दुनिया की बड़ी खबरेंः ओलंपिक गोल्ड विजेता बॉक्सर यूक्रेन सेना में शामिल, बांग्लादेश में नए चुनाव आयोग का हुआ गठन

चीन के सरकारी मीडिया ने अमेरिका द्वारा मानवाधिकार उल्लंघन से जुड़ी एक रिपोर्ट जारी की है, जिसमें अमेरिका के मानवाधिकार उल्लंघन करने की सच्चाई का पदार्फाश किया गया है। मेटा (फेसबुक) ने यूक्रेन में कई रूसी सरकारी मीडिया की पहुंच को सीमित कर दिया है।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

ओलंपिक गोल्ड विजेता बॉक्सर यूक्रेनी सेना में शामिल

दो बार के ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता मुक्केबाज वासिली लोमाचेंको रूसी आक्रमण के बाद यूक्रेन की सेना में शामिल हो गए हैं। लोमाचेंको को दुनिया के शीर्ष मुक्केबाजों में से एक माना जाता है, उन्होंने अपने फेसबुक अकाउंट पर एक तस्वीर पोस्ट की जिसमें वह एक सैन्य वर्दी पहने हुए दिखाई दे रहे हैं और जाहिर तौर पर इस रविवार को युद्ध क्षेत्र में प्रवेश करने के लिए तैयार हैं।

ईएसपीएन की एक रिपोर्ट के अनुसार, 2008 और 2012 के ओलंपिक खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाले लोमाचेंको हाल ही में अपने परिवार के साथ रहने के लिए ओडेसा के पास अपने घर लौटे हैं। टॉक स्पोर्ट डॉट कॉम के ऑनलाइन बॉक्सिंग संपादक माइकल बेन्सन ने यूक्रेनी सेना की जर्सी पहने हुए लोमाचेंको की एक तस्वीर भी पोस्ट की।

इससे पहले हॉल ऑफ फेम बॉक्सर विटाली क्लिट्स्को, जो अब यूक्रेनी राजधानी कीव के मेयर हैं, ने हाल ही में घोषणा की कि वह अपने देश की रक्षा में सहायता करेंगे। उनके भाई और साथी हॉल ऑफ फेमर और पूर्व हैवीवेट चैंपियन व्लादिमीर भी इस महीने की शुरुआत में देश की रिजर्व सेना में शामिल हुए हैं।

चीन ने अमेरिका के मानवाधिकार उल्लंघन से जुड़ी रिपोर्ट जारी की

चीनी राज्य परिषद के न्यूज कार्यालय ने 28 फरवरी को अमेरिका द्वारा मानवाधिकार उल्लंघन से जुड़ी 2021 वार्षिक रिपोर्ट जारी की। इसमें अमेरिका द्वारा मानवाधिकार का उल्लंघन करने की सच्चाई का पदार्फाश किया गया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि वर्ष 2021 में अमेरिका में मानवाधिकार की स्थिति और खराब रही। राजनीतिक नियंत्रण से कोरोना से मरने वालों की संख्या तेजी से बढ़ी। गोलीबारी में मरने वालों की संख्या का फिर एक नया रिकॉर्ड बना।

चीनी रिपोर्ट में कहा गया है कि झूठा लोकतंत्र नागरिकों के राजनीतिक अधिकारों को पैरों तले रौंदता है। कानून लागू करने में हिंसा से उत्प्रवासियों और शरणार्थियों का जीवन और कठिन बना। अल्पसंख्यक जाति, विशेषकर एशियाई मूल के लोगों के खिलाफ भेदभाव के मामले बढ़े।

रिपोर्ट में कहा गया है कि अमेरिका ने सैन्य प्रतिबंधों के दुरूपयोग से अन्य देशों के मानवाधिकारों का उल्लंघन किया। अमेरिका प्रभुत्ववाद, एकतरफावाद और हस्तक्षेपवाद पर कायम रहता है। अमेरिका अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार कार्य के स्वस्थ विकास में सबसे बड़ी बाधा बन गया है।


बांग्लादेश में नए चुनाव आयोग का गठन, CEC के साथ चार चुनाव आयुक्तों ने ली शपथ

बांग्लादेश के नए मुख्य चुनाव आयुक्त (सीईसी) और चार चुनाव आयुक्तों ने शपथ ली और दक्षिण एशियाई देश के नए चुनाव आयोग (ईसी) का गठन किया। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार मुख्य न्यायाधीश हसन फोएज सिद्दीकी ने रविवार को काजी हबीबुल अवल को सुप्रीम कोर्ट में एक समारोह में नए सीईसी के रूप में शपथ दिलाई। शपथ ग्रहण समारोह में सुप्रीम कोर्ट के अपीलीय प्रभाग के न्यायाधीश, वरिष्ठ अधिकारी और पत्रकार सहित अन्य लोग शामिल हुए।

शनिवार को बांग्लादेशी राष्ट्रपति मोहम्मद अब्दुल हमीद ने सरकार के पूर्व वरिष्ठ सचिव अवल को सीईसी और चार अन्य लोगों को चुनाव आयुक्त नियुक्त किया। बांग्लादेश के पिछले पांच सदस्यीय चुनाव आयोग का पांच साल का कार्यकाल 14 फरवरी को समाप्त हो गया।

यूक्रेन में रूसी सरकारी मीडिया की पहुंच सीमित करेगा फेसबुक

मेटा (पूर्व में फेसबुक) ने यूक्रेन में कई रूसी राज्य-नियंत्रित खातों की पहुंच को अवरुद्ध कर दिया है। सोशल नेटवर्क ने कहा कि वह अपने देशों में इन खातों तक पहुंच को प्रतिबंधित करने के लिए अन्य सरकारों के अनुरोधों की भी समीक्षा कर रहा है। मेटा में वैश्विक मामलों के उपाध्यक्ष निक क्लेग ने सोमवार तड़के एक ट्वीट में कहा कि कंपनी यूक्रेन की सरकार के संपर्क में है। क्लेग ने लिखा, "उनके अनुरोध पर, हमने यूक्रेन में कई खातों तक पहुंच को प्रतिबंधित कर दिया है, जिनमें कुछ रूसी सरकारी मीडिया संगठनों से संबंधित हैं।"

उन्होंने कहा कि हम रूसी राज्य नियंत्रित मीडिया को प्रतिबंधित करने के अन्य सरकारी अनुरोधों की भी समीक्षा कर रहे हैं। यूक्रेनियन ने यह भी सुझाव दिया है कि मेटा रूस में फेसबुक और इंस्टाग्राम तक पहुंच को हटा दें। उन्होंने बताया, "हालांकि, रूस में लोग युद्ध के खिलाफ और स्वतंत्र जानकारी के स्रोत के रूप में विरोध और संगठित करने के लिए फेसबुक और आईजी का उपयोग कर रहे हैं।"

उन्होंने कहा कि रूसी सरकार पहले से ही इन गतिविधियों को रोकने के लिए हमारे मंच का गला घोंट रही है। हमारा मानना है कि हमारी सेवाओं को बंद करने से महत्वपूर्ण समय में महत्वपूर्ण अभिव्यक्ति चुप हो जाएगी।


रूसी सेना ने 1,114 यूक्रेनी सैन्य ठिकानों को बनाया निशाना

रूसी सशस्त्र बलों ने युद्ध शुरू होने के बाद से अभी तक यूक्रेन के 1,114 सैन्य बुनियादी ढांचे से जुड़े ठिकानों को निशाना बनाया है। रूस के रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता इगोर कोनाशेनकोव ने सोमवार को यह जानकारी दी। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट में कहा गया है कि उनके अनुसार रूस की वायु सेना ने सोमवार को भी यूक्रेन के पूरे क्षेत्र में हवाई वर्चस्व हासिल कर लिया। हालांकि, यूक्रेन की ओर से इस खबर की पुष्टि होना बाकी है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia