तालिबान का साथ देना पाकिस्तान को पड़ेगा मंहगा! चीन समेत इन देशों पर भी अमेरिका कसेगा शिकंजा

अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने स्वतंत्रता का उल्लंघन करने के लिए पाकिस्तान को कंट्री ऑफ पर्टिकुलर कॉन्सर्न (सीपीसी) के रूप में फिर से नामित करते हुए तालिबान को एक विशेष चिंता की इकाई के रूप में पुन: ब्रांडेड किया है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने धार्मिक स्वतंत्रता का उल्लंघन करने के लिए पाकिस्तान को कंट्री ऑफ पर्टिकुलर कॉन्सर्न (सीपीसी) के रूप में फिर से नामित करते हुए तालिबान को एक विशेष चिंता की इकाई के रूप में पुन: ब्रांडेड किया है। डॉन न्यूज की रिपोर्ट में इसकी जानकारी दी गई। पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के प्रशासन ने सबसे पहले दिसंबर 2018 में पाकिस्तान को इस सूची में रखा और 2020 में भी इसे बरकरार रखा था।

डॉन न्यूज की रिपोर्ट में कहा गया है कि इस साल जनवरी में सत्ता में आए जो बाइडेन प्रशासन ने दो बदलावों के साथ पुरानी सूची को बरकरार रखा है, जिसमें रूस को शामिल किया गया है और सूडान को सीपीसी श्रेणी से हटा दिया गया है।


बुधवार को विदेश विभाग द्वारा जारी एक बयान में, ब्लिंकन ने कहा, "हर साल राज्य के सचिव पर सरकारों और गैर-राज्य अभिनेताओं की पहचान करने की जिम्मेदारी होती है, जो अपनी धार्मिक स्वतंत्रता के उल्लंघन के कारण, अंतर्राष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता अधिनियम के तहत योग्यता पदनाम देते हैं। मैं बर्मा, पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना, इरिट्रिया, ईरान, डीपीआरके, पाकिस्तान, रूस, सऊदी अरब, ताजिकिस्तान, और तुर्कमेनिस्तान को विशेष रूप से चिंता वाले देशों के रूप में नामित कर रहा हूं, जो 'व्यवस्थित, चल रहे, और गंभीर धार्मिक आजादी के उल्लंघनों में लिप्त हैं या सहन करते हैं।'

डीपीआरके उत्तर कोरिया का आधिकारिक नाम है। उन्हें यह कहते हुए उद्धृत किया, "मैं उन सरकारों के लिए विशेष निगरानी सूची में अल्जीरिया, कोमोरोस, क्यूबा और निकारागुआ को भी रख रहा हूं, जिन्होंने 'धार्मिक स्वतंत्रता के गंभीर उल्लंघन' में लिप्त या सहन किया है।


ब्लिंक्ड ने अल-शबाब, बोको हराम, हयात तहरीर अल-शाम, हौथिस, आईएसआईएस, आईएसआईएस-ग्रेटर सहारा, आईएसआईएस-पश्चिम अफ्रीका, जमात नस्र अल-इस्लाम वल-मुस्लिमीन और तालिबान को विशेष चिंता की संस्थाओं के रूप में नामित किया।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 18 Nov 2021, 2:42 PM