टोक्यो हवाई अड्डे पर विमान की टक्कर का असर, 300 से अधिक उड़ानें रद्द

मंगलवार शाम की घटना के कारण हवाईअड्डे को देर रात तक कई घंटों के लिए सभी रनवे बंद करने पड़े, इसके कारण हानेडा से आने-जाने वाली 226 उड़ानें रद्द कर दी गईं, इससे 40,000 से अधिक यात्री प्रभावित हुए।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

379 लोगों को लेकर जा रहा जापान एयरलाइंस (जेएएल) का एयरबस ए350 टोक्यो के हानेडा हवाईअड्डे पर उतरते समय दूसरे विमान से टकरा गया, इसके बाद 300 से अधिक उड़ानें रद्द कर दी गईं।

समाचार एजेंसी श‍िन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, मंगलवार शाम की घटना के कारण हवाईअड्डे को देर रात तक कई घंटों के लिए सभी रनवे बंद करने पड़े, इसके कारण हानेडा से आने-जाने वाली 226 उड़ानें रद्द कर दी गईं, इससे 40,000 से अधिक यात्री प्रभावित हुए।

बुधवार को तीन रनवे फिर से खुलने के बावजूद, उस दिन अभी भी लगभग 100 उड़ानें रद्द होने की उम्मीद है, इससे 19,000 यात्रियों की यात्रा योजनाएं बाधित होंगी। मंगलवार शाम लगभग 6 बजे, जेएएल फ्लाइट 516, जो होक्काइडो प्रान्त के न्यू चिटोस हवाई अड्डे से टोक्यो के लिए उड़ान भरी थी, हनेडा के सी-रनवे पर उतर रही थी, तभी तटरक्षक उड़ान एमए-722, एक बॉम्बार्डियर डैश-8, उससे टकरा गई। दोनों विमानों में आग लग गई।

टेलीविज़न फ़ुटेज में दिखाया गया कि जेएएल विमान जब रनवे पर चढ़ रहा था तो उसके किनारे से आग की तेज़ लपटें निकल रही थीं। इसके बाद विंग के आसपास के क्षेत्र में आग लग गई। एक घंटे बाद देखे गए फुटेज में विमान में आग लगी हुई दिखाई दे रही है।


एमए-722 पर सवार चालक दल के छह सदस्यों में से पांच की मौत की पुष्टि की गई, जबकि कैप्टन जो पहले भागने में सफल रहा वह गंभीर रूप से घायल हो गया। कोस्टगार्ड के प्रवक्ता योशिनोरी यानागिशिमा के अनुसार, सोमवार दोपहर को मध्य जापान में आए 7.6 तीव्रता के भूकंप के बाद कोस्ट गार्ड का विमान, जो हानेडा हवाईअड्डे से संबंधित है, निगाटा प्रान्त में भूकंप प्रभावित क्षेत्रों के लिए राहत सामग्री पहुंचाने के लिए रनवे पर टैक्सी चला रहा था।

इस बीच, जेएएल फ्लाइट में सवार सभी 367 यात्री और चालक दल के 12 सदस्य हवाई जहाज से बच गए, जबकि टक्कर के बाद बिना किसी जानलेवा चोट के विमान में आग लग गई थी।

टोक्यो अग्निशमन विभाग ने कहा कि दुर्घटना के बाद आग बुझाने में आठ घंटे से अधिक का समय लगा।

राष्ट्रीय प्रसारक एनएचके ने परिवहन मंत्रालय के सूत्रों का हवाला देते हुए बताया कि हानेडा हवाई यातायात नियंत्रक ने दुर्घटना होने से पहले यात्री विमान को रनवे पर उतरने की अनुमति दी थी, और तटरक्षक विमान को "रनवे से दूर रहने" का आदेश दिया था।

हवाई जहाज, ट्रेनों और जहाजों से जुड़ी गंभीर दुर्घटनाओं की जांच करने वाली सरकार से संबद्ध एजेंसी जापान ट्रांसपोर्ट सेफ्टी बोर्ड ने बुधवार को दुर्घटना के कारण की जांच और विमान के मलबे की जांच शुरू कर दी।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;