दुनिया की खबरें: कल तुर्की में मिलेंगे रूस-यूक्रेन के विदेश मंत्री, सोमालियाई सेना ने अल-शबाब के 10 आतंकवादी मारे

अमेरिका ने पोलैंड द्वारा अपने सभी सोवियत निर्मित मिग-29 लड़ाकू जेट विमानों को यूक्रेन भेजने के प्रस्ताव पर हैरानी जताते हुए इसे खारिज कर दिया। पाकिस्तान के पीएम इमरान खान ने आज कहा कि उनकी 'बंदूक' के निशाने पर अब पीपीपी के सह-अध्यक्ष आसिफ अली जरदारी हैं।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

कल तुर्की में मिलेंगे रूस और यूक्रेन के विदेश मंत्री

रूस और यूक्रेन के विदेश मंत्रियों सर्गेई लावरोव और दिमित्री कुलेबा के गुरुवार 10 मार्च को तुर्की के अंताल्या में एक बहुपक्षीय सम्मेलन से इतर मिलने की उम्मीद है। रूसी रेडियो स्टेशन, स्पूतनिक ने रूसी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता के हवाले से यह जानकारी दी है। शांति वार्ता में भाग लेने वाले तुर्की के विदेश मंत्री के साथ यह बैठक त्रिपक्षीय होगी।

रूस और यूक्रेन के बीच पिछले दो सप्ताह से युद्ध जारी है। रूस ने अपने पड़ोसी देश पर आक्रमण किया है, जिसे मॉस्को एक विशेष सैन्य अभियान के रूप में वर्णित कर रहा है।
शत्रुता की वर्तमान स्थिति को देखते हुए विदेश मंत्रियों की बैठक की खबर महत्वपूर्ण है। हालांकि, यूक्रेनी राष्ट्रपति वलोडिमिर जेलेंस्की ने आज यह स्पष्ट कर दिया है कि उनका देश पश्चिमी सैन्य गठबंधन उत्तरी अटलांटिक संधि संगठन (नाटो) में शामिल होने की मांग नहीं करेगा। इसके बाद एक आशा की किरण जरूर जगी है कि रूस और यूक्रेन के बीच संघर्ष कुछ कम होगा।

सोमालियाई सेना ने अल-शबाब के 10 आतंकवादी मार गिराए, 6 गिरफ्तार

सोमाली नेशनल आर्मी (एसएनए) ने बुधवार को कहा कि उसके बलों ने देश के दक्षिणी हिस्से में जमाम शहर के पास एक अभियान के दौरान अल-शबाब के 10 आतंकवादियों को मार गिराया और छह अन्य को गिरफ्तार किया। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, एसएनए इन्फैंट्री के डिप्टी कमांडर, इस्माइल शेख इसाक ने कहा कि जुबालैंड राज्य बलों द्वारा समर्थित एसएनए ने आतंकवादियों की मौजूदगी के बारे में खुफिया जानकारी के बाद ऑपरेशन को अंजाम दिया।

इसाक ने कहा कि गिरफ्तार किए गए आतंकवादियों ने खुफिया जानकारी प्रदान की जिससे हमारे एसएनए बलों को 10 आतंकवादियों को मारने में मदद मिली। सुरक्षा अभियान लगभग दो सप्ताह तक जारी रहा और जब तक अल-शबाब आतंकवादियों को वहां से बाहर नहीं निकाला जाता तब तक इस क्षेत्र में जंग जारी रहेगी। सूत्रों ने कहा कि दोनों पक्षों के बीच हुई जंग में सरकारी बलों ने आतंकवादियों पर काबू पा लिया।


अविश्वास प्रस्ताव से बिफरे इमरान बोले- अब मेरा अगला निशाना आसिफ अली जरदारी

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने बुधवार को कहा कि उनकी 'बंदूक' के निशाने पर अब पीपीपी के सह-अध्यक्ष आसिफ अली जरदारी हैं। प्रधानमंत्री कराची में एक रैली को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि अब मेरा पहला निशाना, जो लंबे समय से मेरे रडार पर है, वह आसिफ अली जरदारी हैं। उन्होंने पूर्व राष्ट्रपति पर लोगों को मारने के लिए पुलिस और ठगों का इस्तेमाल करने, चोरी और भ्रष्टाचार में लिप्त होने और विदेशों में धन शोधन करने का भी आरोप लगाया।

डॉन की रिपोर्ट के अनुसार, इमरान खान ने पीपीपी नेता को चेतावनी दी, "आसिफ जरदारी, आपका समय अब करीब है।" खान ने यह भी कहा कि जरदारी ने पीटीआई सदस्यों को वफादारी बदलने को मजबूर करने के लिए अपने पास धन रखा था। उन्होंने दावा किया कि मेरे एक एमएनए ने मुझे बताया कि उन्हें 20 करोड़ रुपये की पेशकश की गई थी। भ्रष्टाचार के मामलों में राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो द्वारा सुनवाई के लिए बुलाए जाने पर उन्होंने कथित तौर पर बीमारी का बहाना करने के लिए पीपीपी के सह-अध्यक्ष पर हमला किया।

अमेरिका ने यूक्रेन को लड़ाकू जेट भेजने की पोलैंड की योजना पर जताई हैरानी

अमेरिका ने बुधवार को पोलैंड द्वारा जर्मनी में एक अमेरिकी एयरबेस के माध्यम से अपने सभी सोवियत निर्मित मिग-29 लड़ाकू जेट विमानों को यूक्रेन भेजने के प्रस्ताव को खारिज कर दिया। पेंटागन के प्रवक्ता जॉन किर्बी ने कहा कि यूक्रेन पर रूस के साथ लड़े गए हवाई क्षेत्र में उड़ान भरने के लिए जर्मनी में अमेरिकी या नाटो बेस से अमेरिकी सरकार के प्रस्थान की संभावना पूरे नाटो गठबंधन के लिए गंभीर चिंता का विषय है।"

बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार, पोलैंड की पेशकश से अमेरिका सतर्क हो गया है। सैन्य विश्लेषक कर्नल ब्रेंडन किर्नी ने बीबीसी को बताया कि वह 'पोलिश के इस दृष्टिकोण से हैरान थे।
उन्होंने कहा कि यूक्रेनी पायलट सचमुच सीमा पार पोलैंड में चल सकते हैं और उन्हें वापस यूक्रेन में उड़ा सकते हैं, जो 'एक बहुत आसान, अधिक स्मार्ट चाल की तरह लगता है। किर्नी ने कहा कि यूक्रेनी के हाथों में अतिरिक्त मिग-29 प्राप्त करने का दीर्घकालिक अंतिम लक्ष्य एक अच्छा विकल्प है, लेकिन हमारे पास ऐसे लोग बैठे हैं जो जानते हैं कि वे किस बारे में बात कर रहे हैं।


रूस ने यूक्रेन पर डोनबास पर हमले की योजना बनाने का आरोप लगाया

रूस के रक्षा मंत्रालय ने दावा किया है कि उसके पास गुप्त दस्तावेज हैं जो 'साबित' करते हैं कि कीव पूर्वी यूक्रेन में रूसी समर्थित अलगाववादियों पर हमले की योजना बना रहा था। रॉयटर्स का कहना है कि मंत्रालय ने छह पृष्ठों के दस्तावेज प्रकाशित किए हैं जो साबित करते हैं कि कीव डोनबास में रूसी समर्थित विद्रोही क्षेत्रों पर सैन्य हमले की योजना बना रहा था।

रॉयटर्स का कहना है कि वह यूक्रेन में लिखे गए दस्तावेजों को स्वतंत्र रूप से सत्यापित नहीं कर सकता है, जो सामरिक सैन्य इकाइयों के लिए युद्ध की तैयारियों को रेखांकित करते प्रतीत होते हैं। फरवरी में, रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने पूर्वी यूक्रेन में दो रूसी समर्थित क्षेत्रों, डोनेट्स्क पीपुल्स रिपब्लिक और लुहान्स्क पीपुल्स रिपब्लिक को स्वतंत्र राज्यों के रूप में मान्यता दी थी।
बाद में, यूक्रेन में युद्ध शुरू होने से पहले, पुतिन ने दोनों क्षेत्रों में सैनिकों का आदेश दिया।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia