जापान में भूकंप के झटकों से भारी तबाही, अंधेरे में डूबे 36 हजार घर, तट तक पहुंचीं सुनामी की लहरें

क्योडो न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, पूर्वी जापान रेलवे कंपनी ने भूकंप के कारण तोहोकू, जोएत्सु और होकुरिकु शिंकानसेन लाइनों का परिचालन निलंबित कर दिया है। होकुरिकु इलेक्ट्रिक पावर कंपनी ने कहा कि 36,000 से अधिक घरों में बिजली कटौती का सामना करना पड़ रहा है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

जापान के पश्चिमी तट पर सोमवार दोपहर में आए तेज भूकंप के बाद इशिकावा प्रान्त में 1.2 मीटर से अधिक ऊंची सुनामी लहरें उटीं। स्थानीय मीडिया ने यह जानकारी दी। श‍िन्हुआ समाचार एजेंसी ने बताया, रिपोर्ट्स के मुताबिक, जापान के पश्चिमी तट पर टोयामा प्रान्त में भी स्थानीय समयानुसार शाम 4:23 बजे 50 सेंटीमीटर की सुनामी लहरें आने की सूचना मिली।

एनएचके के अनुसार, लहरें पांच मीटर तक पहुंच सकती है और अधिकारियों ने लोगों से जितनी जल्दी हो सके ऊंची भूमि या पास की इमारत के शीर्ष पर भागने का आग्रह किया है।

क्योडो न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, पूर्वी जापान रेलवे कंपनी ने भूकंप के कारण तोहोकू, जोएत्सु और होकुरिकु शिंकानसेन लाइनों का परिचालन निलंबित कर दिया है। होकुरिकु इलेक्ट्रिक पावर कंपनी ने कहा कि 36,000 से अधिक घरों में बिजली कटौती का सामना करना पड़ रहा है। इसमें कहा गया है कि जापानी सरकार ने टोक्यो में प्रधान मंत्री कार्यालय में एक आपातकालीन प्रतिक्रिया कार्यालय स्थापित किया है।


इससे पहले दिन में, जापान मौसम विज्ञान एजेंसी (जेएमए) ने इशिकावा, फुकुई, निगाता, टोयामा, यामागाटा और अन्य प्रांतों सहित देश के पश्चिमी तट के व्यापक हिस्से के लिए सुनामी की चेतावनी जारी की थी, इसमें कई शक्तिशाली भूकंपों की श्रृंखला देखी गई थी। मध्य जापान में जापान सागर के तट पर 7.6 तीव्रता तक का झटका आया।

मौसम एजेंसी के मुताबिक, सबसे बड़ा भूकंप शाम 4:10 बजे आया। इशिकावा प्रान्त में नोटो प्रायद्वीप पर जापानी भूकंपीय तीव्रता पैमाने पर अधिकतम 7 दर्ज किया गया। इससे मध्य टोक्यो में इमारतें भी हिल गईं।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;