चीन में कोविड संक्रमण के मामले 90 करोड़ के पार, देश की 64 फीसदी आबादी में वायरस मौजूद

एक शीर्ष चीनी महामारी विज्ञानी ने भी चेतावनी दी थी कि ग्रामीण चीन में नए साल के दौरान मामले बढ़ेंगे। चाइनीज सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल के पूर्व प्रमुख जेंग गुआंग ने कहा कि चीन में कोविड लहर का चरम दो से तीन महीने तक रहने की उम्मीद है।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

चीन की पेकिंग यूनिवर्सिटी के एक अध्ययन के अनुसार, 11 जनवरी तक चीन में लगभग 90 करोड़ लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हो चुके हैं। बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार, इस रिपोर्ट का अनुमान है कि देश की 64 फीसदी आबादी में कोरोना वायरस मौजूद है। इसमें गांसु प्रांत रैंक में सबसे ऊपर है, जहां 91 प्रतिशत लोगों के संक्रमित होने की सूचना दी गई है, इसके बाद युन्नान (84 प्रतिशत) और किन्हाई (80 प्रतिशत) हैं।

एक शीर्ष चीनी महामारी विज्ञानी ने भी चेतावनी दी थी कि ग्रामीण चीन में नए साल के दौरान मामले बढ़ेंगे। चाइनीज सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल के पूर्व प्रमुख जेंग गुआंग ने कहा कि चीन में कोविड लहर का चरम दो से तीन महीने तक रहने की उम्मीद है। महामारी शुरू होने के बाद पहली बार चंद्र नव वर्ष से पहले लाखों चीनी अपने गृहनगर की यात्रा कर रहे हैं। हालंकि, जीरो कोविड नीति को छोड़ने के बाद से चीन ने दैनिक कोविड आंकड़े देना बंद कर दिया है।


बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार, लेकिन बड़े शहरों के अस्पतालों में (जहां स्वास्थ्य सुविधाएं बेहतर और अधिक आसानी से सुलभ हैं) देश भर में वायरस फैलने के कारण कोविड रोगियों की भीड़ हो गई है। इस महीने की शुरूआत में एक कार्यक्रम में, कैक्सिन समाचार आउटलेट में रिपोर्ट की गई टिप्पणी में जेंग ने कहा कि यह 'ग्रामीण क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित करने का समय है।' उन्होंने कहा कि ग्रामीण इलाकों में कई बुजुर्ग, बीमार और विकलांग पहले से ही कोविड इलाज के मामले में पीछे छूट रहे हैं।

चीन का मध्य हेनान प्रांत एकमात्र ऐसा प्रांत है जिसने संक्रमण दर का विवरण दिया है। इस महीने की शुरुआत में वहां के एक स्वास्थ्य अधिकारी ने कहा था कि लगभग 90 प्रतिशत आबादी में कोविड था, शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में समान दर देखी गई थी। हालांकि सरकारी अधिकारियों का कहना है कि कई प्रांत और शहर संक्रमण के पीक को पार कर चुके हैं।


बीबीसी ने बताया कि चीन में चंद्र नव वर्ष की छुट्टियां, जो आधिकारिक तौर पर 21 जनवरी से शुरू होती हैं, दुनिया के सबसे बड़े वार्षिक प्रवासन में शामिल हैं। इस दौरान कुल मिलाकर लगभग दो अरब यात्राएं होने की उम्मीद है और लाखों लोग पहले ही यात्रा कर चुके हैं। ऐसे में देश में कोरोना की एक नई और आक्रामक लहर देखी जा सकती है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;