इमरान खान के लिए बुरी खबर! पाकिस्तान में बनी रहेगी मुद्रास्फीति, रुपये में गिरावट जारी रहने की संभावना

इकोनॉमिस्ट इंटेलिजेंस यूनिट (ईआईयू) ने कहा है कि अगले छह महीनों तक पाकिस्तान में महंगाई ऊंची बनी रहेगी और सऊदी अरब से समर्थन पैकेज के बावजूद रुपये में गिरावट जारी रहने की संभावना है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

इकोनॉमिस्ट इंटेलिजेंस यूनिट (ईआईयू) ने कहा है कि अगले छह महीनों तक पाकिस्तान में महंगाई ऊंची बनी रहेगी और सऊदी अरब से समर्थन पैकेज के बावजूद रुपये में गिरावट जारी रहने की संभावना है।

ईआईयू का आकलन पाकिस्तान ब्यूरो ऑफ स्टैटिस्टिक्स (पीबीएस) द्वारा जारी आंकड़ों के बाद आया है, जिसमें दिखाया गया है कि उपभोक्ता मूल्य सूचकांक - मुद्रास्फीति का एक प्रमुख मार्कर - अक्टूबर में साल-दर-साल 9.2 प्रतिशत बढ़ा।

इसमें कहा गया है, "वैश्विक कमोडिटी की कीमतों में वृद्धि के कारण, महंगाई बढ़ाने वाली बाधाओं को बड़े पैमाने पर तेजी से आयात वृद्धि से प्रेरित किया जा रहा है, क्योंकि अर्थव्यवस्था कोविड -19 महामारी के कारण हुए व्यवधान से उबर रही है।"

ईआईयू ने कहा, "हम उम्मीद करते हैं कि 2022 की पहली छमाही के दौरान उपभोक्ता कीमतों पर ऊपर की ओर दबाव बना रहेगा, क्योंकि वैश्विक आर्थिक सुधार से कमोडिटी की कीमतों में बढ़ोतरी की संभावना है।"

ईआईयू ने कहा कि तेल की ऊंची कीमतों का प्रभाव बिजली और परिवहन में बढ़ती मुद्रास्फीति में परिलक्षित होता है। "यह परिवहन श्रेणी में परिलक्षित होता था, जो साल दर साल 14.4 प्रतिशत उछला। इसी तरह, उपयोगिताओं (बिजली, पानी और गैस सहित) की कीमतों में भी 12 प्रतिशत की वृद्धि के साथ दोहरे अंकों की वृद्धि का अनुभव हुआ।"

पीबीएस डेटा ईआईयू के विचार के अनुरूप है कि उपभोक्ता कीमतें मौजूदा और आने वाली तिमाहियों (मार्च 2022 के अंत तक) में ऊंची बनी रहेंगी।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia