ईरान-अमेरिका तनाव का असर भारत पर, अमेरिकी एयरलाइंस ने बंद की मुंबई की उड़ानें

ईरान और अमेरिका के बीच तनाव अब बढ़ता जा रहा है। इसका असर अब भारत आने-जाने वाले हवाई यात्रियों पर भी दिखना शुरु हो गया है। अमेरिका की यूनाईटेड एयरलाइंस ने नेवार्क से मुंबई के बीच अपनी उड़ाने बंद कर दी हैं।

फोटो : सोशल मीडिया
फोटो : सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

अमेरिका की यूनाइटेड एयरलाइंस ने नेवार्क एयरपोर्ट से मुंबई के बीच उड़ानें निलंबित कर दी है। एयरलाइंस का कहना है कि अमेरिका से मुंबई के लिए जाने वाले विमान ईरान के हवाईक्षेत्र से गुजरते हैं, हाल ही में खबरें मिली हैं कि ईरान ने अमेरिका का एक ड्रोन अपने हवाई क्षेत्र में मार गिराया है, इसके मद्देनजर सुरक्षा को देखते हुए यह कदम उठाया गया है। हालांकि यह नहीं बताया गया कि उड़ानें कब तक निलंबित रहेंगी।

गौरतलब है कि इस खबरे के आने के बाद कि ईरान ने अमेरिका का ड्रोन मार गिराया है अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ईरान को खुली चेतावनी दे डाली है। ट्रंप ने ट्वीट कर कहा, ‘ईरान ने बहुत बड़ी गलती कर दी है।’ ट्रंप की इस कम अक्षरों वाली चेतावनी को बड़ी कार्रवाई का इशारा माना जा रहा है।

अमेरिकी राष्ट्रपति के ट्वीट के बाद यूनाइटेड एयरलाइंस ने कहा कि उसने ईरान के हवाई क्षेत्र से होकर भारत जाने वाली अपनी उड़ान को पूरी तरह से सुरक्षा समीक्षा करने के बाद रद्द किया है। यूनाइडेट के प्रवक्ता का कहना है कि मुंबई से नेवार्क जाने वाले यात्रियों को अमेरिका की वैकल्पिक उड़ानों के जरिए भेजा जाएगा।

प्रवक्ता ने कहा, 'हम संबंधित सरकारी अधिकारियों के साथ संपर्क करेंगे और सभी विकल्पों पर विचार करेंगे ताकि अपने ग्राहकों को इन परिस्थितियों में सबसे कुशल यात्रा का अनुभव प्रदान कर सकें।' गुरुवार को दो विमानन कंपनियों अमेरिकन एयरलाइंस और डेल्टा एयरलाइंस ने कहा कि वह ईरान के हवाई क्षेत्र से होकर नहीं गुजरेंगी। जापानी एयरलाइंस जापान एयरलाइंस को लिमिटेड और एएनए होल्डिंग्स आईएनसी का भी कहना है कि वह ईरान के ऊपर से उड़ान नहीं भरेगा।

ध्यान रहे कि ईरान के सशस्त्र बल 'रिवोल्यूशनरी गार्ड' ने गुरुवार को कहा था कि उसने हर्मुज जलसंधि के पास अपने हवाई क्षेत्र में एक अमेरिकी जासूसी विमान को मार गिराया है। इस शक्तिशाली ड्रोन की कीमत 1260 करोड़ रुपये है। ईरानी सेना के कमांडर हुसैन सलामी ने दावा किया था कि अमेरिकी ड्रोन ईरान की हवाई सीमा की रेड लाइन पार कर चुका था। गिराए गए अमेरिकी ड्रोन ट्राइटन ने यू-2 जासूसी विमान की जगह ली है।

इस बीच न्यूयॉर्क टाइम्स ने खबर दी है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रम्प ने ईरान पर हमले की मंजूरी दे दी थी, लेकिन आखिरी वक्स पर सलाहकारों से बातचीत के बाद इसे रद्द कर दिया गया।

लोकप्रिय