IMF सौदे में देरी से पाकिस्तान की मुश्किलें बढ़ीं, ऋण भुगतान पड़ सकता है रोकना, अब बस चीन से उम्मीद!

पाकिस्तान ने अपने रुके हुए आईएमएफ 7 बिलियन डॉलर ऋण कार्यक्रम से वित्त पोषण को अनलॉक करने के लिए करों में वृद्धि, उच्च ऊर्जा की कीमतों और 25 वर्षों में उच्चतम ब्याज दरों सहित नीतिगत उपायों की एक श्रृंखला को लागू किया है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

यदि पाकिस्तान को जल्द ही अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) से फंडिंग नहीं मिली तो उसे कर्ज चुकाने से रोकना होगा। यह चेतावनी एक अमेरिकी बैंक ने दी है। डॉन न्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक, बैंक ऑफ अमेरिका की टीम ने यह भी कहा कि पाकिस्तान का करीबी देश चीन पाकिस्तान को बचा सकता है।

बैंक की विशेषज्ञों की टीम, जिसमें इसके अर्थशास्त्री कैथलीन ओह भी शामिल हैं, ने लिखा, चीन के पास निकट अवधि में राहत की कुंजी है, क्योंकि यह सबसे बड़ा लेनदार है। चीन और पाकिस्तान के बीच घनिष्ठ संबंधों के साथ, चीन के आने की उम्मीद बढ़ रही है।


ब्लूमबर्ग ने सोमवार को बैंक के मूल्यांकन की सूचना दी, अर्थशास्त्री कैथलीन ओह को यह कहते हुए उद्धृत किया कि जब तक भुगतान जल्द से जल्द नहीं होता है, तब तक अधिस्थगन की स्थिति अपरिहार्य दिखती है। उन्होंने बताया कि हफ्तों की बातचीत के बाद भी, यह अभी भी स्पष्ट नहीं है कि पाकिस्तान आईएमएफ से अगली किस्त प्राप्त कर सकता है या नहीं।

डॉन की रिपोर्ट के अनुसार, पाकिस्तान ने अपने रुके हुए आईएमएफ 7 बिलियन डॉलर ऋण कार्यक्रम से वित्त पोषण को अनलॉक करने के लिए करों में वृद्धि, उच्च ऊर्जा की कीमतों और 25 वर्षों में उच्चतम ब्याज दरों सहित नीतिगत उपायों की एक श्रृंखला को लागू किया है।


पिछले हफ्ते, वित्त सचिव हमीद याकूब शेख ने संवाददाताओं से कहा कि अगले कुछ दिनों में एक समझौता होने की संभावना है, हालांकि पाकिस्तान अतीत में इस तरह की समय सीमा से चूक गया है।

पाकिस्तान के स्टेट बैंक के गवर्नर जमील अहमद ने पिछले हफ्ते कहा था कि पाकिस्तान को जून तक लगभग 3 अरब डॉलर का कर्ज चुकाने की जरूरत है, जबकि 4 अरब डॉलर के रोलओवर की उम्मीद है।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


/* */