दुनिया की 5 बड़ी खबरें: बाइडन ने लिया करारा जवाब देने का संकल्प और जानें क्यों अफगानिस्तान में विफल रहा अमेरिका?

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन ने काबुल हवाईअड्डे पर हुए आत्मघाती बम धमाकों में शामिल लोगों की तलाश करते हुए उन्हें करारा जवाब देने का संकल्प लिया है। 84.6 प्रतिशत का मानना है कि अफगानिस्तान में आतंकवाद के खिलाफ युद्ध में अमेरिका विफल रहा है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

80 प्रतिशत से अधिक वैश्विक नेटिजन मानते हैं कि अफगानिस्तान में अमेरिका विफल रहा !

अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की वापसी जारी है। राजधानी काबुल पर तालिबान के नियंत्रण के कारण अफगानिस्तान की सरकारी सेना विफल हो गई। अफगानिस्तान में तैनात अमेरिकी सैनिकों ने अफगानिस्तान में 20 साल से चली आ रही अमेरिकी सैन्य उपस्थिति को साइगॉन-शैली की वापसी के साथ समाप्त कर दिया, जो कि पूर्व के इतिहास की तरह है। सीजीटीएन थिंक टैंक ने पेइचिंग समय के अनुसार 20 अगस्त की रात को 11 बजे से सोशल मीडिया ट्विटर, फेसबुक, यूट्यूब, वेइबो और वीचैट पर चीनी, अंग्रेजी, स्पेनिश, फ्रेंच, अरबी और रूसी छह भाषाओं में ऑनलाइन वोटिंग शुरू की। प्रेस समय के अनुसार, इस ऑनलाइन जनमत सर्वेक्षण में वैश्विक नेटिजनों की संख्या व्यक्त करने, पोस्ट करने और टिप्पणी करने की कुल संख्या 1 लाख 40 हजार से अधिक है। 84.6 प्रतिशत का मानना है कि अफगानिस्तान में आतंकवाद के खिलाफ युद्ध में अमेरिका विफल रहा है। कुछ नेटिजनों ने इसे अमेरिका और पश्चिम की एक सामान्य विफलता कहा।

मलेशिया के नए प्रधानमंत्री ने किया मंत्रिमंडल का खाका पेश किया

फोटो: IANS
फोटो: IANS

मलेशिया के नए प्रधान मंत्री इस्माइल साबरी याकूब ने शुक्रवार को अपने मंत्रिमंडल का खाका पेश किया, जिसमें उनके पूर्ववर्ती के समान एक लाइन-अप है, जिसमें किसी उप प्रधान मंत्री का नाम नहीं है। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, एक टेलीविजन भाषण में, इस्माइल साबरी ने कहा कि मंत्रियों को थोड़े समय में खुद को साबित करना होगा क्योंकि देश अभी भी कोविड -19 महामारी और इसके आर्थिक नतीजों से जूझ रहा है।

"मैं यह सुनिश्चित करूंगा कि यह कैबिनेट उच्च प्रदर्शन वाली कार्य संस्कृति पर ध्यान केंद्रित करे। इसलिए, प्रत्येक मंत्रालय को अपनी अल्पकालिक और दीर्घकालिक योजनाओं का मसौदा तैयार कर निर्धारित लक्ष्यों को प्राप्त करना चाहिए।" उन्होंने कहा, "इसलिए, सभी मंत्रालय को पहले 100 दिनों के भीतर अपना प्रारंभिक प्रदर्शन साबित करना होगा।"


नासा के जेम्स वेब स्पेस टेलीस्कोप का परीक्षण संपन्न, लॉन्च के लिए तैयार

फोटो: IANS
फोटो: IANS

नासा के बहुप्रतीक्षित जेम्स वेब स्पेस टेलीस्कोप ने अपना अंतिम परीक्षण सफलतापूर्वक पूरा कर लिया है। इंजीनियरिंग टीमों ने नॉथ्र्राॅप ग्रुम्मन की सुविधाओं में वेब के लंबे समय तक चलने वाले व्यापक परीक्षण आहार को पूरा कर लिया है।

नासा ने गुरुवार को एक बयान में कहा कि टेलीस्कोप अब अपने प्रक्षेपण स्थल पर शिपमेंट के लिए तैयार किया जा रहा है, और सितंबर में पूरा हो जाएगा। इससे पहले, वेब को मार्च 2021 में लॉन्च करने का लक्ष्य रखा गया था। कोविड महामारी के प्रभावों के साथ-साथ तकनीकी चुनौतियों के कारण लॉन्च को आगे बढ़ाया गया है।

अमेरिका ने आत्मघाती हमलों का करारा जवाब देने का लिया संकल्प

फोटो: IANS
फोटो: IANS

अफगानिस्तान में 20 साल से चले आ रहे दलदल से बाहर निकलने की कोशिश में लगे अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन ने काबुल हवाईअड्डे पर हुए आत्मघाती बम धमाकों में शामिल लोगों की तलाश करते हुए उन्हें करारा जवाब देने का संकल्प लिया है।

अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडेन कम से कम 103 लोगों की जान लेने वाले, जिसमें 13 अमेरिकी सेवा सदस्य भी शामिल हैं, धमाकों के पीछे के लोगों की तलाश करने के संकल्प के साथ एक बार फिर से अफगानिस्तान में आतंक जैसे संवेदनशील मामले में घुसने का जोखिम उठा रहे हैं।

उन्होंने गुरुवार शाम को राष्ट्र के नाम एक संबोधन में घोषणा करते हुए चेतावनी दी और कहा, "इस हमले को अंजाम देने वालों के साथ-साथ अमेरिका को नुकसान पहुंचाने वाले किसी भी व्यक्ति के लिए, यह जान लें: हम माफ नहीं करेंगे। हम नहीं भूलेंगे। हम आपको ढूंढेंगे और आपको इसका खामियाजा भुगतना होगा।"


अमेरिका में कितने आश्चर्यजनक रहस्यों का खुलासा नहीं हुआ है?

फोटो: IANS
फोटो: IANS

अमेरिकी खुफिया एजेंसियों के द्वारा 90 दिनों के भीतर न्यू कोरोना वायरस की ट्रेस्बिलिटी पर निष्कर्ष पर निकाला जाने का स्वांग अस्थायी रूप से खत्म है, और वे किसी भी स्पष्ट निष्कर्ष के साथ आने में असमर्थ हैं। लेकिन इस प्रक्रिया में अमेरिका के कई रहस्य लगातार सामने आए हैं और विश्व जनमत का ध्यान आकर्षित है। लोग अक्सर अमेरिका में फोर्ट डेट्रिक प्रयोगशाला का उल्लेख करते हैं। लेकिन हाल ही में अमेरिका के ओल्ड वेस्टबरी में स्टेट यूनिवर्सिटी ऑफ न्यूयॉर्क के प्रोफेसर कार्ल ग्रॉसमैन द्वारा मीडिया को दी गई खबर ने व्यापक ध्यान आकर्षित किया है। ग्रॉसमैन के मुताबिक अमेरिका के प्लम द्वीप पर स्थित एक जैविक प्रयोगशाला पशु रोग केंद्र की जांच की जानी चाहिए, क्योंकि इस प्रयोगशाला में वैश्विक वायरस के निर्माण में प्रमुख संदेह है। प्लम द्वीप अमेरिका के न्यूयार्क के पास लॉन्ग आइलैंड पर स्थित है। ग्रॉसमैन के अनुसार अमेरिका की फोर्ट डेट्रिक जैविक प्रयोगशाला ने एक बार नाजी जैविक हथियार विशेषज्ञों को प्लम द्वीप पर एक जैविक प्रयोगशाला स्थापित करने की मंजूरी दी थी, जिस पर लाइम वायरस के निर्माण का संदेह है। प्लम द्वीप बायोलॉजिकल लेबोरेटरी के निमार्ता पूर्व नाजी जैविक युद्ध विशेषज्ञ एरिच ट्रब थे। प्रयोगशाला को मूल रूप से अमेरिकी सेना द्वारा नियंत्रित किया गया था और अब यह यूएस डिपार्टमेंट ऑफ होमलैंड सिक्योरिटी का हिस्सा है। 1993 में अमेरिका के न्यूज डेली द्वारा उजागर किए गए एक दस्तावेज के अनुसार, प्लम द्वीप बायोलॉजिकल लेबोरेटरी को सोवियत संघ पशुधन के खिलाफ जैविक हथियार विकसित करने का काम सौंपा गया था। इसके अलावा, प्लम द्वीप बायोलॉजिकल लेबोरेटरी को भी लाइम रोग की वैश्विक महामारी फैलने वाला स्रोत होने का संदेह था।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia