्यटक श्रीलंका पहुंचे।

पर्यटन मंत्री प्रसन्ना रणतुंगा ने कहा कि अगर मौजूदा रुझान जारी रहा तो अक्टूबर में इस साल के लिए सबसे अधिक मासिक आगमन दर्ज होने की संभावना है। पर्यटन मंत्रालय ने कहा कि इस साल अब तक सितंबर में सबसे ज्यादा 13,547 पर्यटक आए। मंत्रालय ने कहा कि 13 अक्टूबर तक आगमन के साथ, 21 जनवरी को सीमाओं को फिर से खोलने के बाद से देश में 45,413 पर्यटक आ चुके हैं।

जापान : रेस्तरां में कोविड वैक्सीन, टेस्ट रिपोर्ट की जांच के साथ शुरू होगा ट्रायल

फोटो: IANS
फोटो: IANS

जापान सरकार ने सोमवार को कहा कि वह इस सप्ताह भोजनालयों में कोविड-19 वैक्सीन या निगेटिव टेस्ट परिणामों के प्रमाण का उपयोग करके ट्रायल शुरू करेगी, जिसका उद्देश्य संक्रमण के प्रसार को रोकने के साथ-साथ आर्थिक गतिविधियों को बनाए रखना है। रेस्तरां के खुलने का समय बढ़ाने के लिए यह ट्रायल व्यक्तियों को कोविड-19 टीकाकरण के प्रमाण या निगेटिव रिपोर्ट के परिणामों के साथ बड़े समूहों में खाने की अनुमति देगा।

1 अक्टूबर को पूरे जापान में कोविड-19 आपातकाल की स्थिति को हटा दिए जाने के बाद भी कई स्थानीय सरकारों ने कुछ निवारक उपायों को बनाए रखा है।
जापानी सरकार के अनुसार, इस सर्दी में संक्रमण की एक और संभावित लहर की तैयारी के रूप में यह प्रक्रिया क्योटो प्रांत में गुरुवार से एक जापानी रेस्तरां में शुरू होगी।


कीमतों में बढ़ोतरी, ऊपर से सर्दी की मार, जिंदगी से जूझ रहे अफगानी

फोटो: IANS
फोटो: IANS

युद्ध से परेशान और नकदी की तंगी से जूझ रहे देश में अफगान लोग आगामी सर्दियों के मौसम से निपटने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। यहां अधिकांश लोग गरीबी रेखा के नीचे रहते हैं और वस्तुओं की कीमतों में बढ़ोतरी के कारण बुनियादी दैनिक जरूरतों को मुश्किल से पूरा कर पाने की स्थिति में हैं। लकड़ी के खरीदार यार मोहम्मद ने समाचार एजेंसी सिन्हुआ को बताया, "बिजली की खरीद दिन-ब-दिन कम होती जा रही है और लोग सर्दी से निपटने और ठंड के मौसम में अपने घरों को गर्म रखने के लिए लकड़ी या अन्य जरूरी चीजें खरीदने का जोखिम नहीं उठा सकते हैं।"

मोहम्मद ने कहा कि दैनिक जरूरतों की आसमान छूती कीमतों ने आम लोगों को परेशान कर दिया है। सीमाओं को बंद करने और विदेशों में अफगान संपत्ति को फ्रीज करने से अफगानों के लिए आर्थिक समस्याएं पैदा हुई हैं। मोहम्मद ने गुस्से में कहा, "सीमाएं बंद हैं, बैंकों में सामान्य गतिविधियां नहीं हो रही है और विदेशों में अफगानिस्तान की संपत्तियां जब्त कर ली गई हैं।"

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia