दुनिया की 5 बड़ी खबरें: बीएलए ने ली बलूचिस्तान ब्लास्ट की जिम्मेदारी और चीन में दशहरा मेला का आयोजन

बलूचिस्तान शहर हब में हुए बम विस्फोट में एक पाकिस्तानी पत्रकार की मौत हो गई है। भगवान राम की विजय का पर्व दशहरा उस दिन की याद दिलाता है जब श्रीराम ने अत्याचारी रावण को मार इस धरती को पाप से मुक्त करवाया था।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

बीएलए ने ली बम हमले की जिम्मेदारी, पाक पत्रकार की हुई थी मौत

बलूचिस्तान शहर हब में हुए बम विस्फोट में एक पाकिस्तानी पत्रकार की मौत हो गई है। पुलिस अधिकारियों का कहना है कि सशस्त्र मिलिशिया बलूच लिबरेशन आर्मी (बीएलए) ने एक बयान जारी कर इस हमले की जिम्मेदारी ली है। अल जजीरा ने इसकी जानकारी दी है। पुलिस का कहना है कि रविवार शाम पाकिस्तान के सबसे बड़े शहर कराची के पश्चिम में करीब 20 किमी (12 मील) दूर हब शहर में शाहिद जहरी अपने वाहन में गाड़ी चलाते समय मारे गए।

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी यूनुस रजा ने बताया कि ऐसा लगता है कि विस्फोट जहरी के वाहन में ड्राइविंग सीट के नीचे लगे चुंबकीय उपकरण के कारण हुआ। रिपोर्ट में कहा गया है, "विस्फोटक चालक की सीट के ठीक नीचे थे, इसलिए जब यह विस्फोट हुआ तो यह स्पष्ट रूप से ऊपर की ओर फटा और सीट को नष्ट कर दिया।"

इराकी संसदीय चुनावों में 41 फीसदी मतदान

फोटो: IANS
फोटो: IANS

देश के स्वतंत्र उच्च चुनाव आयोग (आईएचईसी) ने सोमवार को कहा कि इराक के मध्यावधि संसदीय चुनावों में 41 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया। आयोग ने एक बयान में कहा कि प्रारंभिक परिणामों के अनुसार रविवार को हुए चुनाव में 24 मिलियन से अधिक पात्र मतदाताओं में से 90 लाख से अधिक ने मतदान किया था। शेष 6 प्रतिशत मतों की गिनती के बाद, राष्ट्रीय मतदान में मामूली वृद्धि की उम्मीद है।

चुनाव आयोग में आयुक्त बोर्ड के अध्यक्ष जज जलील अदनान खलाफ ने रविवार देर रात एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि मतदान समाप्त होने के 24 घंटे के भीतर आधिकारिक परिणाम घोषित किए जाएंगे। आगामी संसद में 329 सीटों के लिए 329 उम्मीदवारों के लिए मतदान करने को लेकर लाखों इराकियों ने रविवार को देश भर के लगभग 8,000 मतदान केंद्रों का नेतृत्व किया।


सिडनी ने लॉकडाउन के 106 दिनों बाद 'फ्रीडम डे' की घोषणा की

फोटो: IANS
फोटो: IANS

ऑस्ट्रेलियाई राज्य न्यू साउथ वेल्स (एनएसडब्ल्यू) की राजधानी सिडनी के 106 दिनों के लॉकडाउन से बाहर निकलने के बाद, सोमवार को लोग लंबे समय से प्रतीक्षित 'फ्रीडम डे' मनाने के लिए एक साथ नजर आए। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, रविवार की आधी रात को कुछ लॉकडाउन प्रतिबंध आधिकारिक रूप से समाप्त हो गए और गैर-आवश्यक खुदरा स्टोर ने लोगों के लिए अपने दरवाजे फिर से खोल दिए। स्थानीय लोग बाल कटाने के लिए दुकानों के आगे लाइन लगाकर खड़े दिखे और जिम जाने लगे।

सोमवार को एक बार में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में एनएसडब्ल्यू डोमिनिक पेरोटेट के नव-स्थापित प्रीमियर ने प्रतिबंधों में ढील को राज्य के 'फ्रीडम डे' के रूप में संदर्भित किया।

चीन में दशहरा मेला का आयोजन, रामलीला रही विशेष आकर्षण

फोटो: IANS
फोटो: IANS

भगवान राम की विजय का पर्व दशहरा उस दिन की याद दिलाता है जब श्रीराम ने अत्याचारी रावण को मार इस धरती को पाप से मुक्त करवाया था। दशहरा मनाने की परंपरा सदियों से भारत में चली आ रही है। इसी परंपरा को कायम रखते हुए बीजिंग में स्थित भारतीय दूतावास ने 10 अक्तूबर को दशहरे के उपलक्ष्य में एक भव्य दशहरा मेला का आयोजन किया। इस दशहरा मेले का विशेष आकर्षण रही रामलीला, जो कि चीन में पहली बार आयोजित की गई। रामायण के सभी मुख्य ²श्यों को समेटकर एक संक्षिप्त रामायण का प्रदर्शन लोगों के दिलों को छू गया। लगभग आधे घंटे के इस रामायण मंचन में सीता स्वयंवर, राम वनवास, रावण की शिव भक्ति, राम-हनुमान मिलन, राम-रावण युद्ध आदि अंशों को एक कहानी के रूप में पिरोकर प्रस्तुत की गई रामलीला ने समा बांध दिया।

इस दशहरा मेले में शिरकत करने वाले अनेक देशों के राजदूतों व दूतावास अधिकारियों को रामलीला ने मनमोहित कर दिया। इसके अलावा, रामलीला में दीया डांस भी शामिल किया गया, जिसमें सभी आगंतुकों को भी दीया जलाकर डांस में शामिल होने का मौका मिला। सभी ने दीया जलाकर दशहरा के पर्व को मिलजुल कर हर्षोल्लास के साथ मनाया।


अल्जीरिया ने राजनयिक की पेरिस वापसी को लेकर 'पूर्ण सम्मान' देने की मांग की

फोटो: IANS
फोटो: IANS

अल्जीरिया के राष्ट्रपति अब्देलमदजिद तेब्बौने ने कहा है कि फ्रांस में देश के राजदूत की वापसी पेरिस से उत्तरी अफ्रीकी राष्ट्र के लिए "पूर्ण सम्मान" पर सशर्त संभव है। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, तेब्बौने ने कहा, "हम ऐसा नहीं कर सकते जैसे कुछ हुआ ही नहीं। हमारे राजदूत पेरिस तभी लौटेंगे, जब फ्रांस अल्जीरियाई राज्य के लिए पूर्ण सम्मान दिखाएगा।"

टेब्बौने के बयानों में अल्जीरिया द्वारा पेरिस में अपने राजदूत को वापस बुलाने और फ्रांसीसी सैन्य विमानों को अपने हवाई क्षेत्र से प्रतिबंधित करने का उल्लेख है। फ्रांस के राष्ट्रपति इमैन्युअल मैक्रों ने अल्जीरियाई युद्ध (1954-1962) के दौरान अल्जीरियाई क्रांतिकारियों के खिलाफ फ्रांसीसी सेना के साथ लड़े युवा लोगों के एक समूह के साथ एक छोटी बातचीत के दौरान कड़ी टिप्पणी की थी।

आईएएनएस के इनपुट के साथ