अफगानिस्तान: शांति वार्ता के लिए तैयार हुए अहमद मसूद, पंजशीर के लिए रखी यह शर्त

अहमद मसूद ने कहा कि वह उस योजना का समर्थन करते हैं, जिसे धार्मिक मौलवियों ने बातचीत के लिए सामने रखा है। उन्होंने साथ ही तालिबान से अपने हमले को समाप्त करने का आह्वान किया।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

पंजशीर घाटी में तालिबान के खिलाफ जोरदार लड़ाई लड़ रहे अफगान प्रतिरोध समूह के नेता ने कहा है कि वह शांति वार्ता में शामिल होने के लिए तैयार हैं। अहमद मसूद ने कहा कि वह उस योजना का समर्थन करते हैं, जिसे धार्मिक मौलवियों ने बातचीत के लिए सामने रखा है। उन्होंने साथ ही तालिबान से अपने हमले को समाप्त करने का आह्वान किया। इससे पहले, रिपोर्ट्स से पता चल रहा था कि तालिबान ने पंजशीर में तेजी से जमीन हासिल की थी। राजधानी काबुल के उत्तर में स्थित यह प्रांत तालिबान शासन के प्रतिरोध का सबसे प्रमुख उदाहरण है।

बीबीसी ने सोमवार को बताया कि फेसबुक पर एक पोस्ट में, मसूद ने कहा कि नेशनल रेसिस्टेंस फ्रंट ऑफ अफगानिस्तान (एनआरएफ), जिसमें अफगान सुरक्षा बल के पूर्व सदस्य और स्थानीय मिलिशिया शामिल हैं, अगर तालिबान ने अपने हमले बंद कर दिए, तो वह लड़ाई बंद करने के लिए तैयार हैं। तालिबान की ओर से तत्काल कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।


पश्चिमी समर्थित सरकार के पतन के बाद 15 अगस्त को काबुल में सत्ता संभालने के बाद, इस्लामी समूह ने तीन हफ्ते पहले अफगानिस्तान के बाकी हिस्सों पर नियंत्रण कर लिया था।
एनआरएफ ने कहा कि उनके प्रवक्ता फहीम दशती और एक कमांडर जनरल अब्दुल वुडोद जारा संघर्ष में मारे गए, जबकि एक प्रमुख तालिबान जनरल और 13 अंगरक्षक भी मारे गए।

इससे पहले, तालिबान ने कहा था कि उनकी सेनाएं अब प्रांतीय राजधानी बाजारक में हैं, जहां उन्होंने कई हमलों को अंजाम दिया।

इस बीच काबुल में, संयुक्त राष्ट्र के मानवतावादी प्रमुख मार्टिन ग्रिफिथ्स ने तालिबान नेताओं से मुलाकात की और उनसे सभी नागरिकों, विशेषकर महिलाओं, लड़कियों और अल्पसंख्यकों की रक्षा करने का अनुरोध किया। उन्हें तालिबान आंदोलन के संस्थापकों में से एक, मुल्ला अब्दुल गनी बरादर के साथ एक तस्वीर में देखा गया।

संयुक्त राष्ट्र के एक प्रवक्ता ने कहा कि तालिबान नेताओं ने सभी जरूरतमंद लोगों तक मानवीय पहुंच की अनुमति देने की प्रतिबद्धता दी है। संयुक्त राष्ट्र के अनुसार, 1.8 करोड़ अफगानों को मानवीय सहायता की आवश्यकता है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia