दुनिया की 5 बड़ी खबरें: जॉनसन और बाइडेन ने की फोन पर बात और जानें अमेरिका के नए सरकार को लेकर क्या बोला ईरान

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने अमेरिका के नए राष्ट्रपति जो बाइडेन से फोन पर बात की और दोनों देशों के बीच दोस्ती को गहरा करने पर चर्चा की। ईरान के एक शीर्ष अधिकारी ने कहा है कि इस्लामिक रिपब्लिक का नए अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन प्रशासन के साथ कोई संपर्क नहीं है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

2020 में चीन के प्राकृतिक तेल उत्पादन में 1.6 प्रतिशत का इजाफा

दुनिया की 5 बड़ी खबरें: जॉनसन और बाइडेन ने की फोन पर बात और जानें अमेरिका के नए सरकार को लेकर क्या बोला ईरान

चीनी राष्ट्रीय सांख्यिकी ब्यूरो द्वारा हाल ही में जारी आंकड़ों के अनुसार वर्ष 2020 में चीन के प्राकृतिक तेल उत्पादन में 1.6 प्रतिशत का इजाफा हुआ, जबकि प्राकृतिक तेल के निर्यात में 7.3 प्रतिशत बढोतरी दर्ज की गयी। गतवर्ष चीन के प्राकृतिक तेल का उत्पादन 19 करोड़ 50 लाख टन और तेल का कुल निर्यात 54 करोड़ टन रहा।

ध्यान रहे कि इधर के कुछ सालों से चीन विश्व तेल बाजार में सबसे बड़ा खरीददार रहा है। पिछले साल चीन ने 67 करोड़ कच्चा तेल प्रसंस्कृत किया, जो गतवर्ष से 3 प्रतिशत अधिक था।

जॉनसन और बाइडेन ने की फोन पर बात, दोस्ती और गहरा करने पर हुई चर्चा

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने अमेरिका के नए राष्ट्रपति जो बाइडेन से फोन पर बात की और दोनों देशों के बीच दोस्ती को गहरा करने पर चर्चा की। 20 जनवरी को 46वें अमेरिकी राष्ट्रपति के रूप में बाइडेन के शपथ ग्रहण के बाद से दोनों नेताओं के बीच यह पहला फोन संवाद था।

जॉनसन ने शुक्रवार रात को ट्विटर पर कहा, आज शाम राष्ट्रपति जो बाइडेन से फोन पर बात की। मैं दोनों देशों के बीच लंबे समय से चली आ रही दोस्ती को और गहरा करने के लिए तत्पर हूं। हम कोविड-19 से उबरने की कोशिश कर रहे हैं।

डाउनिंग स्ट्रीट के प्रवक्ता के अनुसार, दोनों नेताओं ने यूके और अमेरिका के बीच संभावित मुक्त व्यापार सौदे के लाभों के बारे में भी बात की, जॉनसन ने मौजूदा व्यापार मुद्दों को जल्द से जल्द हल करने के लिए अपने इरादे को भी दोहराया।

ट्यूनीशिया में प्रदर्शनकारियों की रिहाई की मांग को लेकर रैली

गिरफ्तार किए गए प्रदर्शनकारियों की रिहाई की मांग को लेकर ट्यूनीशिया की राजधानी ट्यूनिस की सड़कों पर सैकड़ों प्रदर्शनकारी उतर आए, जिसके बाद उनका सुरक्षा बलों के साथ टकराव शुरू हो गया। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, एवेन्यू हबीब बोरगुइबा में, प्रदर्शनकारियों ने शनिवार को कई प्रांतों में चल रहे रात के विरोध प्रदर्शनों के दौरान गिरफ्तार किए गए प्रदर्शनकारियों की रिहाई और उत्तरी अफ्रीकी देश में बिगड़ती सामाजिक-आर्थिक स्थितियों की निंदा करते हुए नारे लगाए।

'न उत्पीड़न, न हाशिए पर' का नारा लगाते हुए हमा हम्मामी पार्टी के कार्यकर्ता, विपक्षी सांसदों और आम लोगों ने मार्च में हिस्सा लिया।

ट्यूनीशियाई सुरक्षा बलों ने प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस का इस्तेमाल किया और उन्हें आंतरिक मंत्रालय के मुख्यालय के सामने इकट्ठा होने से रोका।

शांति सम्मेलन में यूएनएससी फिलिस्तीन की स्थिति पर करेगा विचार

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) मध्य पूर्व क्षेत्र में स्थिति पर चर्चा करने के लिए एक सत्र आयोजित करेगा, जिसमें फिलिस्तीनी राष्ट्रपति महमूद अब्बास की अंतरराष्ट्रीय शांति सम्मेलन आयोजित करने की पहल शामिल है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने ये जानकारी दी। समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने शनिवार को स्थानीय मीडिया के हवाले से कहा, सत्र मंगलवार को आयोजित किया जाएगा।

उन्होंने बताया कि सत्र फिलिस्तीन से संबंधित तीन महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा करेगा।

मंसूर ने कहा कि पहला मुद्दा अब्बास द्वारा एक अंतर्राष्ट्रीय शांति सम्मेलन बुलाने की पहल का है। दूसरा, अब्बास द्वारा फिलिस्तीनी क्षेत्रों में आम चुनाव कराने के लिए जारी किए गए राष्ट्रपति के फरमान के साथ-साथ उनकी तैयारियों का है।

उन्होंने कहा, तीसरा मुद्दा जो बाइडेन की अगुवाई में नई अमेरिकी सरकार और फिलिस्तीनियों के उनके साथ काम करने की इच्छा से संबंधित है।

'ईरान की बाइडेन प्रशासन से संपर्क बनाने में कोई दिलचस्पी नहीं'

ईरान के एक शीर्ष अधिकारी ने कहा है कि इस्लामिक रिपब्लिक का नए अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन प्रशासन के साथ कोई संपर्क नहीं है। उन्होंने जोर देकर कहा कि कोई भी संभावित वार्ता केवल 2015 के तेहरान और दूसरे प्रमुख देशों के बीच बहुपक्षीय परमाणु समझौते के 'सही प्रारूप' के इर्द गिर्द की हो सकती है। प्रेस टीवी ने ईरान के राजनीतिक मामलों के उप विदेश मंत्री अब्बास अरकची के हवाले से कहा, फिलहाल, हमें संपर्क बनाने में कोई दिलचस्पी नहीं है और हमें लगता है कि संयुक्त व्यापक कार्य योजना (जेसीपीओए) सही प्रारूप है, और उस रूपरेखा में बातचीत की जानी चाहिए।

उन्होंने कहा कि ईरान की बाइडेन प्रशासन से मांगें जायज हैं -- वाशिंगटन द्वारा प्रतिबंध हटाना और परमाणु समझौते पर लौटना है।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


लोकप्रिय
next