दुनिया

अपने घर में घिरे पाक पीएम इमरान खान, बिलावल भुट्टो बोले- जेल में पूर्व पीएम, खुले घुम रहे आतंक फैलाने वाले

आतंकवाद के मुद्दे पर पाकिस्तान के पीएम इमरान खान अपने ही घर में घिर गए हैं। पीपीपी के अध्यक्ष बिलावल भुट्टो जरदारी ने आतंकवादियों और आतंकी संगठनों पर कार्रवाई नही करने पर इमरान खान पर जमकर हमला बोला। 

फोटो: सोशल मीडिया 

नवजीवन डेस्क

आतंकवाद के मुद्दे पर चौतरफा हमले के बाद पाकिस्तान के पीएम इमरान खान अपने ही घर में घिर गए हैं। पूर्व पीएम आसिफ अली जरदारी और बेनजीर भुट्टो के बेटे और पीपुल्स पार्टी के नेता बिलावल भुट्टो ने इमरान सरकार पर हमला बोला है। बिलावल ने कहा है कि पाकिस्तान की धरती और दूसरे देशों में आतंक फैलाने वाले खुलेआम घूम रहे हैं।

बिलावल ने आगे कहा, “ये कैसा देश है जहां एक चुने हुए पीएम को फांसी सुनाया जाता है, लेकिन ये जो प्रतिबंधित संगठन हैं जो हमारे देश के बच्चों को मारते हैं और दूसरे देशों में आतंकवाद फैलाते हैं उनके खिलाफ कुछ नहीं किया जाता है।” बिलावल ने आगे कहा कि पाकिस्तान में आतंकवादियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हो रही है जिसके चलते दुनिया में पाकिस्तानी की छवि खराब हुई है।

उन्होंने आगे कहा, “दुनिया को हम क्या पैगाम दे रहे हैं। सरकार प्रतिबंधित आतंकवादी संगठनों की लड़ाई लड़ रही है। इन संगठनों के खिलाफ न तो कोर्ट में सुनवाई हो रही है और न ही उनके खिलाफ कोई फैसला आता है लेकिन पाकिस्तान के पूर्व पीएम जुल्फिकार अली भुट्टो को फांसी पर चढ़ा दिया जाता है। यहां बेनजीर भुट्टो और आसिफ अली जरदारी को एक फोन कॉल पर सजा दे दी जाती है। तीन बार के चुने हुए प्रधानमंत्री नवाज शरीफ आज बीमार हैं लेकिन जेल में हैं। इन सब के बावजूद इमराख खान प्रतिबंधित संगठनों को गिरफ्तार नहीं करवा सकते है।”

गौरतलब है कि भारत और पाकिस्तान के बीच जम्मू कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद से रिश्ते तनावपूर्ण हैं। इस आत्मघाती हमले में सीआरपीएफ के 49 जवान शहीद हो गए थे। इस हमले की जिम्मेदारी पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने ली थी। वहीं जैश के सरगना मसूद अजहर को ग्लोबल आतंकी घोषित करने का प्रस्ताव रद्द हो गया है। चीन ने एक बार फिर यूएनएससी में मसूद अजहर को ग्लोबल आतंकवादी घोषित करने के प्रस्ताव पर वीटो लगा दिया है। चीन के इस अड़ंगे से अमेरिका भड़क गया है। अमेरिका ने कहा कि मसूद अजहर को ग्लोबल आतंकी घोषित करने में चौथी बार चीन ने अड़ंगा डाला है।

लोकप्रिय