ब्रिटेन में 30 साल की सबसे बड़ी रेल हड़ताल, देश भर के लाखों यात्री प्रभावित, जनजीवन अस्तव्यस्त

बीबीसी ने बताया कि मंगलवार की रेल हड़ताल इंग्लैंड, स्कॉटलैंड और वेल्स में तीन राष्ट्रीय रेल हड़तालों में से पहली है, जबकि गुरुवार और शनिवार को दो और हड़ताल की योजना बनाई गई है।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

ब्रिटेन को मंगलवार को 30 वर्षों में सबसे बड़ी रेल हड़ताल का सामना करना पड़ रहा है। रेलवे कर्मचारी यूनियन के 50,000 सदस्यों ने 11 प्रतिशत वेतन वृद्धि की मांग को लेकर आज हड़ताल का आह्वान किया है, जिससे देश भर के लाखों यात्री प्रभावित हुए हैं। बीबीसी ने बताया कि मंगलवार की हड़ताल इंग्लैंड, स्कॉटलैंड और वेल्स में तीन राष्ट्रीय रेल हड़तालों में से पहली है, जबकि गुरुवार और शनिवार को दो और हड़ताल की योजना बनाई गई है।

अधिकारियों ने हड़ताल को देखते हुए आम जनता को यात्रा न करने की सलाह दी है क्योंकि केवल पांचवीं ट्रेनें आधे नेटवर्क पर चलने वाली हैं। इस बीच, ग्लासगो या एडिनबर्ग से उत्तर के क्षेत्रों में, कॉर्नवाल में पेनजेंस के लिए, स्वानसी या होलीहेड के लिए कोई ट्रेन सेवा नहीं होगी।
अन्य जगहों पर, दिन का एक छोटा हिस्सा सेवाओं द्वारा कवर किया जाएगा और कुछ लंबी दूरी के मार्गों के लिए अंतिम प्रस्थान दोपहर के मध्य में होगा।


ब्रिटेन के रेल बुनियादी ढांचे के मालिक और चलाने वाली कंपनी नेटवर्क रेल के मुख्य कार्यकारी एंड्रयू हैन्स ने बीबीसी को बताया कि बड़े पैमाने पर व्यवधान के लिए उन्हें "खेद" है। लेकिन उन्होंने कहा कि प्रस्तावित परिवर्तनों, वेतन और अतिरेक पर नेटवर्क रेल और आरएमटी यूनियन के बीच लगभग 18 महीने की बातचीत हुई थी। हैन्स ने कहा कि, 2,000 से अधिक नौकरियों का नुकसान नहीं होगा, लेकिन उनका मानना है कि सभी स्वैच्छिक हो सकते हैं।

आरएमटी यूनियन के सदस्यों द्वारा बुलाई गई हड़ताल वेतन और अतिरेक को लेकर है, क्योंकि इस महीने के अंत में और जुलाई में अधिक बकाया है। लंदन के भूमिगत कर्मचारी भी पेंशन और नौकरी छूटने के एक अलग विवाद में हड़ताल पर चले गए हैं, जिससे यात्रियों को परिवहन के वैकल्पिक तरीके अपनाने के लिए मजबूर होना पड़ा है। ट्रांसपोर्ट फॉर लंदन और नेटवर्क रेल की वेबसाइटें मंगलवार सुबह क्रैश हो गईं क्योंकि लोगों ने काम या स्कूल जाने के लिए रास्ता खोजने की कोशिश की।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia