दुनिया की बड़ी खबरेंः हाफिज सईद पर कल बड़ा फैसला और चीन में 636 जान लेने वाला कोरोना 25 देशों में फैला

पाकिस्तान की आतंकवाद रोधी अदालत जमात-उद-दावा के सरगना और 26/11 मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद के खिलाफ टेरर फंडिंग से जुड़े दो मामलों में अपना फैसला कल सुनाएगी। वहीं चीन में अब तक 636 लोगों की जान लेने वाला कोरोना दूसरे 24 देशों में पैर पसार चुका है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

पाकिस्तान की कोर्ट से हाफिज सईद पर फैसला कल

पाकिस्तान के लाहौर स्थित आतंकवाद रोधी अदालत (एटीसी) ने प्रतिबंधित जमात-उद-दावा (जेयूडी) के सरगना और 26/11 मुंबई आतंकवादी हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद के खिलाफ टेरर फंडिंग से जुड़े दो मामलों में अपना फैसला सुरक्षित रख लिया है। एटीसी न्यायाधीश अरशद हुसैन भट्ट शनिवार को दोनों मामलों में फैसला सुनाएंगे। ये मामले आतंकवाद रोधी विभाग (सीटीडी) की लाहौर और गुजरांवाला शाखाओं द्वारा दाखिल किए गए हैं।

दोनों मामले की सुनवाई के दौरान कोर्ट ने 23 गवाहों के बयान दर्ज किए हैं। हाफिज सईद को बीते साल जुलाई में सीटीडी द्वारा गिरफ्तार किया गया था। उसकी गिरफ्तारी से पहले जेयूडी नेताओं के खिलाफ जुलाई 2019 में 23 प्राथमिकियां दर्ज की गई थीं। इनमें सईद व जेयूडी का एक अन्य प्रमुख आतंकी अब्दुल रहमान मक्की शामिल हैं। बताया जा रहा है कि सीटीडी ने कहा है कि जेयूडी गैर-लाभकारी संगठनों और ट्रस्टों के माध्यम से एकत्र किए गए भारी धन से आतंकवाद का वित्तपोषण कर रहा था।

चीन में कोरोना से 636 लोगों की मौत

चीन में कोरोना वायरस से मौत आंकड़े लगातार बढ़ते जा रहे हैं। चीन के स्वास्थ्य अधिकारियों के अनुसार गुरुवार को चीन में कोरोना से 73 लोगों की मौत हुई, जिसके बाद कोरोना वायरस से मौत का कुल आंकड़ा 636 पहुंच गया। जबकि अब तक 31 हजार से ज्यादा कन्फर्म केस सामने आ चुके हैं। चीन के नेशनल हेल्थ कमीशन के मुताबिक केवल गुरुवार को कोरोना के 3,143 नए कन्फर्म केस सामने आए। चीन के हुबेई प्रांत का वुहान शहर कोरोना वायरस का केंद्र बना हुआ है। वहां सिर्फ गुरुवार को 69 लोगों की मौत हुई है।

दुनिया के 25 देशों में फैला जानलेवा कोरोना वायरस

चीन से शुरू हुआ कोरोना वायरस का कहर धीरे-धीरे पूरी दुनिया में फैलता जा रहा है। चीन में अब तक 636 लोगों की जान लेने वाला कोरोना अब वहां से बाहर निकलकर दुनिया के 24 देशों में पैर पसार चुका है। हालांकि, राहत की बात ये है कि चीन के बाहर अब तक केवल दो लोगों की कोरोना से मौत हुई है। चीन से बाहर कोरोना के संक्रमण से पहली मौत फिलीपींस में हुई थी, जबकि दूसरी मौत हांगकांग में हुई है।

इस बीच दुनिया के कई देशों ने चीन के लिए अपनी उड़ानें बंद कर दी हैं। जबकि कई देश वहां फंसे अपने नागरिकों को एयरलिफ्ट कर चीन से निकाल रहे हैं। बीते दिनों भारत ने भी चीन में रह रहे करीब 645 भारतीयों को विशेष विमान भेजकर वापस लाया है।

कोरोना का असर, पूरी दुनिया में मास्क की किल्लत

चीन में फैले कोरोना वायरस से लगभग दुनिया भर में पहले से ही हाहाकार मचा हुआ है, लेकिन अब इससे बचाव के लिए मास्क की कमी से हंगामे की स्थिति पैदा हो गई है। कई देशों में कोरोना वायरस से बचाव के लिए मास्क की बढ़ती मांग की वजह से भारी किल्लत देखी जा रही है। इस बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) का भी कहना है कि मास्क को लेकर भारी कमी का सामना करना पड़ रहा है। शुक्रवार को डब्ल्यूएचओ के प्रमुख टेड्रोस एडहनोम ने चेतावनी देते हुए कहा कि कोरोना वायरस के कारण मास्क और दूसरे सुरक्षात्मक उपकरणों की भारी किल्लत देखने को मिल रही है। हालांकि उन्होंने कहा कि इन उपकरणों के उत्पादन में अड़चनों को सुलझाने और हल करने के लिए बात करेंगे।

ट्रंप ने की अलकायदा सरगना के मारे जाने की पुष्टि

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने पुष्टि की है कि पिछले महीने यमन में अमेरिकी सेना द्वारा किए गए एक ऑपरेशन में अलकायदा का सरगना कासिम अल-रिमी मारा गया। कासिम 'अलकायदा इन अरब पेनिंसुला' (एक्यूएपी) का संस्थापक था। गुरुवार को व्हाइट हाउस ने ट्रंप का बयान जारी किया, जिसमें उन्होंने कहा, "अमेरिका ने यमन में एक आतंकवाद रोधी अभियान चलाया, जिसने अरब प्रायद्वीप में अलकायदा के संस्थापक और अलकायदा के सरगना कासिम अल-रिमी को सफलतापूर्वक मार गिराया।"

बता दें कि न्यूयॉर्क टाइम्स ने पिछले हफ्ते खबर दी थी कि अमेरिकी अधिकारियों का मानना है कि हवाई निगरानी और अन्य खुफिया जानकारी का इस्तेमाल करने के महीनों बाद उन्होंने जनवरी में एक हवाई हमले में अलकायदा सरगना को मार गिराया था। 41 वर्षीय कासिम अल-रिमी की मौत एक्यूएपी समूह के लिए एक बड़ा झटका माना जा रहा है, जिसे अलकायदा के सबसे खतरनाक शाखा में से एक माना जाता रहा है, क्योंकि इसने यमन में सीमाओं से परे जाकर हमले किए हैं। कासिम की मौत अलकायदा शाखा के साथ इसकी वैश्विक गतिविधि के लिए भी झटका है।

Published: 7 Feb 2020, 10:33 PM
लोकप्रिय