अमेरिका के हवाई में विनाशकारी जंगल की आग का कहर जारी, मरने वालों की संख्या 110 पहुंची, कई लोग लापता

जंगल की आग, जिसने माउई के ऐतिहासिक शहर लहाइना को पूरी तरह नष्ट कर दिया है, आधुनिक अमेरिकी इतिहास में सबसे घातक आग है। लहाइना माउई का एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल और कभी हवाई राज्य की राजधानी था।

अमेरिका के हवाई में विनाशकारी जंगल की आग में मरने वालों की संख्या 110 पहुंची
अमेरिका के हवाई में विनाशकारी जंगल की आग में मरने वालों की संख्या 110 पहुंची
user

नवजीवन डेस्क

अमेरिका के हवाई राज्य के गवर्नर जोश ग्रीन ने कहा कि माउई द्वीप में 8 अगस्त को लगी विनाशकारी जंगल की आग से मरने वालों की संख्या बढ़कर 110 हो गई है। माउई में लगभग 2,200 संरचनाएं, जिनमें से 86 प्रतिशत आवासीय हैं, या तो पूरी तरह से नष्ट हो गई हैं या क्षतिग्रस्त हो गई हैं।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार, बुधवार देर रात एक संवाददाता सम्मेलन में गवर्नर जोश ग्रीन ने कहा, "हर दिन हमारा दिल थोड़ा और टूट जाता है। हमें बताना पड़ता है कि हमारे कई प्रियजनों के खो जाने और मरने की पुष्टि हो गई है।" गवर्नर ने कहा कि जले हुए क्षेत्र का लगभग 38 प्रतिशत खोजा जा चुका है।


गवर्नर जोश ने कहा कि माउई में लगभग 2,200 संरचनाएं, जिनमें से 86 प्रतिशत आवासीय हैं, या तो पूरी तरह से नष्ट हो गई हैं या क्षतिग्रस्त हो गई हैं। माउई पुलिस प्रमुख जॉन पेलेटियर ने मंगलवार को कहा कि उन्हें उम्मीद है कि सप्ताहांत तक खोजकर्ताओं ने 85 से 90 प्रतिशत क्षेत्र को कवर कर लिया होगा।

बुधवार को, व्हाइट हाउस ने एक बयान में कहा कि राष्ट्रपति जो बाइडेन और प्रथम महिला जिल बाइडेन 21 अगस्त को माउई का दौरा करेंगे। राष्ट्रपति ने एक ट्वीट में कहा, "मैं इस आपदा से उबरने के लिए हवाई के लोगों को उनकी जरूरत की हर चीज मुहैया कराने के लिए प्रतिबद्ध हूं।"


जंगल की आग, जिसने माउई के ऐतिहासिक शहर लहाइना को पूरी तरह नष्ट कर दिया है, आधुनिक अमेरिकी इतिहास में सबसे घातक आग है। द्वीप के प्रभावित क्षेत्रों में लगभग 2,000 परिवार बिना बिजली के रह रहे हैं। लहाइना माउई का एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल और कभी हवाई राज्य की राजधानी था। यहां लगभग 13,000 लोग रहते हैं।

इसे भी पढ़ेंः अमेरिका के हवाई में जंगल की आग से मरने वालों की संख्या बढ़कर 99 हुई, ऐतिहासिक शहर लहाइना लगभग तबाह

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;