अमेरिकी सीनेट में पाक विरोधी विधेयक पेश, पाकिस्तान भड़का, कहा- हमें बनाया जा रहा बलि का बकरा

अमेरिकी सीनेट में एक विधेयक पेश किया गया है, जिसको लेकर इस्लामाबाद चिंतित है। दरअसल विधेयक के जरिए अफगानिस्तान में तालिबान के कब्जे से पहले और बाद की स्थिति को लेकर पाकिस्तान की भूमिका की जांच की जाएगी।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

अमेरिकी सीनेट में एक विधेयक पेश किया गया है, जिसको लेकर इस्लामाबाद चिंतित है। दरअसल विधेयक के जरिए अफगानिस्तान में तालिबान के कब्जे से पहले और बाद की स्थिति को लेकर पाकिस्तान की भूमिका की जांच की जाएगी। डॉन न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, पाकिस्तान विरोधी विधेयक का मुद्दा उठाते हुए, सीनेट में पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी की संसदीय नेता और विदेश मामलों की सीनेट की स्थायी समिति की अध्यक्ष सीनेटर शेरी रहमान ने कहा कि अफगानिस्तान से अमेरिकी सेना की जल्दबाजी में वापसी की वजह से पाकिस्तान को गंभीर संकट का सामना करना पड़ा था।

22 रिपब्लिकन सीनेटरों द्वारा पेश किए गए अफगानिस्तान काउंटरटेरिज्म, ओवरसाइट और एकाउंटेबिलिटी बिल का जिक्र करते हुए, सीनेटर रहमान ने खेद व्यक्त किया कि अमेरिका ने तालिबान से एक समझौते के बाद अफगानिस्तान छोड़ दिया, फिर भी वह अफगानिस्तान में जो कुछ भी हो रहा था, उसकी जिम्मेदारी लेने के लिए पाकिस्तान पर दबाव डाल रहा है। रिपोर्ट के अनुसार, उन्होंने कहा , "पाकिस्तान के साथ जो हो रहा है, वह वास्तव में पहले की तुलना में बदतर है।"


यह उल्लेख करते हुए कि बिल सीधे पाकिस्तान को लक्षित करता है, उन्होंने कहा कि यह अमेरिकी प्रशासन का नीति विधेयक नहीं है, लेकिन यह महत्वपूर्ण है क्योंकि यह ध्यान आकृष्ट कर सकता है। यह पहाड़ी पर पाकिस्तान के बारे में जहरीली भावनाओं में वृद्धि की ओर भी इशारा करता है, जिसे हममें से कई लोगों ने स्थिति बदलने के लिए काफी मेहनत की है।"

उन्होंने कहा, "वे स्पष्ट रूप से कह रहे हैं कि पाकिस्तान की सरकार ने तालिबान का समर्थन किया है, लेकिन यह देखना निराशाजनक है कि किसी ने वास्तव में इसे सामूहिक प्रतिक्रियाओं को आकार देने के लिए संसद में नहीं रखा है और न ही हानिकारक और दर्दनाक दुष्प्रचार को दूर किया है।"

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia