तुर्की में मिले रूस और यूक्रेन के विदेश मंत्री, पुतिन-जेलेंस्की के बीच शिखर वार्ता की संभावना पर की चर्चा

रूस और यूक्रेन के विदेश मंत्रियों - सर्गेई लावरोव और दिमित्री कुलेबा ने तुर्की में अपने पहले दौर की वार्ता की, जिसमें दोनों देशों के नेताओं ने रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और वलोडिमिर जेलेंस्की के बीच शिखर वार्ता की संभावना पर चर्चा की।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

आईएएनएस

रूस और यूक्रेन के विदेश मंत्रियों - सर्गेई लावरोव और दिमित्री कुलेबा ने तुर्की में अपने पहले दौर की वार्ता की, जिसमें दोनों देशों के नेताओं ने रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और उनके यूक्रेनी समकक्ष वलोडिमिर जेलेंस्की के बीच शिखर वार्ता की संभावना पर चर्चा की।

दोनों देशों के बीच पिछले 15 दिनों से युद्ध जारी है और इस संघर्ष को समाप्त करने के उद्देश्य से ही रूसी और यूक्रेनी विदेश मंत्रियों ने तुर्की में बैठक की है।

उच्च-स्तरीय कूटनीति के जरिए संघर्ष को खत्म करने का यह प्रयास ऐसे समय पर सामने आया है, जब रूसी मांगों पर विचार करने के लिए जेलेंस्की कुछ नरम पड़ते दिखाई दिए हैं, जिसमें क्रीमिया को रूसी क्षेत्र के रूप में मान्यता और अलग-अलग डोनेट्स्क और लुहान्स्क गणराज्यों की स्थिति शामिल है, जिन्हें मॉस्को द्वारा संप्रभु राज्यों के रूप में मान्यता दी गई है।

तुर्की के विदेश मंत्री द्वारा आयोजित अपनी बैठक के बाद - अंताल्या के रिसॉर्ट शहर में, रूसी विदेश मंत्री ने युद्ध को समाप्त करने के लिए रूसी मांगों पर विस्तार से बात की। लावरोव ने जोर देकर कहा कि मॉस्को चाहता है कि यूक्रेन तटस्थ रहे। बदले में मॉस्को यूक्रेन, यूरोपीय देशों और रूस के लिए सुरक्षा गारंटी पर चर्चा करने के लिए तैयार है। लावरोव ने कहा कि मॉस्को यूक्रेन के साथ मैत्रीपूर्ण संबंध चाहता है - एक ऐसा देश जिसे रूसी भाषा और संस्कृति पर प्रतिबंध लगाने के लिए काम नहीं करना चाहिए।


24 फरवरी को एक सैन्य आक्रमण शुरू करने के बाद, राष्ट्रपति पुतिन ने कहा था कि विशेष अभियान का उद्देश्य देश को विसैन्यीकरण और डी-नाजिफाई (नाजियों से छुटकारा) करना है। रूसी पक्ष ने कहा कि मॉस्को के पास कोई अन्य विकल्प नहीं बचा है, क्योंकि कीव मिन्स्क समझौतों को लागू करने में विफल रहा है - एक एकीकृत यूक्रेनी स्टेट के भीतर रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण क्षेत्र में जातीय रूसियों के अधिकारों की रक्षा के लिए एक राजनयिक खाका। इसके अलावा, यूक्रेन ने बुडापेस्ट मेमोरेंडम से हटने की धमकी दी थी, जो यूक्रेन की स्थिति को गैर-परमाणु हथियार राज्य के रूप में गारंटी देने का आधार है।

रूसी पक्ष ने इस पर भी जोर दिया है कि नाटो को 1997 के नाटो-रूस संस्थापक अधिनियम 1997 का पालन करना चाहिए, जिसने उस वर्ष के लिए स्ट्राइक (क्षमताओं) और नाटो के बुनियादी ढांचे सहित समूह की सैन्य क्षमताओं को रोक दिया। लेकिन 2008 में नाटो ने 'बुखारेस्ट फॉर्मूला' अपनाया, जिसने दो पूर्व सोवियत स्टेट्स - जॉर्जिया और यूक्रेन को कवर करने के लिए समूह का विस्तार करने की चेतावनी दी।

इससे पहले क्रेमलिन के प्रवक्ता दिमित्री पेसकोव ने स्पष्ट कर दिया था कि यूक्रेन की तटस्थता उसके संविधान में निहित होनी चाहिए। इस बात पर जोर देते हुए कि मॉस्को राजनयिक ट्रैक को नहीं छोड़ेगा, लावरोव ने जोर देकर कहा कि रूस और यूक्रेन के बीच बातचीत के मुख्य मेजबान के रूप में बेलारूस का कोई विकल्प नहीं है।


लावरोव ने कहा, "आज की बातचीत ने पुष्टि की है कि (बेलारूसी) ट्रैक (वार्ता के लिए) के पास कोई विकल्प नहीं है।" उन्होंने कहा कि शुक्रवार को यूक्रेन के विदेश मंत्री दिमित्री कुलेबा के साथ उनकी वार्ता के एजेंडे में संघर्ष-विराम पर बातचीत का मुद्दा नहीं था।

विदेश मंत्री ने इस बात पर प्रकाश डाला कि मॉस्को यूक्रेन में मौजूदा संकट को समाप्त करने के उद्देश्य से किसी भी संपर्क का समर्थन करता है, लेकिन यह भी कहा कि इन चैनलों के पास मॉस्को के लिए उनका समर्थन करने के लिए 'एडिड वैल्यू' होनी चाहिए।

लावरोव ने कहा, "हम इस आधार पर कार्य करते हैं कि इन संपर्को का उपयोग बेलारूसी क्षेत्र में विकसित हो रहे वास्तविक मुख्य वार्ता ट्रैक को बदलने या अवमूल्यन करने के लिए नहीं किया जाएगा - कुछ ऐसा, जो हमारे सहयोगी, जिनमें ज्यादातर यूक्रेनी हैं, नियमित रूप से करते हैं।"

लावरोव ने जोर देकर कहा कि राष्ट्रपति पुतिन कभी भी संपर्कों को 'ना' नहीं कहते हैं, जब तक कि ये बातचीत 'स्वयं बैठकों के लिए' आयोजित नहीं की जाती हैं। समाचार वेबसाइट स्पुतनिक ने बताया कि क्रेमलिन ने अभी तक इस बात की पुष्टि नहीं की है कि इस तरह की वार्ता आयोजित की जा रही है, लेकिन इस विषय को तुर्की में यूक्रेन के विदेश मंत्री दिमित्री कुलेबा के साथ लावरोव की बातचीत के दौरान उठाया गया है।

(यह आलेख इंडियानैरेटिव डॉट कॉम के साथ एक व्यवस्था के तहत लिया गया है)

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia