अपने साथी के ‘मर्डर’ की जांच करते हैं कौवे

क्या आप जानते हैं, अंग्रेजी में कौवों के झुंड को ‘मर्डर’ कहा जाता है? दरअसल, कौवे अपने किसी साथी के मरने पर इकट्ठा हो जाते हैं और कांव-कांव कर उसकी हत्या की जांच-पड़ताल करने लगते हैं।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

डॉयचे वेले

जर्मनी की राजधानी बर्लिन में करीब 100 कौवों का झुंड इकट्ठा हुआ है। वजह है कि उनके एक साथी कौवे की मौत हो गई है। कौवे लगातार कांव-कांव की आवाज लगा रहे हैं और कर्कश आवाज में मानो किसी को डांट रहे हों। वह मृत साथी के ऊपर गोल-गोल चक्कर लगाकर उड़े जा रहे हैं और ऐसा लगता है कि वे इस बात की पड़ताल कर रहे हैं कि उनके साथी की मौत कैसे हुई और उनके समुदाय को किससे खतरा है।

कोरविडे परिवार से ताल्लुक रखने वाले कौवे को अपनी प्रजाति के नीलकंठ और अन्य पक्षियों जैसा ही होशियार माना जाता है। रिसर्च ने साबित किया है कि ये पक्षी अपने खाने के लिए औजार भी ढूंढ लेते हैं। इंसानों के चेहरे पहचानना और उनकी आवाज की नकल उतारना भी इन्हें बखूबी आता है। वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी की एक स्टडी बताती है कि कौवे के मरने पर उसके साथी उसे घेर लेते हैं और जोर-जोर से कांव-कांव करते हैं, मानो शोक मनाने आए हों। ये कौवे शोर कर यह जानने में दिलचस्पी लेते हैं कि उनके साथी की मौत कैसे हुई? क्या उनके झुंड को किसी से खतरा है?

इसे साबित करने के लिए शोधकर्ताओं ने एक टैक्सीडर्मी की मदद से एक प्रयोग किया। टैक्सीडर्मी एक विधि है जिसमें मृत जानवरों के शरीर के अंदर और बाहर चमड़े या मांस को भरा जाता है, जिससे वे ऐसे लगें मानो जिंदा हों। इन्हें सुरक्षित रखा जाता है और पढ़ाई या एक्सपेरिमेंट के लिए इस्तेमाल में लाया जाता है।

शोधकर्ताओं ने सबसे पहले एक सांप को जमीन पर रख दिया, जिससे कौवों का झुंड उसे खाने के लिए इकट्ठा हो सके। जब कौवे आ गए तो शोधकर्ताओं ने वहां मृत कौवे (जिसे टैक्सीडर्मी की विधि से सुरक्षित रखा गया था) को रख दिया। मृत कौवे को देखकर झुंड जोर-जोर से कांव-कांव की आवाजें लगाने लगा, मानो किसी को डांट रहा हो। इस बीच कई शोधकर्ताओं पर उन्होंने हमला भी किया। शोधकर्ताओं ने वहां दूसरे मृत पक्षी रखने शुरू किए, लेकिन कौवों ने उनकी मौत पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। वे बस अपने साथी की मौत पर ही शोर मचाते रहे। इसके बाद शोधकर्ताओं के मृत कौवे के साथ नहीं दिखाई देने पर भी उनपर कौवों ने हमला किया।

यह रिसर्च एक पुरानी रिसर्च की पुष्टि करती है जिसमें शोधकर्ताओं ने दावा किया था कि कौवे अपने साथी की मौत और उसके स्थान को पहचान जाते हैं। वह उन इंसानों के चेहरे भी याद रखते हैं जिनपर उन्हें 'मर्डर' का शक होता है। वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी में कुछ साल पहले ऐसी ही स्टडी हुई थी। वहां के एक नकाब पहने रिसर्चर ने कौवों के छोटे झुंड को पकड़ लिया था। इस पर गुस्साए कौवों ने कांव-कांव कर आसमान सिर पर उठा लिया। इस घटना के कई साल बाद तक अगर कोई नकाब पहने दिखाई देता तो कौवे उस पर हमला शुरू कर देते या चिल्लाने लगते।

तो अगली बार अगर आप कौवों के झुंड को शोर मचाते देखें, तो समझ लीजिये कि वे अपने साथी की मौत से दुखी हैं और उसकी मौत की जांच कर रहे हैं।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;