कनाडा: खालिस्तानी आतंकी हरदीप सिंह निज्जर के दोस्त के घर पर हमला, कई राउंड फायरिंग, जांच में जुटी पुलिस

मारे गए खालिस्तान आतंकवादी हरदीप सिंह निज्जर के सहयोगी सिमरनजीत सिंह के आवास पर कई राउंड गोलियां चलाई गईं है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

आईएएनएस

भारत में नामित आतंकवादी खालिस्तान समर्थक नेता से संबंधित एक सिख कार्यकर्ता के घर पर गोलियां चलाई जाने की खबर है। हरदीप सिंह निज्जर की पिछले साल कनाडाई प्रांत ब्रिटिश कोलंबिया में एक गुरुद्वारे के बाहर गोली मारकर हत्या कर दी गई थी

सरे रॉयल कैनेडियन माउंटेड पुलिस (आरसीएमपी) ने कहा कि घटना में किसी के घायल होने की सूचना नहीं है। बुधवार-गुरुवार की रात 1.20 बजे के बाद 154 स्ट्रीट के 2800 ब्लॉक के पास स्थित साउथ सरे के एक घर पर गोलियाँ चलाई गईं।

सीबीसी समाचार चैनल की रिपोर्ट के अनुसार, बी.सी. गुरुद्वारा काउंसिल के प्रवक्ता मोनिंदर सिंह ने घर के मालिक की पहचान निज्जर के दोस्त सिमरनजीत सिंह के रूप में की है।

उन्होंने कहा कि रात भर हुए हमले में सिमरनजीत का छह साल का बच्चा बाल-बाल बच गया।

सीबीसी के अनुसार, गोलीबारी में एक कार बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गई और घर में गोलियों के कई छेद हो गए।

सरे आरसीएमपी के बड़े अपराध अनुभाग के जांचकर्ताओं का "मानना है कि यह एक अलग घटना थी" लेकिन उन्होंने इसकी पुष्टि नहीं की कि घर पर कितनी गोलियां चलाई गईं।


कॉर्पोरल सर्बजीत संघा ने कहा कि अधिकारियों ने पड़ोसियों और गवाहों से बात की है, और वर्तमान में शूटिंग के बारे में अधिक जानने के लिए सीसीटीवी फुटेज की समीक्षा कर रहे हैं।

संघा ने सीबीसी न्यूज को बताया, "जांच अभी भी शुरुआती चरण में है, इसलिए इस गोलीबारी का मकसद अभी तक निर्धारित नहीं किया गया है।"

मोनिंदर ने समाचार चैनल को बताया कि समुदाय के सदस्यों का मानना है कि निज्जर के साथ सिमरनजीत के संबंधों ने गोलीबारी में भूमिका निभाई होगी।

उन्होंने कहा कि सिमरनजीत द्वारा 26 जनवरी को वैंकूवर में भारतीय वाणिज्य दूतावास में खालिस्तान समर्थक विरोध-प्रदर्शन आयोजित करने में मदद करने के कुछ ही दिनों बाद गोलीबारी हुई।

मोनिंदर के अनुसार, सिमरनजीत विरोध-प्रदर्शन और अपनी जान को लेकर आशंकाओं के बाद रिपोर्ट देने के लिए आरसीएमपी के संपर्क में था। उन्होंने यह भी कहा कि गोलीबारी से अलग सिख राज्य के लिए सिमरनजीत की सक्रियता पर कोई असर नहीं पड़ेगा।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;