चीन ने माना बड़ी आबादी में फैला कोरोना, बंद किया रोज के कोविड आंकड़े जारी करना

एक अधिकारी ने कहा कि कोरोना संक्रमण की मौजूदा लहर में शी जिनपिंग की शून्य-कोविड नीति के तहत महीनों तक हुए नुकसान के बाद अर्थव्यवस्था को फिर से चालू करने का सरकारी दबाव है। सरकार 'समूह प्रतिरक्षा' नियम का पालन कर रही है।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग ने घोषणा की है कि वह अब रोजाना कोविड-19 संक्रमण के आंकड़े प्रकाशित नहीं करेगा, क्योंकि लॉकडाउन के हटने, नागरिकों की व्यापक ट्रैकिंग और अनिवार्य परीक्षण के बावजूद वायरस बड़ी आबादी में फैल गया है। आरएफए की रिपोर्ट के मुताबिक, स्वास्थ्य मंत्रालय ने अपनी आधिकारिक वेबसाइट में कहा, "आज से हम संदर्भ और अनुसंधान के उद्देश्य से चीनी रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र द्वारा जारी किए गए किसी भी डेटा के साथ महामारी पर रोजाना आंकड़े जारी नहीं करेंगे।"

यह घोषणा तब हुई, जब चीन ने सोमवार को कहा कि 8 जनवरी से वह मार्च 2020 से लागू विदेशी यात्रियों के आगमन पर एक अनिवार्य आइसोलेशन का नियम खत्म कर देगा। आरएफए ने बताया कि मंत्रालय ने 20 दिसंबर को लीक हुए एक मंत्रिस्तरीय दस्तावेज का भी हवाला दिया है। मगर विश्लेषकों ने कहा कि नियंत्रण उपाय हटा लिए जाने के बाद लगभग 25 करोड़ लोग कोविड-19 से संक्रमित हो सकते हैं।


अधिकारियों ने पहले ही चेतावनी दी थी कि बड़े पैमाने पर टेस्ट नहीं किए जाने से वायरस के वेरिएंट को ट्रैक करना असंभव हो गया है और ऐसे में प्रकोप का बढ़ना स्वाभाविक है। ग्लोबल टाइम्स के पूर्व मुख्य संपादक और सरकार समर्थक टिप्पणीकार हू जिजिन ने कहा कि हाल के दिनों में जारी किए गए आंकड़े 'काफी विकृत' थे और किसी ने उन पर विश्वास नहीं किया।

रोजाना आंकड़े जारी नहीं करने की घोषणा आसमान छूती मृत्यु दर और अस्पतालों पर भारी दबाव के बीच हुई। ताइजौ शहर के एक अस्पताल ने हाल ही में घोषणा की थी कि उसने हाल के दिनों में बीस लाख आपातकालीन कक्ष का दौरा किया है, जबकि रविवार को एक शंघाई निवासी द्वारा सोशल मीडिया पर अपलोड की गई वीडियो क्लिप में सैकड़ों लोग शहर के बाओक्सिंग फ्यूनरल पार्लर में अपने आत्मीय जनों के शव के अंतिम संस्कार के लिए कतार में खड़े दिखाई दे रहे हैं। कतार गेट के बाहर सड़क तक फैली दिख रही है।


आरएफए के अनुसार, चीन की राजनीतिक और कानूनी प्रणाली, सत्तारूढ़ चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के एक कानून प्रवर्तन अधिकारी ने कहा कि शहर में श्मशान घाटों पर बढ़ रही भारी भीड़ को देखते हुए नगर निगम के नागरिक मामलों के ब्यूरो अधिकारियों ने इस क्षेत्र को अपने नियंत्रण में लिया है। अब किसी को भी अपने मृत रिश्तेदारों के शव को अंत्येष्टि गृहों तक ले जाने की अनुमति नहीं है। उन्हें अंतिम संस्कार गृह के कर्मचारियों द्वारा शव को उठाए जाने की प्रतीक्षा करनी चाहिए।

अधिकारी ने कहा कि संक्रमण की मौजूदा लहर में शी जिनपिंग की शून्य-कोविड नीति के तहत महीनों तक नुकसान के बाद अर्थव्यवस्था को फिर से चालू करने का सरकारी दबाव है। सरकार 'समूह प्रतिरक्षा' नियम का पालन कर रही है। अधिकारी ने कहा, "वे संक्रमित होने वाले लोगों को स्पष्ट रूप से काम पर जाने के लिए कह रहे हैं, ताकि जितना संभव हो सके उतनी जल्दी से संक्रमण फैले।" आरएफए के मुताबिक, अधिकारी ने कहा, "अब पूरे देश में ऐसे ही हालात हैं।"

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;