दुनिया की बड़ी खबरें: यूक्रेन के विवादित क्षेत्र में हजारों रूसी सैनिक पहुंचे, 21 भारतीय मछुआरों को छोड़ेगा श्रीलंका

मछली पकड़ने के दौरान समुद्री सीमा पार कर गए तमिलनाडु और पुडुचेरी के 21 भारतीय मछुआरों को श्रीलंका की एक अदालत ने रिहा करने का आदेश दिया है। क्रेडिट सुईस के डाटा लीक से पता चला है कि इस बैंक में कतर के पूर्व सुल्तान समेत कई शीर्ष अरब नेताओं का अकांउट था।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

रूस-यूक्रेन संकट गहराया, विवादित क्षेत्र में रूस के हजारों सैनिक पहुंचे

रूस ने विद्रोहियों के कब्जे वाले यूक्रेन के जिन इलाकों को स्वतंत्र राष्ट्र घोषित किया है, वहां पिछले चंद घंटो के दौरान रूस के हजारों सैनिक पहुंच चुके हैं। ब्रिटेन के समाचार पत्र डेली मेल की रिपोर्ट के मुताबिक यूक्रेन की सेना के खुफिया सूत्रों ने बताया है कि पिछले 12 घंटे के दौरान लुहांस्क में रूस के पांच हजार, दोनेस्क में छह हजार और हॉल्र्विका में डेढ़ हजार सैनिक पहुंचे हैं।

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने पूर्वी यूक्रेन में विद्रोहियों के कब्जे वाले दोनों इलाकों लुहांस्क और दोनेस्क को पृथक देश की मान्यता दी है। पुतिन की इस घोषणा के साथ ही रूसी सैनिकों का इन इलाकों में घुसने का रास्ता साफ हो गया था। इस संबंध में पहले से ही रिपोर्ट आ रही थी कि बख्तरबंद तोपों के साथ रूस की सेना का 200 से अधिक वाहनों का काफिला यूक्रेन के सीमावर्ती इलाकों की ओर बढ़ रहा था। रूस का कहना है कि दोनेस्क और लुहांस्क के विद्रोहियों के कब्जे वाले इलाके ही नहीं बल्कि पूरे प्रांत को ही पुतिन ने स्वतंत्र राष्ट्र की मान्यता दी है। रूस की इस घोषणा ये यह चिंता बढ़ गयी है कि उसने यूक्रेन के साथ सीधी लड़ाई की ठान ली है।

श्रीलंका ने 21 भारतीय मछुआरों को रिहा करने का दिया आदेश

तमिलनाडु और पुडुचेरी के कराईक्कल के 21 मछुआरों को देश की एक अदालत ने रिहा करने का आदेश दिया है, जिन्हें श्रीलंकाई नौसेना ने 31 जनवरी को अंतर्राष्ट्रीय समुद्री सीमा रेखा को कथित रूप से पार करने के आरोप में गिरफ्तार किया था। श्रीलंकाई अधिकारी मछुआरों को भारतीय वाणिज्य दूतावास को सौंप देंगे, जिसके बाद सभी कोविड- 19 प्रोटोकॉल से गुजरने के बाद उन्हें एक सप्ताह में भारत वापस भेज दिया जाएगा।

21 मछुआरे 31 जनवरी को दो नावों में सवार होकर मछली पकड़ने गए थे। एक नाव में बारह और दूसरी में नौ सवार थे। श्रीलंकाई नौसेना ने उन्हें उस समय हिरासत में ले लिया, जब वे उसी रात कोडियाकराई में मछली पकड़ रहे थे। मछुआरों को प्वाइंट प्रेडो की कोर्ट में ले जाया गया और 7 फरवरी तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया और बाद में 21 फरवरी तक बढ़ा दिया गया। जाफना जिले के माइलिडी मछली पकड़ने के बंदरगाह पर ट्रॉलरों को हिरासत में ले लिया गया।

श्रीलंका में मत्स्य पालन और जलीय संसाधन विभाग ने दो नावों को जब्त कर लिया और द्वीप राष्ट्र के कानून के अनुसार, नौकाओं को मछुआरों को देने की संभावना नहीं है। इस बीच, रामनाथपुरम के 29 अन्य मछुआरे अभी भी श्रीलंका में जेल में बंद हैं, जिन्हें तीन अलग-अलग घटनाओं में गिरफ्तार किया गया था।

दुनिया की बड़ी खबरें: यूक्रेन के विवादित क्षेत्र में हजारों रूसी सैनिक पहुंचे, 21 भारतीय मछुआरों को छोड़ेगा श्रीलंका
फोटोः IANS

क्रेडिट सुईस बैंक में थे शीर्ष अरब नेताओं के अकाउंट, लीक होने से हड़कंप

अपनी अति गोपनीय बैंकिंग प्रणाली के कारण कालाधन को छुपाने के लिए सर्वोत्तम जगह माने जाने वाले देश स्विट्जरलैंड के निजी बैंक क्रेडिट सुईस के डाटा लीक से पता चला है कि इस बैंक में कतर के पूर्व सुल्तान समेत कई शीर्ष अरब नेताओं का अकांउट था। वर्ष 1940 से वर्ष 2010 तक के क्रेडिट सुईस के डाटा लीक से पता चला है कि कतर के पूर्व सुल्तान काबूस बिन सईद का इस बैंक में दो अकांउट था, जिनमें से एक खाता उन्होंने 1971 में खोला था। एक समय इस खाते में 126 मिलियन डॉलर से अधिक राशि जमा थी।

इराक के कारोबारी और राजनीतिज्ञ अयाद अल्लावी ने 1980 में खाता खोला। वह 2004-2005 में इराक के अंतिम प्रधानमंत्री थे और इसके बाद वह 2014-15 और 2016-18 के बीच इराक के उपराष्ट्रपति रहे। सीरिया के पूर्व राष्ट्रपति हाफिज अल-असद की पत्नी के भाई मोहम्मद मकलूफ का भी अकांउट इस बैंक में था। वह कई साल तक अपनी बहन के पति के नाम पर राजनीतिक संबंधों का लाभ उठाते रहे।

मिस्र के हुसैन सालेम, जो होस्नी मुबारक के सहयोगी थे, वह 30 साल से अधिक समय तक क्रेडिट सुईस में अपना अकाउंट चलाते रहे। सालेम के करीब छह खाते थे, जिनमें लाखों मिलियन डॉलर की रकम जमा थी। सीरिया के उपराष्ट्रपति अब्दुल हलीम खद्दाम ने भी इस बैँक में काफी रकम जमा कर रखी थी। वह 1970 से 2005 के बीच सरकार में कई शीर्ष पदों पर रहे। वह 1980 में सुर्खियों में आये जब उन्होंने लेबनान के गृह युद्ध के दौरान सीरिया की संलिप्तता में मदद की।

खद्दाम ने लेबनान के अमीर कारोबारी रफीक हरीरी का सहयोग किया, जिससे हरीरी 1992 में लेबनान के प्रधानमंत्री बन गये। हरीरी को अपने सहयोगियों को धन देने के लिए जाना जाता था। हरीरी की हत्या 2005 में हो गयी और सीरिया में भी बशर अल असद की सरकार बन गयी। बशर अल असद के सत्ता में आने के बाद खद्दाम पेरिस भाग गया।

दुनिया की बड़ी खबरें: यूक्रेन के विवादित क्षेत्र में हजारों रूसी सैनिक पहुंचे, 21 भारतीय मछुआरों को छोड़ेगा श्रीलंका
फोटोः IANS

शराब रखने के आरोप में इमरान खान की पत्नी के बेटे पर केस दर्ज

डॉन की रिपोर्ट के मुताबिक, लाहौर पुलिस ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की पत्नी बुशरा बीबी के छोटे बेटे के खिलाफ शराब रखने के आरोप में प्राथमिकी दर्ज की है। प्राथमिकी के अनुसार, गालिब मार्केट पुलिस ने सोमवार तड़के उनकी कार से शराब बरामद की थी और मुहम्मद मूसा मेनका, साथ ही उनके चचेरे भाई मोहम्मद अहमद मेनका (पीएमएल-एन एमएनए अहमद रजा मेनका के बेटे) और एक दोस्त अहमद शहरयार के खिलाफ मामला दर्ज किया था।

जहूर इलाही रोड पर पुलिस पिकेट पार करते समय गिरफ्तार किए गए तीन संदिग्धों के खिलाफ निषेध (एनफोर्समेंट ऑफ हैड ऑर्डर, 1979) की उपधारा 3, 4 और 11 के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है। शहरयार एक अस्पताल में जांच के बाद नशे में पाया गया था। मूसा और अहमद को बाद में मेनका परिवार के एक व्यक्ति की व्यक्तिगत गारंटी पर रिहा कर दिया गया क्योंकि उन्होंने उस समय प्रतिबंधित पदार्थ का सेवन नहीं किया था। शहरयार को कोर्ट से जमानत मिल गई है। पुलिस ने बरामद शराब के सैंपल को फॉरेंसिक जांच के लिए भेजा है।

दुनिया की बड़ी खबरें: यूक्रेन के विवादित क्षेत्र में हजारों रूसी सैनिक पहुंचे, 21 भारतीय मछुआरों को छोड़ेगा श्रीलंका
फोटोः IANS

ब्राजील में भूस्खलन और बाढ़ से मरने वालों की संख्या 176 हुई

ब्राजील के राज्य रियो डी जनेरियो के पेट्रोपोलिस नगर पालिका में पिछले हफ्ते भारी बारिश के कारण भूस्खलन और बाढ़ से मरने वालों की संख्या बढ़कर 176 हो गई है। स्थानीय अग्निशमन विभाग ने इसकी जानकारी दी है। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, विभाग की रिपोर्ट के मुताबिक, रियो डी जनेरियो शहर से 68 किमी उत्तर में स्थित पेट्रोपोलिस के प्रभावित इलाके में अब भी 100 से अधिक लोग लापता हैं।

दुनिया की बड़ी खबरें: यूक्रेन के विवादित क्षेत्र में हजारों रूसी सैनिक पहुंचे, 21 भारतीय मछुआरों को छोड़ेगा श्रीलंका
फोटोः IANS

बचाव दल कीचड़ में दबे लोगों की तलाश में दिन रात काम कर रहे हैं, अब तक 24 लोगों को बचा लिया गया है। राष्ट्रीय मौसम विज्ञान संस्थान ने बताया कि इस क्षेत्र में सबसे तेज बारिश 15 फरवरी को दर्ज की गई थी और तब से कई बार भारी बारिश हुई है। ब्राजीलियाई एटलस ऑफ नेचुरल डिजास्टर्स के अनुसार, दर्ज की गई मौतों की वर्तमान संख्या शहर के इतिहास में सबसे अधिक है, जो 1988 में हुई विनाशकारी भारी बारिश से अधिक है, जब 171 लोग मारे गए थे।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia