तालिबान की हरकतों से उड़ी चीन की नींद, कल तक समर्थन की बात करने वाले ड्रैगन का तालिबानियों से उठने लगा भरोसा!

ग्लोबल टाइम्स द्वारा पहुंचे सुरक्षा पर विशेषज्ञों ने कहा कि ईटीआईएम के कई सैकड़ों सदस्य अभी अफगानिस्तान में रह सकते हैं और क्या अफगान तालिबान ईटीआईएम पर नकेल कसने के अपने वादे को निभाएगा या नहीं यह अनिश्चित बना हुआ है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

चीन इस बात को लेकर चिंतित है कि क्या अफगान तालिबान ईस्ट तुर्किस्तान इस्लामिक मूवमेंट (ईटीआईएम) पर नकेल कसने के अपने वादे को पूरा करेगा। अफगान तालिबान के प्रवक्ता ने ग्लोबल टाइम्स के साथ साक्षात्कार में कहा कि कई ईटीआईएम सदस्यों को अफगानिस्तान छोड़ने के लिए कहा गया था, उसके बाद सवाल बने रहे।

चीनी सरकार ने आतंकवादी समूह पर अपनी चिंताओं को दोहराया है, क्योंकि यह चीन की राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए सीधा खतरा पैदा कर रहा है। ग्लोबल टाइम्स ने बताया कि सबसे खतरनाक और चरमपंथी आतंकवादी समूहों में से एक के रूप में, जिसका उद्देश्य चीन से शिनजियांग क्षेत्र को विभाजित करना है। ईटीआईएम चीन में सैकड़ों आतंकी हमलों खासकर उत्तर पश्चिमी चीन के झिंजियांग उइगुर स्वायत्त क्षेत्र के लिए जिम्मेदार है।

इसके सदस्य अल कायदा सहित अंतर्राष्ट्रीय आतंकवादी संगठनों के साथ घनिष्ठ संबंध विकसित कर रहे हैं और वे वैश्विक जिहाद में शामिल होने के लिए शिनजियांग के उइगर लोगों या अन्य जातीय समूहों के लोगों को बुलाने के लिए काम कर रहे हैं।

पिछले कुछ दशकों में, एÝकट आतंकवादी अफगानिस्तान, इराक और सीरिया और मध्य पूर्व, मध्य एशिया और दक्षिण पूर्व एशिया के अन्य देशों में फैले हुए हैं। उनकी उपस्थिति ने वैश्विक आतंकवाद विरोधी कार्य के लिए खतरा पैदा कर दिया है।


ग्लोबल टाइम्स द्वारा पहुंचे सुरक्षा पर विशेषज्ञों ने कहा कि ईटीआईएम के कई सैकड़ों सदस्य अभी अफगानिस्तान में रह सकते हैं और क्या अफगान तालिबान ईटीआईएम पर नकेल कसने के अपने वादे को निभाएगा या नहीं यह अनिश्चित बना हुआ है।

मई 2020 में जारी संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की एक रिपोर्ट के अनुसार, एÝकट मुख्य रूप से बदख्शां, कुंदुज और तखर के अफगान प्रांतों में स्थित है। रिपोर्ट में कहा गया है, "संगठन के लगभग 500 लड़ाके अफगानिस्तान के उत्तर और उत्तर-पूर्व में मुख्य रूप से रघिस्तान और वर्दुज जिलों में काम करते हैं, जो रघिस्तान में स्थित हैं।"

पाकिस्तान के आंकड़ों के मुताबिक, फिलहाल अफगानिस्तान में करीब 200 से 300 ईटीआईएम सदस्य हो सकते हैं। चाइना इंस्टीट्यूट ऑफ कंटेम्पररी इंटरनेशनल रिलेशंस में राष्ट्रीय सुरक्षा और आतंकवाद विरोधी विशेषज्ञ ली वेई ने ग्लोबल टाइम्स को बताया, "हालांकि वे अर्धसैनिक बल हैं, जब तक वे मौजूद हैं, आतंकवादी गतिविधियों के लिए अस्थिर कारक मौजूद हैं।"

रिपोर्ट में कहा गया है कि कई विशेषज्ञों ने अपनी चिंता व्यक्त की और कहा कि क्या अफगान तालिबान ईटीआईएम के साथ अपने संबंधों को तोड़ देगा, यह देखा जाना बाकी है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 18 Sep 2021, 8:54 AM