दुनिया

चीन में कोयला खदान ढहने से 21 खनिकों की मौत, 66 को सुरक्षित निलाका गया बाहर

चीन के शांक्सी प्रांत में कोयले के खदान में जिस वक्त हादसा हुआ उस वक्त खदान में 87 खनिक काम कर रहे थे। खदान ढहने के बाद हड़कंप मच गया। वहीं मौके पर पहुंचे राहत और बचाव दल 66 खनिकों को बाहर निकालने में सफल रहा।

आईएएनएस

चीन में एक बड़ा हादसा हुआ है। यहां के शांक्सी प्रांत में कोयला खदान की छत ढहने से 21 खनिकों की मौत हो गई है, जबकि कई घायल हो गए हैं। समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, यह दुर्घटना शनिवार को स्थानीय समयानुसार शाम लगभग 4.30 बजे बाजी माइनिंग कंपनी का लिजिगोउ कोयला खदान में हुई।

हादसे के वक्त खदान में 87 खनिक काम कर रहे थे, जिनमें से 66 खनिकों को तुरंत सुरक्षित बाहर निकाला गया। फिलहाल हादसे के कारणों का पता लगाने के लिए जांच भी शुरू की गई है।

कुछ इसी तरह का हादसा मेघालय के पूर्वी जयंतिया हिल्स में भी बीते साल 13 दिंसबर को हुआ था। अवैध कोयला खदान के ढहने से करीब 15 खनिक अभी भी फंसे हुए हैं, जन्हें बाहर निकलने के लिए राहत और बचाव का काम जारी है। खनिकों के बचाव कार्य में परेशानियां आ रही हैं, क्योंकि 355 फुट गहरी खदान का कोई खाका नहीं है।

यह मामला सुप्रीम कोर्ट में भी पहुंचा है। न्यायमूर्ति एके सीकरी और न्यायमूर्ति एस अब्दुल नजीर की पीठ को सॉलिसीटर जनरल तुषार मेहता ने बताया था कि यह गैरकानूनी खदान एक नदी के किनारे स्थित है और इससे हो रहा पानी का रिसाव बचाव अभियान में बाधा पैदा कर रहा है।

वहीं राज्य सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को यह जानकारी देते हुए बताया था कि अवैध खदान में फंसे 15 खनिकों को बचाने के अभियान में नौसेना ने पांच रिमोट संचालित उपकरण लगाए गए हैं। मेघालय सरकार ने कोर्ट को बताया कि खान से एक करोड़ लीटर पानी बाहर निकाला गया है, लेकिन पास की नदी से हो रहे रिसाव की वजह से मजदूरों को निकालने का अभियान बाधित हो रहा है।

Published: 13 Jan 2019, 10:55 AM
लोकप्रिय