दुनिया की 5 बड़ी खबरें: अफगानिस्तान की लड़खड़ाती अर्थव्यवस्था ने तालिबान पर डाला दबाव और चीन ने अमेरिका पर साधा निशाना

नव तालिबान शासन के सामने एक नई चुनौती जरूर आ खड़ी हुई है और वह है अफगानिस्तान की अर्थव्यवस्था के बिगड़े हुए हालात। अफगानिस्तान से अमेरिका की वापसी को लेकर निशाना साधते हुए चीन ने वाशिंगटन पर 'स्वार्थी' विदेश नीति प्राथमिकताएं रखने का आरोप लगाया।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

तालिबान मानवाधिकारों का हनन: पाकिस्तान के ओआईसी के प्रस्ताव के मसौदे ने प्रतिक्रिया से ज्यादा अपमानित किया

पाकिस्तान द्वारा इस्लामिक सहयोग संगठन (ओआईसी) के लीडर के तौर पर तैयार किए गए एक टेक्स्ट मैसेज ड्राफ्ट में अफगानिस्तान में तालिबान द्वारा मानवाधिकारों के गंभीर हनन के लिए सबसे कमजोर संभव प्रतिक्रिया की सिफारिश की गई है। ह्यूमन राइट्स वॉच (एचआरडब्ल्यू) ने अपनी एक रिपोर्ट में यह दावा किया है।

एचआरडब्ल्यू ने कहा कि अफगानिस्तान में तालिबान द्वारा गंभीर मानवाधिकारों के हनन की रिपोर्ट्स हैं, संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद मंगलवार को एक आपातकालीन सत्र आयोजित करेगी। इसे तत्काल सबसे मजबूत संभावित निगरानी तंत्र को अनिवार्य करना चाहिए। एचआरडब्ल्यू ने यह भी कहा कि दुर्भाग्य से, अशुभ संकेत हैं कि संयुक्त राष्ट्र के सदस्य देश आवश्यक नेतृत्व दिखाने में विफल हो सकते हैं।

पाकिस्तान ने बिना टीकाकरण वालों के लिए सार्वजनिक परिवहन के इस्तेमाल पर लगाई रोक

फोटो: IANS
फोटो: IANS

पाकिस्तान ने घोषणा की है कि जिन लोगों को कोरोनावायरस के खिलाफ पूरी तरह से टीका नहीं लगाया गया है, उन्हें 15 अक्टूबर से सार्वजनिक परिवहन का उपयोग करने की अनुमति नहीं दी जाएगी। जियो टीवी की रिपोर्ट के मुताबिक, स्कूल के शिक्षकों और कर्मचारियों को भी 15 अक्टूबर के बाद काम नहीं करने दिया जाएगा। 30 सितंबर के बाद हवाई यात्रा के लिए टीकाकरण अनिवार्य कर दिया गया है, जबकि स्कूलों में काम करने वालों और परिवहन के इस्तेमाल करने वालों को तारीख से पहले अपनी खुराक लेनी होगी।

31 अगस्त से बिना टीकाकरण वाले लोगों को शॉपिंग मॉल में जाने की अनुमति नहीं दी जाएगी और जिन लोगों ने वैक्सीन की पहली खुराक ली है, उन्हें 29 सितंबर तक शॉपिंग मॉल में जाने की अनुमति दी जाएगी। 30 सितंबर से शॉपिंग मॉल में प्रवेश करने के लिए केवल उन लोगों को अनुमति दी जाएगी जिन्होंने अपने दोनों खुराक लिए होंगे।


अफगानिस्तान की लड़खड़ाती अर्थव्यवस्था ने तालिबान पर डाला दबाव

अफगानिस्तान में नया तालिबान शासन अब भले ही गंभीर सैन्य विरोध का सामना नहीं कर रहा है, मगर इस नव तालिबान शासन के सामने एक नई चुनौती जरूर आ खड़ी हुई है और वह है अफगानिस्तान की अर्थव्यवस्था के बिगड़े हुए हालात। यह एक ऐसा आर्थिक पतन है, जो तालिबान के शासन के लिए नए सिरे से चुनौतियों को हवा दे सकता है और यह विपदा पहले से ही उन पर सत्ता साझा करने का दबाव डाल रही है।

द वॉल स्ट्रीट जर्नल ने अपनी एक रिपोर्ट में बताया कि 15 अगस्त को राष्ट्रपति अशरफ गनी और उनके अधिकांश मंत्री काबुल से भाग जाने के बाद से अफगानिस्तान में कोई वैध सरकार नहीं रही है। तब से आठ दिनों के दौरान बैंक और मुद्रा विनिमय (मनी एक्सचेंज) बंद रहे हैं और बुनियादी वस्तुओं की कीमतों में वृद्धि हुई है। आर्थिक गतिविधियां ठप हो गई हैं।

अफगान वापसी को लेकर चीन ने अमेरिका पर साधा निशाना

फोटो: IANS
फोटो: IANS

अफगानिस्तान से अमेरिका की वापसी को लेकर निशाना साधते हुए चीन ने वाशिंगटन पर 'स्वार्थी' विदेश नीति प्राथमिकताएं रखने का आरोप लगाया। बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार, चीन ने कहा कि अमेरिका ने अपने 'बदमाशी वाले वर्चस्ववादी व्यवहार' का बचाव करने के लिए एक नियम-आधारित वैश्विक व्यवस्था को लेकर बयानबाजी का इस्तेमाल किया था।

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वेनबिन ने एक प्रेस वार्ता में कहा, "अमेरिका एक संप्रभु देश में स्वेच्छा से सैन्य हस्तक्षेप कर सकता है और उसे उस देश के लोगों की पीड़ा के लिए जिम्मेदार होने की आवश्यकता भी नहीं है।"

उन्होंने कहा, "अमेरिका मनमाने ढंग से बिना कोई कीमत चुकाए दूसरे देशों को बदनाम कर सकता है, दबा सकता है, जबरदस्ती कर सकता है और धमका सकता है।"


श्रीलंका के विपक्ष ने तालिबान को स्वीकार करने की सरकार के फैसले की आलोचना की

फोटो: IANS
फोटो: IANS

श्रीलंका के मुख्य विपक्षी दल ने सार्क से अफगानिस्तान में रह रहे सदस्य देशों के नागरिकों की सुरक्षा सुनिश्चित करने का आग्रह किया है। विपक्षी नेता साजिथ प्रेमदासा ने सार्क के महासचिव से इस दौरान सभी सार्क नागरिकों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए अपने कार्यालय का उपयोग करने का आह्वान किया है। श्रीलंकाई सरकार को अपने अंतर्राष्ट्रीय दायित्वों की याद दिलाते हुए, विपक्ष ने गैर-प्रतिशोध के दायित्व का सम्मान करने का आग्रह किया है, जो एक देश को शरण चाहने वालों को उस देश में लौटने से रोकता है, जिसमें उन्हें उत्पीड़न का संभावित खतरा होता है।

"सरकार का अफगान शरण चाहने वालों के अधिकारों का सम्मान करने के लिए एक विशिष्ट दायित्व है जो या तो वर्तमान में श्रीलंका में रह रहे हैं या भविष्य में श्रीलंका में प्रवेश कर सकते हैं।"

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia