बहामास में डोरियन तूफान से भारी तबाही, ढाई हजार लोग लापता, बड़े स्तर पर राहत और बचाव का काम जारी

बहामास की नेशनल इमरजेंसी मैनेजमेंट एजेंसी के प्रवक्ता कार्ल स्मिथ ने बुधवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि तूफान से मरने वालों की संख्या में वृद्धि होगी। उन्होंने कहा कि मरने वालों की ढाई हजार के करीब हो सकती है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

उत्तर अमेरिका महाद्वीप के केरिबियन क्षेत्र में स्थित बहामास में तूफान ने तांडव मचाया है। आपातकालीन अधिकारियों के अनुमान के मुताबिक, द्वीपसमूह से विनाशकारी तूफान डोरियन के गुजरने के बाद करीब 2,500 लोग लापता हैं। एफे न्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक, अब तक की आधिकारिक गणना के अनुसार इस तूफान में कम से कम 50 लोगों की जान जा चुकी है।

बहामास में डोरियन तूफान से भारी तबाही, ढाई हजार लोग लापता, बड़े स्तर पर राहत और बचाव का काम जारी

बहामास की नेशनल इमरजेंसी मैनेजमेंट एजेंसी के प्रवक्ता कार्ल स्मिथ ने बुधवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि मरने वालों की संख्या में निश्चित रूप से वृद्धि होगी। हालांकि, उन्होंने स्वीकार किया कि 2,500 का आंकड़ा कुछ हद तक कम हो सकता है, क्योंकि अधिकारी वर्तमान में नासाउ की राजधानी के पास न्यू प्रोविडेंस द्वीप पर बनाए गए आश्रय स्थलों में रहने वाले लोगों की सूची बनाएंगे।

बहामास में डोरियन तूफान से भारी तबाही, ढाई हजार लोग लापता, बड़े स्तर पर राहत और बचाव का काम जारी

वहीं, बहामास सरकार ने बुधवार को सोशल नेटवर्क्‍स पर प्रकाशित और स्थानीय मीडिया द्वारा चलाई जा रही द्वीपसमूह पर तूफान से हजारों लोगों की मरने की खबर को झूठा बताते हुए खारिज कर दिया।

बहामास राष्ट्रीय सुरक्षा के प्रमुख मार्विन डेम्स ने बुधवार को पत्रकारों से कहा कि वह उन रिपोटरें से चिंतित थे, जिसमें कुछ 3,000 लोगों के मारे जाने की बात कही गई थी। रिपोर्ट के अनुसार, अधिकांश लोग अबाको और ग्रैंड बहामा द्वीपों पर मारे गए थे, वहीं कुछ तूफान के गुजरने वाले रास्ते में उसकी चपेट में आने से मारे गए थे।

बहामास में डोरियन तूफान से भारी तबाही, ढाई हजार लोग लापता, बड़े स्तर पर राहत और बचाव का काम जारी

उन्होंने कहा कि अधिकारियों को ऐसी समाचार रिपोट के बारे में 'बेहद सतर्क' रहने की आवश्यकता है, क्योंकि ऐसे रिपोर्ट लोगों को भावनात्मक तरीके से बहुत प्रभावित कर सकते हैं, और जब इस प्रकार की बातें बढ़ा-चढ़ा कर सोशल मीडिया पर फैलाई जाती हैं तो यह मामलों को और भी जटिल कर सकता है।

उन्होंने कहा कि उन्होंने सुना है कि कुछ लोग दावा कर रहे हैं कि सरकार मारे गए लोगों के शवों को छिपा रही है और उन लोगों से उन्होंने पूछा है कि हमें इससे क्या लाभ होगा? उन्होंने आगे कहा कि वे जानना चाहते हैं कि वे कथित शव कहां हैं, ताकि अधिकारी वहां जाकर उन्हें ढूंढ सकें। डेम्स ने कहा कि बचाव दल डोरियन से सबसे अधिक प्रभावित क्षेत्रों का सावधानीपूर्वक निरीक्षण कर रहे हैं।

लोकप्रिय