दुनिया की 5 बड़ी खबरें: UNGA में भारत-पाक के बीच हुई तीखी बहस और महाभियोग मामले में ट्रंप का बचाव करेंगे बुच बॉवर्स

पाकिस्तान और भारत के बीच UNGA में उनके यहां नष्ट होते अल्पसंख्यकों के अधिकारों को लेकर एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप के साथ तीखी बहस हुई। अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ महाभियोग मामले में बुच बॉवर्स सुनवाई के दौरान ट्रंप का बचाव करेंगे।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

पुर्तगाल : मार्केलो रिबेलो फिर चुने गए राष्ट्रपति

फोटो: IANS
फोटो: IANS

पुर्तगाल के राष्ट्रपति चुनाव में मार्केलो रिबेलो डिसूजा को जबरदस्त जीत मिली है। वह दोबारा राष्ट्रपति निर्वाचित हुए हैं। उनका दूसरा कार्यकाल 9 मार्च से शुरू होगा। समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने सोमवार को जानकारी दी कि 98.87 प्रतिशत मतों की गिनती के बाद मार्केलो रिबेलो डिसूजा को 61.3 प्रतिशत वोट मिले। वह 2016 से ही पुर्तगाल के राष्ट्रपति हैं। उनके प्रतिद्वंद्वी यूरोपीय संसद के पूर्व सदस्य अना गोम्स को केवल 12.54 प्रतिशत वोट मिले, जबकि चेगा पार्टी के प्रत्याशी आंद्रे वेंतुरा 11.89 प्रतिशत वोटों के साथ तीसरे स्थान पर रहे।

लेफ्ट ब्लॉक पार्टी के यूरोपीय संसद के सदस्य मारीसा मातियास को 4.17 प्रतिशत और पोर्तुगीज कम्युनिस्ट पार्टी के यूरोपीय संसद के सदस्य जोआओ फरेरा को महज 3.93 प्रतिशत ही वोट मिल पाए। पुर्तगाली राष्ट्रपति का चुनाव रविवार को हुआ था।

यूएनजीए में अल्पसंख्यकों के हक को लेकर भारत-पाक के बीच हुई तीखी बहस

फोटो: IANS
फोटो: IANS

पाकिस्तान और भारत के बीच संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) में उनके यहां नष्ट होते अल्पसंख्यकों के अधिकारों को लेकर एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप के साथ तीखी बहस हुई।

धार्मिक स्थलों को नुकसान पहुंचाए जाने और इसकी निंदा करते हुए पाकिस्तान की ओर से सह-प्रायोजित एक प्रस्ताव भी पेश किया गया। प्रस्ताव में पाकिस्तान का तर्क भारत में बाबरी मस्जिद विध्वंस के संदर्भ में था। खैबर पख्तूनख्वा के करक जिले में एक हिंदू धर्मस्थल को जलाए जाने के पाकिस्तान के खिलाफ भारत के दावे को इस्लामाबाद ने गैरकानूनी दावा करार दिया और कहा कि भारत को कहीं और अल्पसंख्यकों के अधिकारों के लिए चिंता जताने के बजाय अपने खुद के घर पर ध्यान देना चाहिए।


महाभियोग मामले में डोनाल्ड ट्रंप का बचाव करेंगे बुच बॉवर्स

फोटो: IANS
फोटो: IANS

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ महाभियोग मामले में रिपब्लिकन पार्टी की भारतीय मूल की लीडर निक्की हेली के वकील रह चुके बुच बॉवर्स सुनवाई के दौरान ट्रंप का बचाव करेंगे। साउथ कैरोलाइना के रहने वाले बुच बॉवर्स एक जाने-माने वकील हैं। वर्ष 2012 में जब निक्की हेली गवर्नर थीं तो उन पर अपने कर्मचारियों के लिए लॉबिंग करने का आरोप लगा था। इस मामले में बुच बॉवर्स की उल्लेखनीय बहस के बाद हेली को उन आरोपों से बरी कर दिया गया था।

ट्रंप पर यह आरोप है कि उन्होंने 6 जनवरी को अपने हजारों समर्थकों को अमेरिकी संसद भवन (कैपिटल) पर धावा बोलने के लिए उकसाया। अमेरिका के इतिहास में ट्रंप एकमात्र ऐसे राष्ट्रपति हैं जिन पर दो बार महाभियोग का मामला चलाया गया है। इस मामले में पहली सुनवाई 8 फरवरी को होनी है।

दावोस एजेंडा : कोविड टीकाकरण, रोजगार सृजन और जलवायु परिवर्तन पर होगा मंथन

फोटो: IANS
फोटो: IANS

कोविड महामारी के कारण उपजी चुनौतियों का मुकाबला करने एवं वैश्विक सहयोग की तत्काल आवश्यकता पर विचार करने के उद्देश्य से इस सप्ताह दावोस में वर्ल्ड इकनॉमिक फोरम (डब्ल्यूईएफ) की महत्वपूर्ण बैठक हो रही है। पांच दिवसीय इस वर्चअुल मीटिंग में कारोबार एवं उद्योग जगत की तमाम बड़ी हस्तियों के अलावा विश्व के 25 देशों के शासनाध्यक्ष व राष्ट्रराध्यक्ष समेत 2,000 से भी अधिक नेता शिरकत कर रहे हैं।

सिन्हुआ न्यूज एजेंसी के मुताबिक, सोमवार से शुरू हो रहे 'दावोस एजेंडा 2021' का थीम 'ए क्रूसियल ईयर टू रीबिल्ड ट्रस्ट' रखा गया है। इस अहम बैठक में कोविड टीकाकरण को लेकर चुनौतियां, रोजगार सृजन और जलवायु परिवर्तन जैसे महत्वपूर्ण विषयों पर मंथन किया जाएगा।


श्रीलंका में 10 साल बाद होगी हाथियों की गणना

फोटो: IANS
फोटो: IANS

श्रीलंका के वन्यजीव संरक्षण विभाग की ओर से देश में एक दशक के बाद हाथियों की गणना कराई जाएगी, ताकि यहां उनकी सही संख्या का निर्धारण किया जा सके। सोमवार को एक स्थानीय मीडिया ने इसकी सूचना दी है। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के मुताबिक, वन्यजीव संरक्षण मंत्रालय के सचिव बंडुला हरिश्चंद्र ने कहा है कि साल 2011 में आखिरी बार हाथियों की गणना कराई गई थी और यह अनुमान लगाया था कि श्रीलंका में 5,179 हाथी हैं।

श्रीलंका के कमेटी ऑन पब्लिक अकाउंट्स (सीओपीए) के मुताबिक, बीते साल श्रीलंका में हाथियों की सबसे ज्यादा मौतें दर्ज हुई थीं। वहीं इंसान और हाथियों के बीच हुए संघर्ष के चलते दुनिया में इंसानों की मौतों की संख्या भी दूसरे नंबर पर पाई गई है।

इसके अध्यक्ष तिस्सा वितरना के मुताबिक, वैसे श्रीलंका में मानव-हाथी संघर्ष के कारण हाथी की मौत की औसत संख्या 272 प्रतिवर्ष है, लेकिन पिछले साल 407 हाथियों की मौत हुई थी।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia