दुनिया की 5 बड़ी खबरें: ताइवान ने चीन को दी खुली धमकी और फिलीस्तीनी राष्ट्रपति इजराइल के साथ शांति प्रक्रिया के लिए तैयार

ताइवान ने चेतावनी दी है कि अगर चीन उस पर कब्जा कर लेता है तो इसके 'क्षेत्रीय शांति के लिए विनाशकारी परिणाम' होंगे। फिलिस्तीनी राष्ट्रपति महमूद अब्बास ने कहा कि वह अंतर्राष्ट्रीय प्रस्तावों के आधार पर इजराइल के साथ शांति प्रक्रिया के लिए तैयार हैं।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

फिलीस्तीनी राष्ट्रपति: इजराइल के साथ शांति प्रक्रिया के लिए तैयार हैं

फोटो: IANS
फोटो: IANS

फिलिस्तीनी राष्ट्रपति महमूद अब्बास ने अमेरिकी दौरे पर आए एक अधिकारी से कहा कि वह अंतर्राष्ट्रीय प्रस्तावों के आधार पर इजराइल के साथ शांति प्रक्रिया के लिए तैयार हैं। आधिकारिक फिलिस्तीनी समाचार एजेंसी (डब्लूएएफए) ने बताया कि अब्बास ने वेस्ट बैंक शहर रामल्लाह में इजराइल और फिलिस्तीनी मामलों के लिए अमेरिकी उप सहायक सचिव हादी अमर के साथ एक बैठक के दौरान यह टिप्पणी की।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने मंगलवार को डब्लूएएफए के हवाले से बताया कि अब्बास ने अमर से कहा कि इजराइल के कब्जे को समाप्त करने और 1967 की सीमाओं पर आधारित एक फिलिस्तीनी राज्य की स्थापना के लिए एक अंतर्राष्ट्रीयढांचे के तहत मध्य पूर्व में शांति के लिए एक अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन आयोजित करना आवश्यक है।

ताइवान ने चीन को दी चेतावनी, अगर हमला किया तो भुगतने होंगे विनाशकारी परिणाम

फोटो: IANS
फोटो: IANS

ताइवान ने चेतावनी दी है कि अगर चीन कई दिनों तक बीजिंग के युद्धक विमानों की घुसपैठ के बाद इस द्वीप पर कब्जा कर लेता है तो इसके 'क्षेत्रीय शांति के लिए विनाशकारी परिणाम' होंगे। ताइवान की राष्ट्रपति त्साई इंग-वेन ने स्पष्ट किया है कि अपने आपको बचाने के लिए के लिए जो भी करना पड़ेगा, उसे करने से ताइवान नहीं चूकेगा।

शुक्रवार से अब तक लगभग 150 चीनी युद्धक विमानों ने ताइवान के हवाई क्षेत्र का उल्लंघन किया है। सोमवार को 56 जेट विमानों ने ताइवान के हवाई क्षेत्र में उड़ान भरी, जिसे चीनी आक्रामकता में बड़ी वृद्धि के तौर पर देखा जा रहा है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने स्व-शासित लोकतंत्र की जब्ती को 'अपरिहार्य' बताया है और बीजिंग त्साई पर उसी समय से दबाव डाल रहा है, जब वह 2016 में एक 'स्वतंत्र' ताइवान के जनादेश पर चुनी गई थीं।


ऑस्ट्रेलिया के केंद्रीय बैंक ने आर्थिक, रोजगार में उछाल का अनुमान लगाया

फोटो: IANS
फोटो: IANS

जैसा कि रिजर्व बैंक ऑफ ऑस्ट्रेलिया (आरबीए) ने बढ़ती बेरोजगारी संकेतकों के साथ गणना की है, केंद्रीय बैंक के गवर्नर फिलिप लोव ने मंगलवार को साल के अंत तक उछाल की उम्मीद की है। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, लोव ने अपने मासिक बयान में कहा कि ऑस्ट्रेलिया में पूर्ण रोजगार की वापसी और लक्ष्य के अनुरूप मुद्रास्फीति हासिल करने के लिए बैंक अपनी "अत्यधिक सहायक मौद्रिक स्थितियों" को जारी रखेगा। ब्याज दरें 0.10 प्रतिशत के रिकॉर्ड निचले स्तर पर है, और बैंक अपने ए 4 बिलियन डॉलर (2 बिलियन डॉलर) साप्ताहिक बांड खरीद कार्यक्रम पर टिका हुआ है।

ऑस्ट्रेलियाई बैंकिंग समूह एएनजेड ने मंगलवार को भविष्यवाणी की कि ऑस्ट्रेलिया की बेरोजगारी दर, वर्तमान में 4.5 प्रतिशत पर मापी गई है, जो इस साल के अंत में नौकरी के विज्ञापनों के आंकड़ों के आधार पर 5 प्रतिशत से अधिक हो जाएगी, जिसमें लगातार तीसरे महीने नौकरी की रिक्तियों में गिरावट देखी गई।

अदालत द्वारा शिकायतों को खारिज करने के बाद फिर से शुरू होगी बेरूत विस्फोट की जांच

फोटो: IANS
फोटो: IANS

कोर्ट ऑफ अपील द्वारा पूर्व मंत्रियों के खिलाफ दायर कानूनी शिकायतों को खारिज करने के बाद लेबनान के न्यायाधीश तारेक बितार मंगलवार को अगस्त 2020 में हुए पोर्ट ऑफ बेरूत विस्फोटों मामले में अपनी जांच फिर से शुरू करेंगे। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, अदालत ने कहा कि वह शिकायतों पर शासन करने के योग्य नहीं थी, जबकि कोर्ट ने इस तुच्छ दावे के लिए प्रत्येक पूर्व मंत्री पर 800,000 लेबनानी पाउंड का जुमार्ना लगाया है।

पूर्व गृह मंत्री नौहाद मच्नौक और पूर्व मंत्रियों द्वारा दर्ज इसी तरह के आरोप के अलावा बितार के खिलाफ शिकायत दर्ज करने के बाद जांच को एक सप्ताह के लिए निलंबित कर दिया गया था।
200 से अधिक लोगों की जान लेने वाले बेरूत विस्फोटों की जांच का नेतृत्व करने वाले बितार का उद्देश्य पूर्व मंत्रियों से लापरवाही के संदेह में पूछताछ करना है।


एयर कॉरिडोर बंद होने से भारत में अफगान कालीन के निर्यात में आई गिरावट

फोटो: IANS
फोटो: IANS

अफगान व्यापारियों ने कहा कि भारत सहित कई देशों में कालीन निर्यात में हवाई कॉरिडोर बंद होने से काफी कमी आई है, साथ ही घरेलू बिक्री में भी कमी आई है। टोलो न्यूज ने एक व्यापारी मोहिबुल्लाह कोही के हवाले से कहा, "हमारे पास उत्पाद हैं, लेकिन निर्यात बंद हो गया है।"

उन्होंने कहा, "एयर-कॉरिडोर पहले मौजूद था, बंदरगाह खोले गए थे और हमने यूरोप, अमेरिका, यूएई और भारत को उत्पादों का निर्यात किया था।" एक अन्य व्यापारी मोहम्मद अयूब के मुताबिक घरेलू बाजार पर भी असर पड़ा है।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia