दुनिया की 5 बड़ी खबरें: चीन के कारण बर्बादी के कगार पर श्रीलंका ? और इजरायल के लाखों लोग होंगे कोरोना से संक्रमित

कुछ लोगों का तर्क है कि श्रीलंका की ऋण समस्या वहां चीनी निवेश से संबंधित है। इजरायल में मौजूदा कोरोना वायरस के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन के कारण 20 लाख से 40 लाख इजरायलियों के संक्रमित होने का खतरा है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

क्या श्रीलंका की ऋण समस्या चीन-श्रीलंका सहयोग की प्रगति से हुई है?

10 जनवरी को चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वनपिन ने नियमित संवाददाता सम्मेलन की मेजबानी की। एएफपी रिपोर्टर ने पूछा कि क्या चीन श्रीलंका को कर्ज राहत देगा? कुछ लोगों का तर्क है कि श्रीलंका की ऋण समस्या वहां चीनी निवेश से संबंधित है। इसको लेकर प्रवक्ता का क्या विचार है?

वांग वनपिन ने कहा कि एएफपी रिपोर्टर का यह कहना पूरी तरह से गलत है। वास्तव में चीन-श्रीलंका सहयोग पारस्परिक रूप से लाभप्रद है। श्रीलंका में राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और समाज के सभी क्षेत्रों के लोग इसका गर्मजोशी से स्वागत करते हैं।

वांग वनपिन ने बताया कि चीन और श्रीलंका के बीच राजनयिक संबंधों की स्थापना के बाद से, दोनों देश हमेशा एक-दूसरे को समझते हैं और आपसी समर्थन करते हैं। चीन श्रीलंका के आर्थिक व सामाजिक विकास में अपनी सर्वश्रेष्ठ क्षमता में मदद करता रहा है, और आगे भी करता रहेगा। विश्वास है कि श्रीलंका सरकार और लोगों के संयुक्त प्रयासों से, श्रीलंका जल्द से जल्द अस्थायी मुश्किलों को दूर करने और अपने नए विकास की शुरूआत करने में सक्षम होगा।

कैपिटल दंगा जांच में सहयोग करने के अनुरोध को रिपब्लिकन कांग्रेसी ने खारिज किया

फोटो: IANS
फोटो: IANS

रिपब्लिकन कांग्रेसी जिम जॉर्डन ने कैपिटल दंगे की जांच कर रही सदन की चयन समिति के उस अनुरोध को खारिज कर दिया है, जिसमें उनसे स्वेच्छा से जांच में सहयोग करने का अनुरोध किया था।

समाचार एजेंसी शिन्हुआ ने बताया कि समिति की अध्यक्षता करने वाले मिसिसिपी के सांसद डेमोक्रेट बेनी थॉम्पसन को लिखे एक पत्र में जाडर्न ने छह जनवरी को जनवरी, 2021 को कहा, यह अनुरोध किसी भी वैध जांच की सीमा से बहुत दूर है,तथा यह मूल संवैधानिक सिद्धांतों का उल्लंघन करता है, और विधायी मानदंडों को और खराब करने का काम करेगा।

जॉर्डन ने रविवार को भेजे पत्र में कहा, आप अच्छी तरह जानते हैं, मेरे पास ऐसी कोई प्रासंगिक जानकारी नहीं है जो किसी भी वैध विधायी उद्देश्य को आगे बढ़ाने में प्रवर समिति की सहायता करेगी।


फिजी ने कोरोना को रोकने के लिए तमाम उपायों को किया सख्त

फोटो: IANS
फोटो: IANS

फिजी सरकार ने दक्षिण प्रशांत द्वीप देश में कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन को फैलने से रोकने के लिए कड़े कदम उठाए हैं। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, यहां संवाददाताओं को संबोधित करते हुए, वाणिज्य, व्यापार, पर्यटन और परिवहन मंत्री फैयाज कोया ने कहा कि देश में ओमिक्रॉन वेरिएंट के तेजी से फैलने की पुष्टि के साथ, वायरस के खिलाफ प्रमुख उपायों को कड़ा किया जा रहा है।

मंत्री के अनुसार, स्वास्थ्य प्रोटोकॉल का पालन करने में विफल रहने वालों पर सोमवार से जुर्माना लगाया जाएगा। कोया ने कहा कि जो लोग मास्क नहीं लगाएंगे उन पर 250 फिजी डॉलर (117 डॉलर) का जुर्माना लगाया जाएगा। तापमान जांच करने में विफल रहने पर, व्यक्तियों के लिए 250 फिजी डॉलर और व्यवसायों के लिए 1,000 फिजी डॉलर का जुर्माना लगाया जाएगा।

उत्तर कोरिया की कोरोना नीति में बदलाव की निगरानी कर रहा है सियोल

फोटो: IANS
फोटो: IANS

उत्तर कोरिया की कोरोना के खिलाफ पॉलिसी में संभावित बदलाव पर साउथ कोरिया करीब से नजर रख रहा है। जैसे कि प्योंगयांग के मुख्य अखबार ने कहा कि देश अपनी सख्त सीमा को बंद करेगा। वर्तमान नियंत्रण-केंद्रित दृष्टिकोण से ज्यादा अच्छे उपायों पर स्विच करें। ये जानकारी दक्षिण कोरिया के एकीकरण मंत्रालय ने सोमवार को दी।

न्यूज एजेंसी योनहाप ने नॉर्थ के रोडोंग सिनमुन अखबार के हवाले से कहा, "हमें नियंत्रण उपायों पर ध्यान केंद्रित करने वाले बेहतर उन्नत, लोगों की ओर बढ़ने की जरूरत है।"

हालांकि, इसने नए उपायों के बारे में विस्तार से नहीं बताया गया। एकीकरण मंत्रालय के प्रवक्ता ली जोंग-जू ने कहा कि सरकार सुझाए गए नीति परिवर्तन के बाद उत्तर की सीमा स्थितियों पर नजर रखेगी।


ओमिक्रॉन के बीच, इजरायल के लाखों लोग होंगे कोरोना से संक्रमित: पीएम

फोटो: IANS
फोटो: IANS

इजरायल में मौजूदा कोरोना वायरस के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन के कारण 20 लाख से 40 लाख इजरायलियों के संक्रमित होने का खतरा है। ये चेतावनी इजरायल के प्रधानमंत्री नफ्ताली बेनेट ने दी। समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने रविवार को अपने फेसबुक पेज पर बेनेट के बयान के हवाले से कहा, "कैबिनेट की बैठक में पेश की गई जानकारी से संकेत मिलता है कि इजरायल में मौजूदा लहर में कुल मिलाकर 20 लाख से 40 लाख नागरिक संक्रमित होंगे।"

सरकार के जटिल और बार-बार बदलते प्रतिबंधों की व्यापक सार्वजनिक आलोचना को संबोधित करते हुए, बेनेट ने समझाया कि ओमिक्रॉन एक हद तक खतरनाक है जिसे हम नहीं जानते हैं। ओमिक्रॉन के तेजी से फैलने के बीच नए प्रतिबंधों लगाए जाएंगे।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia