यूक्रेन से जंग के बीच पुतिन पर बड़ी आफत! रूस में होगा तख्तापलट? प्राइवेट आर्मी वैगनर ने की बगावत

पुतिन की निजी मिलिशिया वैगनर ग्रुप ने विद्रोह का ऐलान किया है। बताया जा रहा है कि वैगनर ग्रुप और रूस की सेना के बीच तनाव पैदा हो गया है। रूस से जुड़े लड़ाकू समूह के सरगना येवगेनी प्रिगोझिन ने मॉस्को को सजा देने के साथ बदला लेने की कसम खाई है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

रूस और यूक्रेन में जारी जंग के बीच रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के सामने एक और बड़ी परेशानी खड़ी हो गई है। उन्हें तख्तापलट का डर सताने लगा है। रूस में तख्तापलट की आशंका जताई जा रही है। यही वजह है कि क्रेमलिन की सुरक्षा के लिए मॉस्को में टैंकों की तैनाती किए जाने की खबर मिली है। समाचार एजेंसी TASS ने खबर दी है कि शनिवार तड़के मध्य मॉस्को में सैन्य वाहन देखे गए।

पुतिन की निजी मिलिशिया वैगनर ग्रुप ने विद्रोह का ऐलान किया है। बताया जा रहा है कि वैगनर ग्रुप और रूस की सेना के बीच तनाव पैदा हो गया है। रूस से जुड़े लड़ाकू समूह के सरगना येवगेनी प्रिगोझिन ने मॉस्को को सजा देने के साथ बदला लेने की कसम खाई है। खबरों के मुताबिक, रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को वैगनर बॉस येवगेनी प्रिगोझिन के सशस्त्र तख्तापलट की कोशिश के बारे में लगातार जानकारी दी जा रही है। क्रेमलिन ने कहा कि पुतिन को रक्षा मंत्रालय, आंतरिक मामलों के मंत्रालय और नेशनल गार्ड से लगातार इस संबंध में जानकारी मिल रही है।

खबरों के मुताबिक, वैगनर ग्रुप के सरगना येवगेनी प्रिगोझिन ने यूक्रेन के बखमुत में वैगनर ट्रेनिंग कैंप पर मिसाइल हमले के लिए क्रेमलिन को जिम्मेदार ठहराया है। हमले में कई वैगनर लड़ाकों की जान चली गई थी। प्रिगोझिन ने कसम खाई और कहा कि हम मॉस्को जा रहे हैं, और जो कोई भी हमारे सेंटर्स में प्रवेश करेगा वह इसके लिए जवाबदेह होगा। प्रिगोझिन ने एक ऑडियो संदेश में कहा कि उन्होंने (रूस की सेना) हमारे शिविरों पर मिसाइल हमले किए जिससे बड़ी संख्या में हमारे लड़ाके, हमारे साथी मारे गए। उन्होंने कहा कि पीएमसी वैगनर के कमांडरों की परिषद ने फैसला लिया है कि देश का सैन्य नेतृत्व जो बुराई लाता है उसे रोका जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि जो कोई भी विरोध करेगा हम इसे खतरा मानेंगे और इसे तुरंत तबाह कर देंगे।

येवगेनी प्रिगोझिन ने वैगनर समूह के इस प्रयास को को इंसाफ की लड़ाई बताया है। यह बात सामने आई है कि वैगनर समूह के लड़ाके पहले ही नोवोचेर्कस्क के रास्ते में पहली चौकी पार कर चुके हैं। नोवोचेर्कस्क में रूसी सेना का मुख्यालय है। मॉस्को की सड़कों पर बख्तरबंद गाड़ियों की तादाद बड़ी संख्या में बढ़ दी गई है। बताया जा रहा है कि रूसी स्पेशल फोर्सेज ने मॉस्को के चारों ओर नाकेबंदी कर दी है। रूसी सैन्य अधिकारी क्रेमलिन और रूस की संसद ड्यूमा को सुरक्षित करने की कोशिश में लग गए हैं।

वहीं, पुतिन विरोधी नेता मिखाइल खोदोरकोव्स्की ने रूसियों से वैगनर के प्रमुख येवगेनी प्रिगोझिन का समर्थन करने की अपील की है। येवगनी ने मॉस्को के सैन्य नेतृत्व को मिटाने की कसम खाई है। उन्होंने कहा कि अगर उन्होंने (वैगनर) क्रेमलिन पर कब्जा करने का फैसला किया है तो इसके लिए शैतान से टकराने की हद तक उसका समर्थन करें उन्होंने लोगों से अपील करते हुए कहा कि यह बहुत जरूरी है।


येवगेनी प्रिगोझिन कौन है?

वैगनर ग्रुप का लीडर येवगेनी विक्टरोविच प्रिगोझिन एक घोषित अपराधी है। वह कई बड़े अपराधों में वॉन्टेड था। उसे जेल हुई। जेल से छूटने के बाद उसने हॉट-डॉग बेचना शुरू कर दिया। बाद में वह पुतिन का शेफ बन गया। आज उसकी रेस्त्रां की चेन है। वैगनर ग्रुप का नेटवर्क 18 देशों में है। वह इन देशों में किसी न किसी पार्टी की मदद कर रही है। जैसे माली में इसके हजार से ज्यादा सैनिक रूस की मदद से प्रेसिडेंट बने असिमी गोइता के साथ खड़े हैं। बदले में गरीब देश माली उन्हें हर महीने करीब 10 मिलियन डॉलर चुकाता है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;