दुनिया की 5 बड़ी खबरें: कोरोना वैक्सीन के लिए फाइजर को चाहिए आपात अनुमति और मैक्रों का मुस्लिम नेताओं को अल्टीमेटम

फाइजर घोषणा की कि वह अमेरिकी नियामकों से अपनी कोरोना वैक्सीन के आपातकालीन उपयोग की अनुमति देने के अनुरोध के साथ आगे बढ़ रही है। फ्रांस के राष्ट्रपति ने चार्टर को स्वीकार करने के लिए फ्रेंच काउंसिल ऑफ द मुस्लिम फेथ (सीएफसीएम) को 15 दिन का अल्टीमेटम दिया है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

फाइजर को वैक्सीन के लिए चाहिए आपात अनुमति

फाइजर कंपनी ने शुक्रवार को घोषणा की कि वह अमेरिकी नियामकों से अपनी कोविड-19 वैक्सीन के आपातकालीन उपयोग की अनुमति देने के अनुरोध के साथ आगे बढ़ रही है।

अमेरिकी फार्मा कंपनी फाइजर ने हाल ही में दावा किया है कि जर्मन कंपनी बायोएनटेक के साथ मिलकर विकसित की गई उनकी कोरोना वायरस वैक्सीन फाइनल क्लीनिकल ट्रायल में 95 फीसदी असरदार पाई गई है। फाइजर ने यह दावा भी किया कि उसकी कोरोना वैक्सीन सुरक्षा मानकों पर भी पूरी तरह खरी उतरी है।

अमेरिका में कोरोना वायरस ले रहा है भयानक रूप


हाल में अमेरिका में महामारी की स्थिति नियंत्रण के बाहर हो गयी है। बीते एक हफ्ते में अमेरिका में रोज नये पुष्ट मामलों की संख्या 1 लाख 60 हजार दर्ज हो रही है, जो दो हफ्तों के औसत स्तर से 77 प्रतिशत ज्यादा है। 18 नवम्बर तक अमेरिका में कोविड-19 से मरने वालों की संख्या ढाई लाख से अधिक हो चुकी है। पिछले हफ्ते तक अमेरिका में करीब 10 लाख चालीस हजार बच्चे और युवा कोरोनावायरस से संक्रमित हो चुके हैं। लेकिन अमेरिका के सत्तारुढ़ अधिकारियों की नजर में सिर्फ राजनीतिक विवाद हैं और महामारी को सही ढंग से निपटने की कोशिश नहीं हो रही है। हाल में अमेरिकी राजनेता ने फिर एक बार सोशल मीडिया पर कोरोना वायरस को चीनी वायरस बताया और चीन को बदनाम करने की पूरी कोशिश की।

अमेरिका में कोविड-19 के सक्रिय मामले आधिकारिक आंकड़ों से कहीं ज्यादा


अमेरिका में हाल ही में हुए एक अध्ययन के अनुसार, यहां 30 लाख से अधिक लोग सक्रिय रूप से कोरोनावायरस से संक्रमित हैं और संभावित रूप से संक्रामक भी हैं। ये आंकड़े आधिकारिक आंकड़ों से बहुत ज्यादा हैं। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, कोलंबिया यूनिवर्सिटी के महामारी विज्ञानी जेफरी शमन की टीम द्वारा संचालित एक मॉडल के मुताबिक, वर्तमान में अमेरिका में संक्रमण के 36 लाख सक्रिय मामले हैं और इनमें ऐसे मामलों की पर्याप्त संख्या है जो वायरस को फैलाने में सक्षम हैं।

आधिकारिक गणना पूरी तरह से उन लोगों के डेटा आधारित है, जिनका परीक्षण पॉजिटिव आया है, लेकिन कई ऐसे लोग जिनमें वायरस के लक्षण नहीं हैं, वे जानते ही नहीं हैं कि वे कोरोना पॉजिटिव हैं।

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री करेंगे प्रीति पटेल के भविष्य पर फैसले का ऐलान


ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन गृह सचिव प्रीति पटेल के आचरण को लेकर हुई जांच के निष्कर्षो पर अपने फैसले का ऐलान कर सकते हैं। सूत्रों के हवाले से शुक्रवार को मीडिया रिपोर्ट में इसकी जानकारी दी गई है।

गृह मंत्रालय के सबसे वरिष्ठ अधिकारी फिलिप रटनम ने पिछले साल फरवरी में यह कहते हुए अपना इस्तीफा दे दिया था कि प्रीति का व्यवहार उनके प्रति विद्वेषपूर्ण है। अपनी रचनात्मक बर्खास्तगी के लिए उन्होंने मुकदमा भी दायर किया, जिसके बाद जांच होने का फैसला लिया गया। सूत्रों के मुताबिक, रिपोर्ट में तीन अलग-अलग सरकारी विभागों - गृह कार्यालय, कार्य और पेंशन और अंतर्राष्ट्रीय विकास - में प्रीति पटेल के आचरण पर गौर फरमाया गया।

मैक्रों का मुस्लिम नेताओं को अल्टीमेटम, 'प्रजातांत्रिक मूल्यों' को स्वीकार करें

फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने देश भर के मुस्लिम नेताओं से कट्टरपंथी इस्लाम के खिलाफ एक राष्ट्रव्यापी मुहिम के हिस्से के रूप में 'प्रजातांत्रिक मूल्यों के चार्टर' को स्वीकार करने के लिए कहा है।

मैक्रों ने चार्टर को स्वीकार करने के लिए फ्रेंच काउंसिल ऑफ द मुस्लिम फेथ (सीएफसीएम) को 15 दिन का अल्टीमेटम दिया है, जिसमें कहा जाएगा कि इस्लाम धर्म है और न कि राजनीतिक आंदोलन, इसका मकसद मुस्लिम समूहों में 'विदेशी हस्तक्षेप' को भी रोकना है।
यह कदम देश भर में एक महीने से भी कम समय में तीन इस्लामिक आतंकवादी हमलों के बाद उठाया गया है।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

लोकप्रिय
next