उज्बेकिस्तान में सिरप पीने से बच्चों की मौत का मामला, मैरियन बायोटेक की नोएडा फर्म पर पहुंची सरकारी एजेंसियां

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा, सूचना मिलने के तुरंत बाद गुरुवार को मैरियन बायोटेक की नोएडा स्थिति कंपनी का का यूपी ड्रग कंट्रोल और सीडीएससीओ टीम द्वारा संयुक्त निरीक्षण किया गया।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

उज्बेकिस्तान के स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा आरोप लगाए जाने के बाद कि भारतीय कंपनी मैरियन बायोटेक का कफ सिरप उनके देश में 18 बच्चों की मौत के लिए जिम्मेदार है, उत्तर प्रदेश ड्रग कंट्रोल और सीडीएससीओ टीम ने सिरप निर्माता की नोएडा स्थित कंपनी का संयुक्त निरीक्षण किया गया। केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) मामले को लेकर उज्बेकिस्तान के राष्ट्रीय दवा नियामक के संपर्क में है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा, सूचना मिलने के तुरंत बाद गुरुवार को मैरियन बायोटेक की नोएडा स्थिति कंपनी का का यूपी ड्रग कंट्रोल और सीडीएससीओ टीम द्वारा संयुक्त निरीक्षण किया गया। निरीक्षण रिपोर्ट के आधार पर आगे की कार्रवाई शुरू की जाएगी।

कफ सिरप के नमूने निर्माण परिसर से लिए गए हैं और परीक्षण के लिए क्षेत्रीय औषधि परीक्षण प्रयोगशाला (आरडीटीएल), चंडीगढ़ भेजे गए हैं। इस बीच मैरियन बायोटेक फार्मा कंपनी ने कहा है कि उसने उक्त खांसी की दवाई के नमूने परीक्षण के लिए भेजे हैं और उत्पाद का उत्पादन भी रोक दिया है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS

भारतीय फार्मा कंपनी मेरियन बायोटेक द्वारा निर्मित खांसी की दवाई के सेवन से उज्बेकिस्तान में 18 बच्चों की मौत के बाद कंपनी में ड्रग इंस्पेक्टर और अधिकारियों द्वारा जांच चल रही है। इसी जांच के दौरान लोकल नोएडा पुलिस भी मैरियन बायोटेक कंपनी पहुंची। आपको बता दें कि जैसे ही यह खबर फैली कि भारतीय फार्मा कंपनी मेरियन बायोटेक द्वारा निर्मित खांसी के सिरप से उज्बेकिस्तान में 18 बच्चों की मौत हो गई, तभी से ही फार्मा कंपनी मेरियन बायोटेक के सेक्टर 67 नोएडा स्थित ऑफिस में हलचल होने लगी।

मैरियन बायोटेक में जांच अधिकारियों के आने का सिलसिला चालू हुआ। अब उसके बाद नोएडा लोकल पुलिस भी मैरियन बायोटेक पहुंच गई है। नोएडा पुलिस और जांच अधिकारी अंदर बायोटेक फार्मा कंपनी में ही है और जांच की जा रही है।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;