हाई बीपी के मरीज सावधान! बूस्टर डोज के बाद भी ओमिक्रॉन की गंभीरता का जोखिम दोगुना कर सकती है यह बीमारी: शोध

उच्च रक्तचाप रहने से कोविड के टीकों की बूस्टर खुराक लेने के बावजूद ओमिक्रॉन-वेरिएंट के संक्रमण के कारण अस्पताल में भर्ती होने का जोखिम दोगुना से अधिक हो जाता है। एक नए शोध में यह निष्कर्ष निकाला गया है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

उच्च रक्तचाप रहने से कोविड के टीकों की बूस्टर खुराक लेने के बावजूद ओमिक्रॉन-वेरिएंट के संक्रमण के कारण अस्पताल में भर्ती होने का जोखिम दोगुना से अधिक हो जाता है। एक नए शोध में यह निष्कर्ष निकाला गया है। हाइपरटेंशन जर्नल में प्रकाशित शोध निष्कर्ष के मुताबिक, हाई बीपी वाले व्यक्तियों को गंभीर कोविड संक्रमण के बाद अस्पताल में भर्ती कराने की जरूरत 2.6 गुना अधिक रहती है, भले ही उन्हें पहले से कोई और गंभीर बीमारी न हो।

सेंटर्स स्मिड्ट हार्ट इंस्टीट्यूट में कार्डियोलॉजी के सहायक प्रोफेसर लीड लेखक जोसेफ ई. एबिंगर ने कहा, "ब्रेकथ्रू ओमिक्रॉन संक्रमण गंभीर रूप से अस्पताल में भर्ती होने का कारण बन सकता है, यह किसी भी उम्र के वयस्क को हो सकता है, खासकर अगर किसी व्यक्ति को उच्च रक्तचाप है, भले ही उसे कोई अन्य बड़ी पुरानी बीमारी न हो।


शोधकर्ताओं ने 912 वयस्कों का पूर्वव्यापी अध्ययन किया, जिन्हें एमआरएनए कोविड वैक्सीन (या तो फाइजर-बायोएनटेक या मॉडर्न) की कम से कम तीन खुराक मिली थी और दिसंबर 2021 और अप्रैल 2022 के बीच ओमिक्रॉन के मामलों में उछाल के दौरान कोविड-19 का इलाज किया गया था।

विश्लेषण में पाया गया कि जिन 912 वयस्कों को एमआरएनए कोविड वैक्सीन की तीन खुराक मिली, उनमें से लगभग 16 प्रतिशत को अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत थी। अस्पताल में भर्ती 145 मरीजों में से 125 (86.2 फीसदी) को हाई बीपी था।


एबिंगर ने कहा, "हमें जागरूकता और समझ बढ़ाने की जरूरत है कि एक टीके की तीन खुराक प्राप्त करने से सभी में गंभीर कोविड-19 को रोका नहीं जा सकता, खासकर उच्च रक्तचाप वाले लोगों में। हमें कोविड-19 और उच्च रक्तचाप के संबंध को समझने के लिए और अधिक शोध करने की जरूरत है।"

शोधकर्ताओं ने कहा कि आगे के अध्ययन में इस बात पर जोर दिया गया है कि गंभीर कोविड संक्रमण के जोखिम को कैसे कम किया जाए।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;