चीन के सिचुआन में 6.8 तीव्रता के भूकंप से भारी तबाही, 21 लोगों की मौत, कई लोग घायल

जिस सिचुआन प्रांत में भूकंप आया है वो तिब्बत के पास है। साल 2008 में वहां आए विनाशकारी भूकंप में 70 हजार के करीब लोगों की मौत हुई थी। इसके बाद 2013 में आए 7 तीव्रता के भूकंप में 200 से ज्यादा की मौत हुई। भूकंप के लिहाज से ये क्षेत्र हमेशा संवेदनशील रहा है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

चीन के सिचुआन प्रांत में 6.8 तीव्रता का भीषण भूकंप आया है, जिससे हुई तबाही में अभी तक 21 लोगों की मौत हो चुकी है। कई लोग घायल बताए जा रहे हैं। मौत का आंकड़ा और ज्यादा बढ़ने की आशंका है। यह इलाका तिब्बत के पड़ोस में स्थित है।

भूकंप का केंद्र सिचुआन प्रांत में लुडिंग काउंटी रहा। चाइना अर्थक्वेक नेटवर्क्‍स सेंटर (सीईएनसी) के अनुसार, भूकंप का केंद्र 29.59 डिग्री उत्तरी अक्षांश और 102.08 डिग्री पूर्वी देशांतर पर 16 किमी की गहराई पर था। उपरिकेंद्र क्षेत्र के आसपास 5 किमी की सीमा के भीतर कई गांव हैं, जो लुडिंग की काउंटी सीट से 39 किमी दूर है। भूकंप के झटके सिचुआन की राजधानी चेंगदू में भी महसूस किए गए, जो भूकंप स्थल से 226 किमी दूर है।

गांजी तिब्बती स्वायत्त प्रान्त के सूचना कार्यालय ने कहा कि सड़कों, दूरसंचार और घरों को हुए नुकसान की अभी जांच की जा रही है। समाचार एजेंसी शिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, प्रीफेक्चर ने 600 से अधिक बचावकर्मियों को भेजा है और 300 कर्मी बचाव प्रयासों में शामिल होने, सड़कों की मरम्मत करने और ड्रोन भेजने के लिए उपरिकेंद्र क्षेत्र में पहुंचे हैं। प्रांत ने भूकंप के लिए आपातकालीन प्रतिक्रिया के दूसरे उच्चतम स्तर को सक्रिय कर दिया है।


जानकारी के मुताबिक दोपहर में 12 बजकर 25 मिनट पर भूकंप के झटके महसूस किए गए। भूकंप इतना तेज रहा कि इमारतें हिलने लगीं, लोग बाहर आ गए और अफरा-तफरी मच गई। तबाही में अभी तक 21 लोगों की मौत हो चुकी है और कई लोग घायल हैं। कई जगहों पर रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है।

गौरतलब है कि जिस सिचुआन प्रांत में भूकंप के झटके आए हैं, वो तिब्बत के पड़ोस में स्थित है। साल 2008 में वहां पर विनाशकारी भूकंप आया था जिसमें 70 हजार के करीब लोगों ने अपनी जान गंवा दी थी। इसके बाद 2013 में भी इसी इलाके में 7 तीव्रता के भूकंप में 200 से ज्यादा लोगों की मौत हुई थी। भूकंप के लिहाज से ये क्षेत्र हमेशा से ही संवेदनशील रहा है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;