उइगर मुसलमानों के मानवाधिकार हनन पर घिरा चीन, बाइडेन ने दंडित करने के लिए बिल पर हस्ताक्षर किया

रिपोर्ट में कहा गया है कि कानून को पिछले सप्ताह सर्वसम्मति से सीनेट ने पारित किया था। यह बिल शिनजियांग से माल के आयात पर प्रतिबंध लगाता है, जब तक कि व्यक्ति या कंपनियां यह प्रदर्शित नहीं करती हैं कि सामग्री बिना मजबूर श्रम के बनाई गई थी।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने एक विधेयक पर हस्ताक्षर किया है, जिसका उद्देश्य शिनजियांग प्रांत में उइगरों सहित जातीय और धार्मिक अल्पसंख्यकों के खिलाफ मानवाधिकारों के हनन के लिए चीन को दंडित करना है। रिपोर्ट में कहा गया है कि कानून को पिछले सप्ताह सर्वसम्मति से सीनेट ने पारित किया था। यह बिल शिनजियांग से माल के आयात पर प्रतिबंध लगाता है, जब तक कि व्यक्ति या कंपनियां यह प्रदर्शित नहीं करती हैं कि सामग्री बिना मजबूर श्रम के बनाई गई थी।

शिनजियांग में लाखों उइगरों और अन्य मुस्लिम अल्पसंख्यकों के साथ कथित दुर्व्यवहार के लिए चीन को दंडित करने के लिए उइगर जबरन श्रम रोकथाम अधिनियम नामक कानून, अमेरिका द्वारा नवीनतम प्रयास है। रिपोर्ट में कहा गया है कि अमेरिका ने चीन पर उइगरों के खिलाफ नरसंहार करने का आरोप लगाया है।


पिछले हफ्ते बाइडेन प्रशासन ने चीन के जैव प्रौद्योगिकी क्षेत्र के उन तत्वों को ब्लैकलिस्ट कर दिया, जिनके बारे में अधिकारियों ने कहा कि वे मानवाधिकारों के हनन में शामिल हैं। गुरुवार को सीनेटर मार्को रुबियो ने एक बयान में कानून को 'चीनी कम्युनिस्ट पार्टी को दास श्रम के उपयोग के लिए जवाबदेह ठहराने के लिए अमेरिका द्वारा अब तक की गई सबसे महत्वपूर्ण और प्रभावशाली कार्रवाई' करार दिया।

रुबियो ने कहा कि यह बीजिंग के साथ हमारे संबंधों को मौलिक रूप से बदल देगा। उन्होंने कहा, "मैं नए कानून को सही ढंग से लागू करने और ठीक से लागू करने के लिए बाइडेन प्रशासन और मेरे सहयोगियों के साथ काम करने के लिए तत्पर हूं।"

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia