दुनिया की खबरेंः 18 देशों में फैला कोरोना वायरस और पाकिस्तान में 11 अरब रुपये के नशीले पदार्थ बरामद

चीन में 200 से ज्यादा लोगों की जान लेने वाला कोरोना वायरस दुनिया के 18 देशों में फैल चुका है। इसे देखते हुए डब्ल्यूएचओ ने इंटरनेशनल इमरजेंसी की घोषणा कर दी है। इधर पाकिस्तान में मादक पदार्थों की एक बहुत बड़ी खेप जब्त की गई है, जिसकी कीमत 11 अरब रुपये है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

दुनिया के 18 देशों में फैला कोरोना वायरस

चीन से शुरू हुए कोरोना वायरस के संक्रमण का कहर जारी है और अब यह जानलेवा वायरस दुनिया के कई देशों में फैल चुका है। खबर के मुताबिक चीन से शुरू होने वाला कोरोना दुनिया भर के 18 से ज्यादा देशों में अपना पैर पसार चुका है। गंभीर हालात को देखते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना को लेकर इंटरनेशनल इमरजेंसी की घोषणा कर दी है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रमुख टेड्रोस ऐडनम ने कहा, "हमारी चिंता वैसे देशों को लेकर है, जहां स्वास्थ्य सुविधाएं कमजोर हैं और उन देशों को कोरोना से मुकाबला करने में परेशानी हो सकती है। इसलिए हमने अंतरराष्ट्रीय पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी की घोषणा की है।"

कोरोना वायरस से चीन में अब तक 213 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 9,692 कन्फर्म केस सामने आए हैं। चीन का हुबेई प्रांत कोरोना का केंद्र बना हुआ है, जहां कोरोना से अब तक 204 लोगों की मौत हो चुकी है। कई देशों ने अपने नागरिकों को चीन न जाने की सलाह दी है, जबकि पाकिस्तान समेत कई देशों ने चीन के लिए अपनी उड़ानें रद्द कर दी हैं।

चीन ने टेस्ला की शंघाई फैक्ट्री बंद कराई, कार उत्पादन पर असर

चीन में कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे को देखते हुए चीन ने इलेक्ट्रिक कार निर्माता कंपनी टेस्ला को शंघाई स्थित अपने कारखाने को अस्थायी रूप से बंद करने का आदेश दिया है। कंपनी के शीर्ष अधिकारियों ने यह जानकारी दी है। बता दें कि टेस्ला के साथ कुछ और कंपनियों को चीन सरकार ने बंद करने का आदेश दिया है। चीन सरकार ने अपने आदेश में कंपनियों को 9 फरवरी तक ऑपरेशन बंद रखने को कहा है। वहीं, चीन में कोरोना के बढ़ते खतरे को देखते हुए कई देशों ने अपने नागरिकों को चीन न जाने की सलाह दी है, जबकि कई देशों ने चीन के लिए उड़ानें रोक दी हैं। इस बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना को लेकर इंटरनेशनल हेल्थ इमरजेंसी की भी घोषणा कर दी है।

कोरोना की चपेट में आया इटली का क्रूज, 6 हजार यात्री फंसे

इटली के एक क्रूज पर सवार एक महिला के संदिग्ध कोरोना वायरस से पीड़ित होने की आशंका के कारण क्रूज पर सवार 6000 लोग फंस गए हैं। खबरों के अनुसार, क्रूज पर सवार एक चीनी महिला (54) के कोरोना वायरस से पीड़ित होने की आशंका को देखते हुए जहाज को रोम से 35 मील दूर सिवितावेच्चिया के पास कोस्टा स्मेराल्डा में रोक दिया गया है। हालांकि, खबर है कि कोरोना वायरस के शुरुआती परीक्षण निगेटिव आए हैं, लेकिन अधिकारियों का कहना है कि वे अंतिम और स्पष्ट परिणाम का इंतजार करेंगे।

मिली जानकारी के अनुसार संदिग्ध कोरोना पीड़ित महिला और उसके पति, जो वायरस के लक्षण से इनकार कर रहे थे, को फौरन एकांतवास में शिफ्ट कर दिया गया और वायरस की जांच की गई। महिला ने बताया है कि बुधवार रात उसने बुखार और सांस में समस्या होने पर दवाई ली थी। फिलहाल डॉक्टरों के सिवाय किसी को भी जहाज पर चढ़ने या उतरने नहीं दिया जा रहा है। सूत्रों का दावा है कि क्रूज में 7000 लोग फंसे हुए हैं।

पाकिस्तान में 11 अरब रुपये के मादक पदार्थ बरामद

पाकिस्तान के बलोचिस्तान प्रांत से मादक पदार्थो की एक भारी भरकम खेप जब्त हुई है, जिसकी अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कीमत 11 अरब (पाकिस्तानी) रुपये बताई जा रही है। पाकिस्तानी मीडिया के अनुसार, मादक पदार्थ रोधी बल (एएनएफ) ने बलोचिस्तान में ईरान सीमा के पास तफ्तान में 1088 किलो ड्रग्स बरामद की है जिनकी अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कीमत 11 अरब पाकिस्तानी रुपये बताई गई है। मादक पदार्थ एक गोदाम में छिपा कर रखे गए थे। इनमें 848 किलो अफीम, 84 किलो चरस, 71 किलो आइस हेरोइन, 53 किलो मॉरफीन और 32 किलो गुर्दा चरस शामिल है। इस सिलसिले में अभी कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है।

कोरिया और जापान के नागरिकों को वुहान से एयरलिफ्ट किया गया

चीन में जानलेवा कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए शुक्रवार को चीन के वुहान शहर में फंसे दक्षिण कोरिया और जापान के नागरिकों को चार्टर्ड उड़ानों की मदद से वहां से निकाला गया। खबर के अनुसार 367 दक्षिण कोरियाई नागरिकों का पहला समूह शुक्रवार को सुबह आठ बजे सियोल पहुंचा और अब देश में मौजूद दो सुविधा गृह में भेजे जाने से पहले इनके स्वास्थ्य का गहन परीक्षण किया जा रहा है, जहां इन्हें 14 दिनों की अवधि के लिए बिल्कुल अलग रखा जाएगा। इस अभियान में समूह के 720 दक्षिण कोरियाई नागरिकों में से करीब आधे ही आ पाए हैं। दक्षिण कोरियाई सरकार की योजना बाकी बचे लोगों को निकालने के लिए जल्द से जल्द एक और चार्टर उड़ान भेजने की है।

वहीं जापान के 149 नागरिकों को लेकर आज तीसरा चार्टर उड़ान वुहान से टोक्यो के हानेदा हवाईअड्डे पर पहुंचा। सभी यात्रियों को जांच के लिए स्वास्थ्य केंद्रों में भेज दिया गया है। इससे पहले गुरुवार को यहां 210 लोग लाए गए जिनमें से 26 अस्पताल में भर्ती हैं। सरकार और 300 से अधिक जापानी नागरिकों को वहां से निकालकर लाने की व्यवस्था कर रही है। प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने शुक्रवार को इस बात की घोषणा की है कि उनकी सरकार उन लोगों के प्रवेश पर रोक लगाएगी, जिनमें इस वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है। बता दें कि जापान में अब तक 14 मामलों की पुष्टि हुई है।

लोकप्रिय