तालिबान के कब्जे के बाद अफगान हवाई अड्डों पर चीन की नजर, जानें क्यों भारत के लिए है चिंता का विषय

तालिबान के युद्धग्रस्त देश पर कब्जा करने के बाद से चीन अफगानिस्तान में बगराम वायुसेना अड्डे (एयरफोर्स बेस) सहित हवाई अड्डों पर नियंत्रण करने पर विचार कर रहा है, जो भारत की सुरक्षा के लिए हानिकारक हो सकता है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

आईएएनएस

तालिबान के युद्धग्रस्त देश पर कब्जा करने के बाद से चीन अफगानिस्तान में बगराम वायुसेना अड्डे (एयरफोर्स बेस) सहित हवाई अड्डों पर नियंत्रण करने पर विचार कर रहा है, जो भारत की सुरक्षा के लिए हानिकारक हो सकता है। इस संबंध में चिंता व्यक्त करते हुए विशेषज्ञों का कहना है कि यह भारत को दक्षिण पूर्व एशिया से दूर रखने की कोशिश हो सकती है, जहां चीन पूर्ण नियंत्रण चाहता है।

अफगानिस्तान में मौजूदा विकास पर प्रतिक्रिया देते हुए, पूर्व राजनयिक अनिल त्रिगुणायत ने कहा कि तालिबान के प्रवक्ता के हालिया साक्षात्कार में स्पष्ट रूप से कहा गया है कि तालिबान के नेतृत्व वाली नई अफगान सरकार के तहत चीन उनका सबसे महत्वपूर्ण भागीदार होगा।

त्रिगुणायत ने कहा, "अमेरिकी सेना के आर्थिक रूप से अफगानिस्तान छोड़ने और अपनी बेल्ट एंड रोड (बीआरआई) पहल शुरू करने के बाद पैदा हुए खालीपन (शून्य) को चीन भरने की कोशिश कर रहा है। यह जल्द ही होने जा रहा है, क्योंकि तालिबान को वहां हवाई अड्डों का प्रबंधन करने के लिए किसी की जरूरत है।"

बगराम हवाई अड्डा सबसे बड़ा हवाई अड्डा है और तकनीकी रूप से अच्छी तरह से सुसज्जित है, क्योंकि इस बात का अंदाजा इससे भी लगाया जा सकता है कि अमेरिकियों ने इसे काबुल हवाई अड्डे के बजाय अंत तक अपने उपयोग के लिए रखा था।


नई रणनीतिक साझेदारी के तहत चीन और तालिबान दोनों संयुक्त रूप से बगराम हवाई अड्डे का प्रबंधन करेंगे क्योंकि चीन को एक सुरक्षित हवाई अड्डे की जरूरत है, जब वे अफगानिस्तान में अपनी आर्थिक योजनाओं को बढ़ाएंगे।

जहां तक भारत के खिलाफ चीन द्वारा पाकिस्तान का समर्थन करने का मामला है, त्रिगुणायत ने कहा कि यह लंबे समय से वास्तविकता है, यह अब भी हो रहा है। जैश-ए-मोहम्मद (जेईएम) के खूंखार आतंकवादी मसूद अजहर को बचाने के लिए चीन ने हमेशा अपनी वीटो शक्ति का इस्तेमाल किया है, जब भारत उसे अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी घोषित करने के लिए काम कर रहा था, तब चीन बीच में हर बार बीच में आ जाता था। उन्होंने कहा, "हमारी चिंता चीन है, पाकिस्तान नहीं, जो चीन के हाथ में एक उपकरण की तरह है और वे इसका इस्तेमाल भारत को दक्षिण पूर्व एशिया से दूर रखने के लिए करते हैं।"

पश्चिम एशिया के विशेषज्ञ कमर आगा भी इस बात से सहमत हैं कि चीन अपने आर्थिक हितों के कारण अफगानिस्तान में एक बड़ी भूमिका के लिए विचार कर रहा है और विशाल निवेश योजनाओं के साथ उनका लक्ष्य एक गुटीय सरकार को नियंत्रित करना है, जिसका गठन शुक्रवार को होगा।

आगा ने कहा, "चीन ने हमेशा हथियारों, सैन्य उपकरणों के लिए पाकिस्तान का समर्थन किया है और वह पाकिस्तान को वित्तीय सहायता प्रदान करता रहा है। अब आशंका है कि यह पाकिस्तान को भारत के खिलाफ छद्म युद्ध में शामिल होने के लिए प्रेरित करेगा ताकि उसे चीन सागर और आसपास के क्षेत्रों में किसी भी चुनौती का सामना न करना पड़े।"


संयुक्त राष्ट्र में पूर्व अमेरिकी राजनयिक निक्की हेली ने गुरुवार को चेतावनी दी थी कि अमेरिका को चीन पर करीब से नजर रखने की जरूरत है, क्योंकि वह तालिबान के युद्धग्रस्त देश के अधिग्रहण के बाद अफगानिस्तान में बगराम वायु सेना के अड्डे पर कब्जा करने की कोशिश कर सकता है और भारत के खिलाफ जाने के लिए पाकिस्तान का इस्तेमाल कर सकता है।

उन्होंने कहा, "हमें चीन पर नजर रखने की जरूरत है क्योंकि मुझे लगता है कि आप चीन को बगराम वायु सेना बेस के लिए एक कदम उठाते हुए देखने जा रहे हैं। मुझे लगता है कि वे अफगानिस्तान में भी कदम उठा रहे हैं और भारत के खिलाफ जाने के लिए पाकिस्तान को मजबूत बनाने की कोशिश कर रहे हैं। इसलिए, हमारे पास बहुत सारे मुद्दे हैं।"

हेली ने यह भी कहा कि अब समय आ गया है कि अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन का प्रशासन भारत, जापान और ऑस्ट्रेलिया जैसे अपने प्रमुख मित्रों और सहयोगियों तक पहुंचे और उन्हें आश्वासन दिया कि अमेरिका उनकी रक्षा करेगा।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia