तुर्की के राष्ट्रपति एर्दोगन ने संयुक्त राष्ट्र में फिर अलापा कश्मीर का राग, लेकिन इस बार बदले-बदले थे तेवर

तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तईप एर्दोगन ने फिर से संयुक्त राष्ट्र में कश्मीर का मुद्दा उठाया है, लेकिन उनका बयान पिछले दो वर्षो की तुलना में हल्का था।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तईप एर्दोगन ने फिर से संयुक्त राष्ट्र में कश्मीर का मुद्दा उठाया है, लेकिन उनका बयान पिछले दो वर्षो की तुलना में हल्का था। उन्होंने मंगलवार को महासभा के शिखर सम्मेलन में अपने भाषण में कहा, "हम पार्टियों के बीच बातचीत के माध्यम से और प्रासंगिक संयुक्त राष्ट्र प्रस्तावों के ढांचे के भीतर 74 वर्षो से कश्मीर में चल रही समस्या को हल करने के पक्ष में खड़े हैं।"


लेकिन पिछले साल उन्होंने कश्मीर की स्थिति को एक "ज्वलंत मुद्दा" बताया था और कश्मीर के लिए विशेष दर्जे को समाप्त करने की आलोचना की थी। एर्दोगन ने भारतीय केंद्र शासित प्रदेश का जिक्र करते 2019 में कहा था कि "स्वीकृत प्रस्तावों के बावजूद, कश्मीर अभी भी घिरा हुआ है और आठ मिलियन लोग कश्मीर में फंस गए हैं।"

उस वर्ष महातिर मोहम्मद, जो उस समय मलेशिया के प्रधानमंत्री थे, कश्मीर को लाने में एर्दोगन के साथ शामिल हुए। उन्होंने एक उग्र बयान में कहा कि भारत ने कश्मीर पर "आक्रमण किया और कब्जा कर लिया।" लेकिन पिछले साल सरकार बदलने के साथ मलेशिया कश्मीर को नहीं लाया।



2019 में एर्दोगन के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तुर्की की एक निर्धारित यात्रा रद्द कर दी थी। भारत का कहना है कि 1972 के शिमला समझौते के तहत प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी और जुल्फिकार अली भुट्टो, जो उस समय पाकिस्तान के राष्ट्रपति थे, के बीच कश्मीर एक द्विपक्षीय मामला है और इसका अंतर्राष्ट्रीयकरण नहीं किया जाना चाहिए।

मंगलवार को अपने भाषण में, एर्दोगन ने चीन में उइगर मुस्लिम अल्पसंख्यक के सामने आने वाली समस्याओं का भी उल्लेख किया। उन्होंने कहा, "चीन की क्षेत्रीय अखंडता के परिप्रेक्ष्य में, हम मानते हैं कि मुस्लिम उइगर तुर्कों के मूल अधिकारों के संबंध में और अधिक प्रयास प्रदर्शित करने की आवश्यकता है।"

उइगर अल्पसंख्यक के सदस्यों को शिविरों में रखा जा रहा है और चीन के बहुमत से अभिभूत उनके धर्म और उनकी संस्कृति और भाषा का अभ्यास करने पर प्रतिबंध का सामना करना पड़ रहा है।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia