दुनिया की खबरेंः जापानी क्रूज पर फंसे भारतीय और चीन में गायब हो रहे कोरोना का खुलासा करने वाले लोग!

जापान में एक लग्जरी क्रूज पर कोरोना वायरस की वजह से 160 भारतीय क्रू मेंबर्स समेत कई नागरिक फंसे हुए हैं, जिन्होंने वीडियो जारी कर पीएम नरेंद्र मोदी से बचाने की गुहार लगाई है। वहीं चीन में कोरोना वायरस की सच्चाई उजागर करने वाला एक पत्रकार गायब हो गया है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

जापानी क्रूज पर फंसे भारतीय, पीएम मोदी से लगाई गुहार

चीन से शुरू हुआ कोरोना वायरस कई देशों में पहुंच चुका है। कई देशों में कोरोना को लेकर हाहाकार मचा हुआ है। इस बीच जापान में एक लग्जरी क्रूज पर 160 भारतीय क्रू मेंबर्स समेत कई नागरिक फंसे हुए हैं। क्रूज पर फंसे भारतीयों ने वीडियो जारी कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बचाने की गुहार लगाई है। क्रूज में फंसे बिनय सरकार नाम के एक क्रू मेंमबर ने वीडियो जारी कर बताया है कि क्रूज पर सवार 66 और नागरिकों की जांच रिपोर्ट में वायरस की पुष्टि हुई है, जिसके बाद क्रू सभी मेंबर्स डरे हुए हैं। इससे पहले क्रूज में सवार 137 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।

बताया जा रहा है कि यह क्रूज पिछले सप्ताह जापान के तट पर पहुंचा था। इसी क्रूज से हांगकांग में उतरे एक यात्री में कोरोना वायरस की बीते दिनों पुष्टि हुई थी, जिसके बाद जापान सरकार ने क्रूज से किसी के भी उतरने पर पाबंदी लगा दी है। इसे बंदरगाह पर अन्य जहाजों से अलग रखा गया है।पीटीआई के मुताबिक, जापान के स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि क्रूज पर हालात बेहद खराब हैं। इस पर सवार लोगों में वायरस तेजी से फैल रहा है। लगभग 600 लोगों को तत्काल उपचार की जरूरत है। डायमंड प्रिंसेज नाम के इस क्रूज पर क्रू मेंबर्स समेत 3700 लोगों में से अब तक 500 के सैंपल की जांच कराई गई है।

बिनय का वीडियो वायरल होने के बाद विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा कि भारत घटनाक्रम पर करीबी नजर बनाए हुए है। उन्होंने बताया कि चालक दल के सदस्य या यात्री में शामिल किसी भी भारतीय में कोरोना वायरस की पुष्टि नहीं हुई है। इस बीच भारतीय दूतावास ने भी क्रूज में भारतीयों के फंसे होने की पुष्टि की है।

क्या कोरोना वायरस का खुलासा करने वालों को गायब कर रहा है चीन?

चीन में कोरोना वायरस के कहर के बीच खबर आ रही है कि इस वायरस की सच्चाई उजागर करने वाले लोग चीन से गायब हो रहे हैं। पिछले हफ्ते ही पूरी दुनिया को सबसे पहले कोरोना वायरस को लेकर आगाह करने वाले डॉक्टर ली वेनलियांग की मौत हो गई थी। और अब इस वायरस के संक्रमण की सच्चाई उजागर करने वाले एक चीनी पत्रकार चेन कुशी के गायब होने की खबर है। आरोप लग रहे हैं कि चीन में कोरोना वायरस के संक्रमण के मामलों की संख्या और इससे होने वाली मौतों की संख्या कहीं अधिक है और चीनी सरकार जानबूझ कर इसे छिपा रही है। और ऐसे में वायरस की सच्चाई बताने वाले लोग एक-एक कर गायब हो रहे हैं।

चेन कुशी के गायब होने का मामला भी संदेहास्पद हो गया है। खबरों के मुताबिक चेन कुशी चीन के वुहान से कोरोना वायरस पर लगातार रिपोर्टिंग कर रहा था। लेकिन इसी बीच चेन कुशी गुरुवार से कहीं गायब हो गया है। चेन कुशी के रिश्तेदार और दोस्त उसके गायब होने से चिंतित हैं। डॉ ली की मौत पर चीन के सोशल मीडिया पर लोगों ने सरकार के खिलाफ अपनी नाराजगी जाहिर की थी।अब चेन कुशी के गायब होने के पीछे चीनी सरकार का हाथ बताया जा रहा है। लोगों में काफी नाराजगी है।

कोरोना के कहर से चीन में खाने-पीने की चीजों पर आफत, चरम पर महंगाई

कोरोना वायरस का के कहर की वजह से इस समय चीन में महंगाई दर 8 साल के सबसे ऊपरी स्तर पर पहुंच गई है। चीन में खाद्य वस्तुओं की खुदरा महंगाई दर 20.6 फीसदी पर पहुंच गई है।सोमवार को जारी चीन के आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक चीन में खुदरा महंगाई दर जनवरी में 5.4 फीसदी रही, जो दिसंबर 4.5 फीसदी थी।

चीन के नेशनल ब्यूरो ऑफ स्टैटिस्टिक्स ने कहा कि महंगाई दर बढ़ने के पीछे कोरोना वायरस का कहर बड़ी वजह है। कोरोना वायरस की रोकथाम की कोशिशों के कारण भी महंगाई की दर बढ़ी है।

चीन में कोरोना वायरस से मौत का आंकड़ा 908 पहुंचा

चीन में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। रविवार को इस वायरस से पीड़ित 97 लोगों की मौत हो गई। इनमें सबसे अधिक 91 मौत अकेले वुहान में हुई है, जो इस वायरस के संक्रमण का केंद्र माना जा रहा है। इस आंकड़े के साथ मरने वालों की संख्या अब 908 पहुंच गई है।

इस बीच कोरोना के 4008 नए केस सामने आए हैं, जिसमें 296 मरीजों की हालत काफी गंभीर बताई जा रही है। हालांकि रविवार को ही 3281 लोगों में संक्रमण खत्म होने के बाद उन्हें डिस्चार्ज कर दिया गया। चीन में अब तक 40 हजार से अधिक केस सामने आ चुके हैं।

चीन में कोरोना वायरस के कहर से 27 विदेशी संक्रमित

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता कंग श्वांग ने 10 फरवरी बताया कि अभी तक चीन में 27 विदेशी नागरिक कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं, जिनमें 2 लोग अस्पताल छोड़ चुके हैं और 2 की मौत हो चुकी है और बाकी 22 का उपचार किया जा रहा है। कंग श्वांग ने बताया कि चीन हुपेई के वुहान में रहने वाले विभिन्न देशों के नागरिकों की सुरक्षा और शारीरिक स्वास्थ्य पर बड़ा महत्व देता है। चीन कारगर कदम उठाकर उनके स्वास्थ्य का ध्यान रखेगा।

डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक ट्रेडोस अधनोम घेब्रेयसस ने जोर दिया कि जल्दबाजी में लोगों को चीन से स्वदेश लाने की जरूरत नहीं है। अब सब से अच्छा तरीका है कि घटनास्थल पर रहना और आत्मसुरक्षा करना है। उम्मीद है कि चीन डब्ल्यूएचओ के सुझाव का पूरा सम्मान करेगा। जो देश वुहान में अपने नागरिकों को वापस लाना चाहता है, चीन अंतर्राष्ट्रीय नियम के मुताबिक तदनुरूप प्रबंध करेगा और आवश्यक मदद व सुविधा भी देगा।

लोकप्रिय