हिंदू-अमेरिकी तुलसी गबार्ड ने राष्ट्रपति बाइडेन पर लगाए गंभीर आरोप, हिटलर से की तुलना

डेमोक्रेटिक पार्टी छोड़ने की घोषणा करते हुए अमेरिकी कांग्रेस की पहली हिंदू सदस्य तुलसी गबार्ड ने राष्ट्रपति जो बाइडेन की तुलना नाजी नेता एडोल्फ हिटलर से की।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

डेमोक्रेटिक पार्टी छोड़ने की घोषणा करते हुए अमेरिकी कांग्रेस की पहली हिंदू सदस्य तुलसी गबार्ड ने राष्ट्रपति जो बाइडेन की तुलना नाजी नेता एडोल्फ हिटलर से की। गबार्ड ने अपने पहले वीकेंड के दौरान 8 नवंबर के मध्यावधि चुनावों के प्रचार अभियान के दौरान यह टिप्पणी की।

द डेली बीस्ट द्वारा रविवार को प्राप्त ऑडियो के अनुसार, हाल ही में मैनचेस्टर के बाहर एक शहर में एक टाउन हॉल कार्यक्रम में बोलते हुए उन्होंने कहा कि वह आश्वस्त हैं कि बाइडेन और हिटलर दोनों की सत्तावाद को लेकर एक ही मानसिकता है।

गबार्ड ने कहा, मुझे पूरा यकीन है कि वे मानते हैं कि जो वह कर रहे हैं, वो सबसे अच्छा है। ऐसा ही हिटलर ने भी सोचा था कि वह वही कर रहा है, जो जर्मनी के लिए सबसे अच्छा है, है ना?

गबार्ड, जो कभी डेमोक्रे टिक नेशनल कमेटी की उपाध्यक्ष थीं, ने पिछले हफ्ते घोषणा की कि वह पार्टी छोड़ रही हैं। उन्होंने दावा किया कि डेमोकेट्रिक पार्टी एलीट लोगों के कंट्रोल में है। ये जंग की बातें करते हैं।


मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, 2020 में पार्टी की प्रेसिडेंट न बन पाने के बाद से ही गबार्ड डेमोक्रे टिक पार्टी के भीतर खुद को अलग-थलग महसूस कर रही थीं। राष्ट्रपति बाइडेन के कट्टर आलोचक, गबार्ड ने कहा था कि बाइडेन आग पर पेट्रोल छिड़कने वाली बातें करते हैं। इससे देश में विभाजन की आशंका बढ़ रही है।

उन्होंने एक ट्वीट में कहा, आज डेमोकेट्रिक पार्टी हर मुद्दे पर नस्लभेद करके, श्वेत-विरोधी नस्लवाद भड़काकर अपने राजनीतिक लाभ के लिए हमारे संविधान में दी गई आजादी को कमजोर करने का काम कर रहे हैं।

गबार्ड ने कांग्रेस में शामिल होने से पहले 2004 और 2005 के बीच हवाई सेना नेशनल गार्ड के लिए इराक युद्ध में सेवा की। गबार्ड लंबे समय से विदेशों में अमेरिकी हस्तक्षेप के आलोचक रही हैं। उन्होंने बाइडेन की विफल विदेश नीति को यूक्रेन पर रूस के आक्रमण के लिए दोषी ठहराया है। सोमवार को एक रेडियो इंटरव्यू में, गबार्ड ने भविष्य की महत्वाकांक्षाओं के बारे में पूछे जाने पर राष्ट्रपति का चुनाव लड़ने से इनकार नहीं किया।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;