दुनिया की खबरें: यमन हमले में 5 सैनिकों की मौत और ब्रिटेन में मंकीपॉक्स का कहर जारी, 104 नए मामले आए सामने

यमन में हाउति मिलिशिया के हमले में पांच सैनिकों की मौत हो गई और 15 अन्य घायल हो गए और ब्रिटेन में मंकीपॉक्स के 104 नए मामले दर्ज किए गए हैं, जिससे राष्ट्रीय स्तर पर इसकी संख्या 470 हो गई है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

खुलने वाला है शिनच्यांग का अलार तारिमू हवाई अड्डा

चीन के शिनच्यांग वेवुर स्वायत्त प्रदेश में अलार तारिमू हवाई अड्डा एक 4सी श्रेणी का नागरिक हवाई अड्डा है, जिसमें कुल 88 करोड़ 60 लाख युआन का निवेश किया गया है। 18 मार्च, 2021 को हवाई अड्डे का निर्माण पूर्ण रूप से शुरू हुआ और जनवरी 2022 को, नागरिक उड्डयन पेशेवर परियोजना की पूर्ण स्वीकृति को पूरा किया गया। 26 जनवरी को शिनच्यांग वेवुर स्वायत्त प्रदेश की राजधानी ऊरुमुछी से उड़ान भरने वाला चीन दक्षिणी एयरलाइंस बोइंग 737-800 यात्री विमान नव निर्मित अलार तारिमू हवाई अड्डे पर उतरा। यह दर्शाता है कि हवाई अड्डा रनवे, संचार और नेविगेशन, और गतिशीलता सहायता अच्छी स्थिति में हैं और नेविगेशन के लिए तैयार हैं। 25 मई को, चीन के नागरिक उड्डयन प्रशासन ने आधिकारिक तौर पर परिवहन हवाईअड्डा उपयोग परमिट जारी किया, और इसे 16 जून को आधिकारिक तौर पर नेविगेशन के लिए खोलने की योजना है।

वेवुर भाषा में अलार का अर्थ होता है हरा द्वीप। अलार तारिमू हवाई अड्डा चीन का पहला हवाई अड्डा है जो तारिम नदी बेसिन के रेगिस्तानी ढहने योग्य भूविज्ञान में बनाया गया है। यह एक लाभकारी अन्वेषण और रेगिस्तान और नदी घाटियों में जटिल भूगर्भीय परिस्थितियों के साथ रेगिस्तानी हवाई अड्डों के निर्माण का प्रयास है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS

यमन में संघर्ष विराम के बावजूद 5 सैनिक मारे गए

यमन में हाउति मिलिशिया के हमले में पांच सैनिकों की मौत हो गई और 15 अन्य घायल हो गए। यह हमला संयुक्त राष्ट्र के संघर्ष विराम के आह्वान के बाद हुआ है। सरकार ने यह जानकारी दी। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, रक्षा मंत्रालय द्वारा जारी एक बयान के अनुसार, "हाउति मिलिशिया ने यमन के विभिन्न क्षेत्रों में पिछले 72 घंटों के दौरान संयुक्त राष्ट्र द्वारा किए गए संघर्ष विराम के 185 उल्लंघन किए हैं।" बयान में कहा गया है कि हाउति उल्लंघनों में सरकारी बलों की साइटों पर गोले और रॉकेट से हमला करने के साथ-साथ विस्फोटक से भरे ड्रोन का उपयोग करना शामिल है। इससे पहले सोमवार को, हाउतियों द्वारा दागी गई बैलिस्टिक मिसाइल के कारण हुए एक बड़े विस्फोट ने सरकार के नियंत्रण वाले तेल-समृद्ध प्रांत मारिब को हिलाकर रख दिया था। स्थानीय अधिकारियों द्वारा कोई आधिकारिक टिप्पणी जारी नहीं की गई है, लेकिन मीडिया रिपोर्टों से संकेत मिलता है कि विस्फोट के परिणामस्वरूप अब तक कोई भी घायल नहीं हुआ है। यमन में युद्धरत दलों ने 2 अप्रैल से राष्ट्रव्यापी संघर्ष विराम का पालन करना शुरू कर दिया है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS

ब्रिटेन में मंकीपॉक्स के 104 नए मामले

ब्रिटेन में मंकीपॉक्स के 104 नए मामले दर्ज किए गए हैं, जिससे राष्ट्रीय स्तर पर इसकी संख्या 470 हो गई है। स्वास्थ्य सुरक्षा एजेंसी (एचएसए) ने यह जानकारी दी। समाचार एजेंसी शिन्हुआ के अनुसार, एचएसए ने कहा, "किसी को भी मंकीपॉक्स हो सकता है, खासकर यदि आपने लक्षणों वाले व्यक्ति के साथ यौन संपर्क सहित निकट संपर्क स्थापित किया है।" एचएसए के अनुसार, 470 मामलों में से 452 इंग्लैंड से, स्कॉटलैंड में 12, वेल्स में 4 और उत्तरी आयरलैंड में 2 मामले सामने आए। एचएसए ने कहा कि वर्तमान में ज्यादातर मामले उन पुरुषों में पाए गए हैं जो समलैंगिक हैं, बाईसेक्सुअल हैं या पुरुषों के साथ यौन संबंध रखते हैं। 8 जून को, पूरे ब्रिटेन में मंकीपॉक्स को कानूनी रूप से उल्लेखनीय बीमारी घोषित करने वाला एक नया कानून लागू हुआ, जिसका अर्थ है कि इंग्लैंड के सभी डॉक्टरों को किसी भी संदिग्ध मामलों के बारे में अपनी स्थानीय परिषद या स्थानीय स्वास्थ्य सुरक्षा टीम को सूचित करना आवश्यक है। बुधवार तक, 35 देशों में मंकीपॉक्स के कुल 1,678 मामले दर्ज किए हैं।

फोटो: IANS
फोटो: IANS

एसएफ मेयर ने बंदूक हिंसा रोकथाम कार्यक्रम के लिए अनुदान का किया ऐलान

सैन फ्रांसिस्को के मेयर लंदन ब्रीड और शहर के पुलिस प्रमुख विलियम स्कॉट ने बंदूक हिंसा रोकथाम कार्यक्रम के लिए 60 लाख डॉलर के अनुदान की घोषणा की। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, यह पैसा सैन फ्रांसिस्को वायलेंस रिडक्शन इनिशिएटिव (वीआरआई) के लिए फंडिंग जारी रखेगा, जिसे शुरू में 2020 में 10.5 लाख डॉलर का अनुदान दिया गया था।

ब्रीड ने कहा, "यह अनुदान हमें हिंसक अपराध करने के जोखिम वाले निवासियों का समर्थन जारी रखने की अनुमति देता है, जहां वे अपराध को रोक रहे हैं। मैं राज्य और सैन फ्रांसिस्को पुलिस विभाग (एसएफपीडी) में कार्यरत अपने सहयोगियों को धन्यवाद देना चाहता हूं, क्योंकि वे सैन फ्रांसिस्को के निवासियों को सुरक्षित रखते हुए समुदाय और कानून प्रवर्तन के बीच की खाई को पाटने का लगातार प्रयास कर रहे हैं। वीआरआई एसएफपीडी द्वारा विकसित एक सहयोगी परियोजना है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS

बांग्लादेश में पाक सेना के किए 'गोलाहाट नरसंहार के पीड़ितों को न्याय का इंतजार

बांग्लादेश के सैदपुर में 51 साल पहले पाकिस्तानी सेना द्वारा किए गए 'गोलाहट नरसंहार' में मारे गए लोगों के परिवार के सदस्यों अभी भी न्याय का इंतजार है। बात 13 जून, 1971 की है, जब मुक्ति संग्राम के दौरान पाकिस्तानी सेना ने सैदपुर में 480 से अधिक लोगों की हत्या कर दी थी। कुछ पीड़ितों ने गोली मारकर जान लेने की मांग की, लेकिन उन्हें बूट से रौंदा गया। सैनिकों ने उनसे कहा था कि 'पाकिस्तान सरकार अपनी महंगी गोलियां मलौंस (गैर-मुसलमानों के लिए अपमानजनक शब्द) पर बर्बाद नहीं करेगी'। उस काले दिन को 51 साल हो चुके हैं, लेकिन बाद की सरकारों ने बांग्लादेश मुक्ति संग्राम में शहीद हुए लोगों की स्मृति को संरक्षित करने के लिए कुछ भी नहीं किया। उनकी स्मृति को याद करते हुए पीड़ित परिवार के सदस्यों ने सोमवार को नरसंहार में बेरहमी से मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि दी। 13 जून, 1971 को हुए नरसंहार में कितने लोगों की हत्या की गई, इसकी सही संख्या का अभी पता अभी तक नहीं चल पाया है। बचे हुए लोग और पीड़ितों के परिवार के सदस्य अभी भी नरसंहार की मान्यता के लिए संघर्ष कर रहे हैं।

विनोद कुमार अग्रवाल (72) उस समय युवा थे, जो बाल-बाल बचे थे। नरसंहार में बचे सैदपुर के प्रमुख व्यवसायी अग्रवाल ने आईएएनएस को बताया कि उन्होंने 13 जून, 1971 को ट्रेन से नीचे कूदकर अपनी जान बचाई थी। अग्रवाल याद करते हैं, "ट्रेन धीरे-धीरे शहर से बाहर चली गई, लेकिन थोड़ी देर बाद अचानक गोलाहट नामक स्थान पर रुक गई। हमने वहां हमने पाकिस्तानी सैनिकों को कुछ लोगों के साथ ट्रेन में चढ़ते देखा। उन्हें देखते ही मेरा चचेरा भाई ट्रेन से कूद गया, मैंने भी वैसा ही किया। रेल पटरियों के बगल में पाकिस्तान समर्थक प्रवासी और सैनिक खड़े थे। उनके पास राइफलें थीं और स्थानीय लोग नुकीले रामदा (दरांती) लिए हुए थे।"

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia