दुनिया की बड़ी खबरें: बाइडेन ने रूसी तेल आयात पर प्रतिबंध लगाया, यूक्रेन ने बड़े रूसी जनरल को मारने का किया दावा

यूक्रेनी सेना ने मंगलवार को दावा किया कि वर्तमान में घेराबंदी वाले क्षेत्रों में सैन्य संघर्ष के दौरान रूसी सेना तेजी से लूटपाट कर रही है और अंतर्राष्ट्रीय मानवीय कानून के नियमों का उल्लंघन कर रही है। पाकिस्तान में इमरान खान ने विपक्ष की साख पर सवाल उठाया।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने रूसी तेल आयात पर प्रतिबंध लगाया

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन ने यूक्रेन पर आक्रमण के खिलाफ एक बड़ी जवाबी कार्रवाई करते हुए रूस की अर्थव्यवस्था को एक और बड़ा झटका दिया है। बाइडेन ने रूस पर प्रतिबंधों को सख्त करते हुए रूसी तेल आयात पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया है। इससे पहले भी यूक्रेन पर हमले के बाद अमेरिका ने रूस पर कई प्रतिबंध लगाने का ऐलान किया था। हालांकि अमेरिका के इन ऐलान का रूसी राष्ट्रपति पुतिन पर कोई असर नहीं पड़ा।

यूक्रेन ने खारकीव के पास बड़े रूसी जनरल को मारने का किया दावा

यूक्रेन ने देश के दूसरे सबसे बड़े शहर खारकीव के पास लड़ाई के दौरान एक शीर्ष रूसी जनरल को मारने का दावा किया है। यूक्रेन के रक्षा अधिकारियों ने सोमवार रात एक बयान में कहा कि रक्षा खुफिया के अधिकारियों ने मारे गए जनरल की पहचान विटाली गेरासिमोव के रूप में की, जो रूस के केंद्रीय सैन्य जिले की 41वीं सेना के एक प्रमुख जनरल, चीफ ऑफ स्टाफ और पहले डिप्टी कमांडर थे।

बयान के अनुसार, गेरासिमोव ने अगस्त 1999 से अप्रैल 2000 तक हुए दूसरे चेचन युद्ध और सीरिया में रूसी सैन्य अभियान में भाग लिया था। बयान के अनुसार, जनरल विटाली ने क्रीमिया की वापसी के लिए एक पदक प्राप्त किया था। डिफेंस इंटेलिजेंस ने आगे कहा कि आंकड़े भी आक्रमणकारीसेना में संचार और उनकी टूटी हुई यूनिटों को निकालने के साथ महत्वपूर्ण समस्याओं का संकेत देते हैं। बयान के अनुसार, "रूसी सेना के कई वरिष्ठ अधिकारी मारे भी गए और घायल हो गए हैं।"


अविश्वास प्रस्ताव पर बिफरे इमरान खान, विपक्ष की साख पर सवाल उठाया

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने वेहारी जिले की मेलसी तहसील में एक जन समन्वय अभियान में अपने खिलाफ नियोजित अविश्वास प्रस्ताव को लेकर विपक्ष पर निशाना साधा और अपने राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों की साख पर सवाल उठाया। कुछ नेताओं का मानना है कि इमरान सैन्य प्रतिष्ठान के समर्थन से सत्ता में बने रहने के प्रति बहुत आश्वस्त हैं, जबकि दूसरों का दावा है कि पीएम हताश हैं और अविश्वास प्रस्ताव के कारण घबराहट की स्थिति में हैं।

विपक्षी दलों का गठबंधन, पाकिस्तान डेमोक्रेटिक मूवमेंट (पीडीएम) इस समय इमरान खान के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव को अंतिम रूप देने की प्रक्रिया में है। दावा किया गया है कि अविश्वास प्रस्ताव को संसद में पर्याप्त सांसदों का समर्थन मिलेगा। दूसरी ओर, इमरान खान ने पीडीएम को संसद में प्रस्ताव पेश करने की चुनौती देते हुए कहा कि इसमें विफल रहने के बाद विपक्ष को इसका नतीजा भुगतना होगा।

अपने भाषण के दौरान उन्होंने मौलाना फजलुर रहमान को 'फजलू डीजल' के रूप में संबोधित करने के साथ-साथ आसिफ अली जरदारी को '10 प्रतिशत और सिनेमा टिकट ब्लैकर', नवाज शरीफ को 'भगोड़ा व अपराधी' और शहबाज शरीफ को संबोधित करते समय बेहद अपमानजनक शब्द 'जनरलों का बूट पॉलिशर' का इस्तेमाल किया।

यूक्रेन ने रूसी सेना पर देश में लूटपाट का आरोप लगाया

यूक्रेन की सेना ने मंगलवार को दावा किया कि वर्तमान में घेराबंदी वाले क्षेत्रों में सैन्य संघर्ष के दौरान रूसी सेना तेजी से लूटपाट कर रही है और अंतर्राष्ट्रीय मानवीय कानून के नियमों का उल्लंघन कर रही है। यूएनआईएएन ने बताया कि स्थिति पर अपने नवीनतम अपडेट में, यूक्रेन के सशस्त्र बलों के जनरल स्टाफ ने कहा कि खारकीव, सूमी, चेर्निहाइव और कीव क्षेत्रों में डकैतियों की सूचना मिली है।

लूटपाट के अलावा, रूसी सेना 'स्थानीय निवासियों के खिलाफ हिंसक कार्रवाई, नागरिक परिसरों की जब्ती, सैन्य उपकरणों की पार्किंग के लिए कृषि हैंगर का उपयोग, घनी आबादी वाले क्षेत्रों और नागरिक सुविधाओं में गोलीबारी की स्थिति की व्यवस्था' का भी सहारा ले रही है। खेरसान और मायकोलाइव के क्षेत्रों में रूसी कथित तौर पर स्थानीय निवासियों को प्रभावित करने के लिए मनोवैज्ञानिक युद्ध का उपयोग कर रहे हैं।


यूक्रेनियन को कैदी बनाने के लिए मानवीय गलियारों का इस्तेमाल करना चाह रहा रूस- यूक्रेन

यूक्रेन के आंतरिक मामलों के मंत्री के सलाहकार वादिम डेनिसेंको ने यह आशंका व्यक्त की है कि रूस यूक्रेन के लोगों को कैदी बनाने के लिए रूस और बेलारूस के लिए तथाकथित मानवीय गलियारों का उपयोग करना चाहता है। यूएनआईएएन ने डेनिसेंको के हवाले से कहा, कल, रूसियों ने फिर से कहा कि वे आज मानवीय गलियारे प्रदान करने की योजना बना रहे हैं। मुझे विश्वास है कि यह सफल होगा, लेकिन, दुर्भाग्य से, ऐसा लगता है कि रूसी संघ ने अपनी सेना को पूरे यूक्रेन में किसी भी मानवीय गलियारे की अनुमति नहीं देने का निर्देश दिया है।

उनके अनुसार, इस तरह के मानवीय गलियारे कब्जे वाले क्षेत्रों से नागरिकों की निकासी के लिए आवश्यक है। उन्होंने विशेष रूप से, मारियुपोल, खारकीव, इजियम, ट्रॉस्टाइनेट्स, बुका और गोस्टोमेल से लोगों को निकाले जाने पर जोर दिया। डेनिसेंको ने कहा कि रूसी चाहते हैं कि यूक्रेनियन अपने मानवीय गलियारों के लिए पूछें।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia