यूक्रेन और गाजा के मामले पर यूरोपीय संघ में मतभेद, सदस्य देशों के बीच दिखा आंतरिक कलह

मध्य पूर्व की स्थिति के संबंध में यूरोपीय संघ के सदस्य लंबे समय से इजरायल-फिलिस्तीन मुद्दे पर विभाजित रहे हैं। ऑस्ट्रिया और जर्मनी इजरायल के समर्थकों में से हैं, जबकि स्पेन और आयरलैंड ने अक्सर फिलिस्तीनी लोगों के प्रति सहानुभूति दिखाई है।

यूक्रेन और गाजा के मामले पर यूरोपीय संघ में उभरा मतभेद, सदस्य देशों के बीच दिखा आंतरिक कलह
यूक्रेन और गाजा के मामले पर यूरोपीय संघ में उभरा मतभेद, सदस्य देशों के बीच दिखा आंतरिक कलह
user

नवजीवन डेस्क

यूरोपीय संघ (ईयू) के नेता दो दिवसीय यूरोपीय परिषद की बैठक के दौरान यूक्रेन को वित्तीय सहायता और गाजा पट्टी में मानवीय युद्धविराम के लिए किसी सर्वसम्मत समझौते पर नहीं पहुंच सके। इस बैठक के दौरान यूरोपीय संघ को सदस्य देशों के बीच खुले आंतरिक कलह का सामना करना पड़ा।

समाचार एजेंसी श‍िन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, गुरुवार को शुरू हुई बैठक में मुख्य रूप से यूरोपीय संघ के विस्तार, यूक्रेन और गाजा संघर्ष की सहायता के लिए 50 बिलियन यूरो (54 बिलियन डॉलर) के फंडिंग पैकेज पर ध्यान केंद्रित किया गया। सबसे उल्लेखनीय परिणाम यूक्रेन और मोल्दोवा के साथ सदस्यता परिग्रहण वार्ता का उद्घाटन था।

यूरोपीय संघ ने जॉर्जिया को उम्मीदवार देश का दर्जा भी दिया और सदस्यता मानदंडों के अनुपालन की आवश्यक डिग्री हासिल होने के बाद बोस्निया और हर्जेगोविना के साथ प्रवेश वार्ता शुरू करने पर सहमति व्यक्त की। हालांकि, यूरोपीय संघ को आंतरिक कलह का सामना करना पड़ा, क्योंकि यूक्रेन की परिग्रहण वार्ता को खोलने का समझौता सर्वसम्मति से नहीं था।

यूरोपीय संघ ने हंगरी के प्रधानमंत्री विक्टर ओर्बन की आपत्तियों को दरकिनार कर दिया। ओर्बन ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर घोषणा किया कि हंगरी "खराब निर्णय" में भाग नहीं लेना चाहता था और निर्णय से दूर रहा। ओर्बन ने कहा, "यूक्रेन यूरोपीय संघ की सदस्यता के लिए तैयार नहीं है।" ओर्बन ने यूरोपीय संघ के बजट से यूक्रेन को प्रस्तावित 50 अरब यूरो के आवंटन पर भी वीटो कर दिया।


ओर्बन ने सुझाव दिया कि यूरोपीय संघ उचित तैयारी के बाद अगले साल यूरोपीय परिषद की बैठक में इस मुद्दे पर फिर से विचार करेगा। ओर्बन ने सरकारी रेडियो से कहा कि देश को संघर्ष के वित्तपोषण के लिए और धन नहीं भेजना चाहिए। वहीं एक राजनीतिक वैज्ञानिक, जैस्मीन मुजानोविक ने एक्स पर कहा कि ब्रुसेल्स का कदम "विशुद्ध रूप से प्रतीकात्मक" था और "यूक्रेन और मोल्दोवा भाग्यशाली होंगे यदि वे 2055 तक इसमें शामिल हो जाते हैं।"

वहीं रूस ने कहा कि ईयू का कदम पूरी तरह से राजनीतिक फैसला है। क्रेमलिन के प्रवक्ता दिमित्री पेसकोव ने कहा, "यूरोपीय संघ में शामिल होने के लिए बातचीत वर्षों या दशकों तक चल सकती है। यूरोपीय संघ में शामिल होने के लिए हमेशा सख्त मानदंड रहे हैं और यह स्पष्ट है कि फिलहाल न तो यूक्रेन और न ही मोल्दोवा इन मानदंडों को पूरा करते हैं।"

मध्य पूर्व की स्थिति के संबंध में यूरोपीय संघ के सदस्य लंबे समय से इजरायल-फिलिस्तीन मुद्दे पर विभाजित रहे हैं। ऑस्ट्रिया और जर्मनी इजरायल के समर्थकों में से हैं, जबकि स्पेन और आयरलैंड ने अक्सर फिलिस्तीनी लोगों के प्रति सहानुभूति दिखाई है। आयरिश प्रधानमंत्री लियो वराडकर ने कहा कि आयरलैंड ने गाजा युद्धविराम पर जोर दिया है।

इससे यह पता चलता है कि इजरायल-फिलिस्तीन संघर्ष पर यूरोपीय संघ की एकीकृत स्थिति की कमी का उसकी वैश्विक प्रतिष्ठा पर असर पड़ रहा है। वराडकर ने कहा, "हमने ग्लोबल साउथ के साथ विश्वसनीयता खो दी है, जो वास्तव में दुनिया का अधिकांश हिस्सा है।"


बेल्जियम के प्रधानमंत्री अलेक्जेंडर डी क्रू ने कहा, "निर्दोष नागरिकों की हत्या को रोकने की जरूरत है।" उन्होंने कहा कि अगर यूरोपीय संघ संघर्ष में गंभीर भूमिका निभाना चाहता है तो उसे एकजुट होना होगा। उन्होंने कहा, "मुझे लगता है कि हमें ऐसा करना होगा क्योंकि अगर चीजें खराब दिशा में आगे बढ़ीं तो हमें इसके परिणाम भुगतने होंगे।"

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;