अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद अमेरिका को सता रहा ये डर, अमेरिकी जनरलों ने राष्ट्रपति बाइडेन को चेताया

जनरल मिले और यूएस सेंट्रल कमांड के नेता जनरल फ्रैंक मैकेंजी ने चेतावनी दी है कि तालिबान, जिससे अब पाकिस्तान को निपटना होगा, वह पहले से निपटने वाले तालिबान से अलग होगा और इससे उनके संबंध जटिल होंगे।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

अमेरिका के शीर्ष जनरलों ने अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन को चेताया है कि अफगानिस्तान से जल्दबाजी में हटने से पाकिस्तान के परमाणु हथियारों और देश की सुरक्षा को खतरा हो सकता है। पाकिस्तानी अखबार डॉन की रिपोर्ट में यह खुलासा किया गया है। संयुक्त प्रमुख जनरल मार्क मिले ने सीनेट की सशस्त्र सेवा समिति को बताया, "हमने अनुमान लगाया है कि त्वरित वापसी से क्षेत्रीय अस्थिरता, पाकिस्तान की सुरक्षा और उसके परमाणु शस्त्रागार के जोखिम बढ़ जाएंगे।"

रिपोर्ट के अनुसार, जनरल ने कहा, "हमें पाकिस्तान के अभयारण्य की भूमिका की पूरी तरह से जांच करने की जरूरत है।" कहा गया है कि तालिबान ने 20 साल तक अमेरिकी सैन्य दबाव को कैसे झेला, उन्होंने इसकी जांच की जरूरत पर भी जोर दिया।

जनरल मिले और यूएस सेंट्रल कमांड के नेता जनरल फ्रैंक मैकेंजी ने भी चेतावनी दी है कि तालिबान, जिससे अब पाकिस्तान को निपटना होगा, वह पहले से निपटने वाले तालिबान से अलग होगा और इससे उनके संबंध जटिल होंगे।

रिपोर्ट में कहा गया है कि सेंटकॉम प्रमुख ने यह भी कहा कि अमेरिका और पाकिस्तान अफगानिस्तान तक पहुंचने के लिए एक महत्वपूर्ण हवाई गलियारे के इस्तेमाल पर चल रही बातचीत में शामिल हैं।


उन्होंने कहा, "पिछले 20 वर्षों में हम पश्चिमी पाकिस्तान में जाने के लिए एयर बुलेवार्ड का उपयोग करने में सक्षम रहे हैं और यह कुछ ऐसा बन गया है, जो हमारे लिए महत्वपूर्ण है, साथ ही संचार की कुछ लैंडलाइन भी है।"

उन्होंने आगे कहा, "हम आने वाले दिनों और हफ्तों में पाकिस्तानियों के साथ काम करेंगे, ताकि यह देखा जा सके कि भविष्य में यह रिश्ता कैसा दिखने वाला है।"

हालांकि, दोनों जनरलों ने पाकिस्तान के परमाणु हथियारों के बारे में अपनी चिंताओं और आतंकवादियों के हाथों में पड़ने की संभावना पर अधिक चर्चा करने से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा कि वे सीनेटरों के साथ बंद सत्र में इस मुद्दे पर और अन्य संवेदनशील मुद्दों पर चर्चा करेंगे। वहीं, रक्षा मंत्री लॉयड ऑस्टिन ने अमेरिकियों से काबुल के पतन के लिए किसी को दोष देने से पहले 'कुछ असहज सच्चाइयों पर विचार' करने का आग्रह किया है।

रिपोर्ट के अनुसार, उन्होंने इस बारे में बात करते हुए कहा, "हमने उनके वरिष्ठ रैंकों में भ्रष्टाचार और खराब नेतृत्व की गहराई को पूरी तरह से नहीं समझा। हमने अपने कमांडरों के राष्ट्रपति अशरफ गनी द्वारा लगातार और अस्पष्टीकृत रोटेशन के हानिकारक प्रभाव को नहीं समझा।"


उन्होंने कहा, "हमने दोहा समझौते के मद्देनजर तालिबान कमांडरों द्वारा स्थानीय नेताओं के साथ किए गए सौदों के कारण स्नोबॉल प्रभाव का अनुमान नहीं लगाया था और यह कि दोहा समझौते का अफगान सैनिकों पर मनोबल गिराने वाला प्रभाव था।"

उन्होंने कहा कि अमेरिकी यह समझने में भी विफल रहे कि अफगान सैनिकों में भ्रष्ट सरकार के लिए लड़ने की प्रेरणा नहीं थी। जनरल मिले ने उल्लेख किया कि बड़ी संख्या में होते हुए भी अफगान सैनिकों ने बहुत ही कम समय में ही अपने हथियार डाल दिए। उन्होंने पिछली अफगान सरकार पर सैनिकों को प्रेरित करने में विफल रहने का भी आरोप लगाया।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 30 Sep 2021, 10:15 AM