दुनिया की 5 बड़ी खबरें: अमेरिकी सेना के लौटते ही तालिबान का तांडव शुरू औ जानें कैसा है अफगानिस्तान का भविष्य!

तालिबान ने ऐसे लोगों के घरों के दरवाजों पर नाइट लेटर्स (धमकी भरी चिट्ठियां) चिपकाने शुरू कर दिए हैं, जिन्होंने कभी किसी भी रूप में अमेरिकी सेना की मदद की थी। अब सवाल उठता है कि आखिर तालिबान की वापसी क्यों हुई और अब अफगानिस्तान का भविष्य क्या होगा?

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

लुइसियाना में शक्तिशाली तूफान के कहर से 2 की मौत

फोटो: IANS
फोटो: IANS

अमेरिकी राज्य लुइसियाना में शक्तिशाली श्रेणी-4 तूफान इडा के पहुंचने के करीब दो दिन बाद कम से कम दो लोगों के मारे जाने की पुष्टि हो गई है। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, इडा को सोमवार दोपहर को एक उष्णकटिबंधीय अवसाद में डाउनग्रेड किया गया और मूसलाधार बारिश के साथ अंतर्देशीय हो गया, जिससे तटीय राज्य में व्यापक नुकसान हुआ।

दो पीड़ितों में से लुइसियाना के सबसे बड़े शहर न्यू ऑरलियन्स में बाढ़ के पानी से ड्राइव करने की कोशिश करने के बाद एक व्यक्ति अपनी कार में डूब गया और राज्य की राजधानी शहर बैटन रूज के पास अपने घर पर गिरने वाले एक 60 वर्षीय व्यक्ति को एक पेड़ की चपेट में ले लिया गया। लुइसियाना के गवर्नर जॉन बेल एडवर्डस ने पहले कहा था कि खोज और बचाव के प्रयास जारी हैं, मरने वालों की संख्या बढ़ सकती है।

तालिबान की वापसी और अफगानिस्तान का भविष्य

फोटो: IANS
फोटो: IANS

अमेरिका ने 2001 में 9/11 के आतंकवादी हमलों के बाद अफगान युद्ध शुरू किया था, लेकिन इसने 20 साल बाद गैर-जिम्मेदाराना तरीके से युद्ध समाप्त कर दिया। अब सवाल उठता है कि आखिर तालिबान की वापसी क्यों हुई और अब अफगानिस्तान का भविष्य क्या होगा? 30 अगस्त को, यूएस सेंट्रल कमांड के कमांडर जनरल केनेथ मैकेंजी ने घोषणा की कि अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की वापसी पूरी हो गई है, और अमेरिकी सैन्य कब्जे के 20 साल समाप्त हो गए हैं। यद्यपि यह अमेरिकी सेना के लिए एक मिशन पूरा है, लेकिन कई लोग इसे मिशन विफल के रूप में देखते हैं।

जब से तालिबान ने काबुल पर कब्जा किया है, तब से होने वाली अराजकता के लिए मुख्य रूप से अमेरिका पर आरोप लगाया गया है। स्थिति इतनी तेजी से सामने आई कि अफगानिस्तान में सबसे तेज निर्णय लेने वालों को भी नहीं पता था कि कैसे प्रतिक्रिया दी जाए। कुछ ने तालिबान के सामने आत्मसमर्पण कर दिया और कुछ भाग गये।


अमेरिकी सेना की मदद करने वालों के दरवाजों पर तालिबान ने चिपकाई धमकी भरी चिट्ठी, सरेंडर नहीं करने पर सजा-ए-मौत

फोटो: IANS
फोटो: IANS

तालिबान ने ऐसे लोगों के घरों के दरवाजों पर नाइट लेटर्स (धमकी भरी चिट्ठियां) चिपकाने शुरू कर दिए हैं, जिन्होंने कभी किसी भी रूप में अमेरिकी सेना की मदद की थी। दरवाजों पर चिपकाए गए इन नाइट लेटर्स कहा गया है कि अगर वो सरेंडर नहीं करते हैं तो फिर उन्हें मौत की सजा दी जाएगी।

डेली मेल की रिपोर्ट के अनुसार, धमकी भरी चिट्ठियों में तालिबान द्वारा उन्हें अदालत में उपस्थित होने का फरमान सुनाया गया हैं। यही नहीं, इनमें यह चेतावनी भी दी गई है कि ऐसा करने में विफलता के परिणामस्वरूप मौत की सजा होगी।

पत्र डराने-धमकाने का एक पारंपरिक अफगान तरीका है। बता दें कि चिट्ठी भेजकर कोर्ट में बुलाना और फिर कत्ल कर देना, ये तालिबान का पारंपरिक तरीका रहा है और पिछले शासनकाल के दौरान भी तालिबान ने भी यही किया था। जब अफगानिस्तान पर सोवियत संघ का कब्जा था, उस वक्त भी मुजाहिदीन चिट्ठियों का ही इस्तेमाल किया करते थे।

अफगान टीवी न्यूज प्रजेंटर ने सशस्त्र तालिबानियों के सामने पढ़ा समाचार

फोटो: IANS
फोटो: IANS

एक चौंकाने वाले घटनाक्रम में, एक अफगान टीवी समाचार प्रस्तोता ने तालिबान के सशस्त्र सदस्यों के समक्ष सुर्खियों को पढ़ा। डेली मेल की रिपोर्ट के अनुसार, इस क्लिप को टीवी स्टूडियो द्वारा ऑनलाइन साझा किया गया था, जब आतंकवादियों ने इमारत पर धावा बोल दिया और समाचार एंकर से तालिबान की प्रशंसा करने की मांग की।

42 सेकंड की क्लिप में, जिसे तब से 10 लाख से अधिक बार देखा जा चुका है, समाचार एंकर आठ हथियारबंद लोगों से घिरे हुए हैं जो पढ़ते समय उनकी रक्षा करते हुए दिखाई देते हैं।
यह बताया गया है कि उन्होंने रविवार को इमारत पर धावा बोल दिया और प्रस्तुतकर्ता से उनके साथ बात करने की मांग की। वाईओ न्यूज के मुताबिक, न्यूज एंकर ने ऑन एयर रहते हुए आतंकियों से डिबेट की।


दक्षिण अफ्रीकी पुलिस ने जुलाई में अशांति फैलाने को लेकर 18 संदिग्धों को किया गिरफ्तार

फोटो: IANS
फोटो: IANS

दक्षिण अफ्रीका की पुलिस ने कहा कि उन्होंने पिछले महीने पूर्व राष्ट्रपति जैकब जुमा की कैद के बाद भड़की अशांति के दौरान हिंसा भड़काने के आरोप में 18 संदिग्धों को गिरफ्तार किया है। पुलिस प्रवक्ता कैटलेगो मोगले ने कहा, "अब तक, लगभग 18 संदिग्धों को पुलिस और प्राथमिकता अपराध जांच निदेशालय (डीपीसीआई) द्वारा गिरफ्तार किया गया है। कुछ पहले ही गौतेंग, फ्री स्टेट और क्वाजुलु-नटाल में विभिन्न अदालतों में पेश हो चुके हैं, अन्य को जमानत दे दी गई है और कइयों को हिरासत में भेज दिया गया है।"

उन्होंने कहा कि संदिग्धों में से एक, 36 वर्षीय जमास्वाजी जि़न्हले मजोजी ने लगभग 60,000 अनुयायियों के साथ 'स्फिथिफिथि इवैल्यूएटर' हैंडल के तहत एक ट्विटर अकाउंट बनाया, जहां उन्होंने लोगों को अपराध करने के लिए उकसाया।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia